clock-icon

mobile-icon
  • पांचजन्य के पूर्व संपादक श्री देवेन्द्र स्वरूप का निधन
  • संत योद्धा गुरु गोबिंद सिंह की जयंती पर विशेष
  • मास्टर सूर्यसेन के नाम से ही दहल जाती थी अंग्रेजी सरकार
  • जयंती विशेष: युवाओं के पथ प्रदर्शक थे स्वामी विवेकानंद
  • कनाडा ने माना-खालिस्तानी आतंकी हैं
  • राम सत्य हैं उनके मंदिर के लिए साक्ष्यों की कमी नहीं
  • कांग्रेस और कम्युनिस्ट नहीं चाहते मुस्लिम महिलाओं के साथ हो न्याय
  • रफाल और राहुल का पूरा चिट्ठा
  • क्या वास्तव में घट रही है मोदी की लोकप्रियता ?
  • राममंदिर: पिछले 30 वर्षों से क्यों सुलग रहा यह विषय ?
  • श्रीरामसेतु के बारे में यह नहीं जानते होंगे आप
  • घट-घट में बसे हैं राम
  • विश्व का सबसे बड़ा मेला जहां आस्था के लिए जुटते हैं करोड़ों लोग
जल न जाए ‘हाथ’!

जल न जाए ‘हाथ’!

अंग्रेजी नए साल पर आतिशबाजी देखकर एक सवाल सैकड़ों लोगों के मन में आया- क्या पटाखों की बिक्री और समय की पाबंदी सिर्फ दीपावली के लिए थी! सवाल का जवाब पाबंदी लगाने वाले जानें, हम तो यह जानते हैं कि अपने यहां पटाखे छोड़ने की हुड़क कुछ ऐसी है कि इसे लेकर सभी को बचपन में कभी न कभी नसीहत जरूर मिली होगी।
बांग्लादेश में हसीना की जीत के मायने

बांग्लादेश में हसीना की जीत के मायने

शेख हसीना की अवामी लीग संसदीय चुनावों में 300 में से 288 सीटों पर विजयी रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हसीना को फोन पर बधाई दी। उम्मीद है, वहां भारत-हित पर और अधिक ध्यान दिया जाएगा
'राम मंदिर हम ही बनवाएंगे कोई दूसरा नहीं'

'राम मंदिर हम ही बनवाएंगे कोई दूसरा नहीं'

भारत दुनिया का सबसे युवा देश है और भारत के युवाओं में अपार ऊर्जा है। युवाओं से मैं कहना चाहता हूं कि यह ऊर्जा सकारात्मक रूप से राष्ट्र निर्माण के क्षेत्र में लगनी चाहिए
उत्तर प्रदेश पर मंडरा रहा आतंकी साया

उत्तर प्रदेश पर मंडरा रहा आतंकी साया

आतंकी संगठन काफी समय से उत्तर प्रदेश में बड़ी आतंकी साजिश की फिराक में हैं। कुछ महीने पहले, कानपुर में गणेश उत्सव के दौरान भक्तों की भीड़ में बम विस्फोट कर बड़ी जनहानि की घटना का षड्यन्त्र रचा जा रहा था मगर उत्तर प्रदेश पुलिस की एंटी टेररिस्ट स्क्वायड (ए.टी.एस ) ने उस षड्यंत्र को नाकाम कर दिया। कुछ समय पहले, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का छात्र आतंकवादी संघठन का कमांडर बन कर सुरक्षा बलों के लिए काफी चुनौती बना हुआ था।
आर्थिक क्षेत्र में कैसे मजबूत हो रहा भारत

आर्थिक क्षेत्र में कैसे मजबूत हो रहा भारत

पिछले चार साल में भारत ने आर्थिक पायदानों पर जिस तेजी से आगे की तरफ कदम बढ़ाए हैं, वह असाधारण है। व्यापार की सुगमता हो या लाल फीताशाही से छुट्टी, भारत में अब विदेशी निवेशकों के लिए एक सकारात्मक माहौल दिखता है
ईज ऑफ डूइंग बिजनेस' में भारत की छलांग, कारोबार करना हुआ और आसान

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस' में भारत की छलांग, कारोबार करना हुआ और आसान

आज से एक साल पहले जारी इस रैंकिंग में भारत 100वें स्थान पर था लेकिन बुधवार को विश्व बैंक ने भारत को 77वां स्थान दिया है। इस रैंक से अंदाजा लगाया जा सकता है कि मोदी सरकार की नीतियों के चलते भारत में कारोबार करना आसान हुआ है।
दुनियाभर में अमेरिका गैस—तेल की पाइपलाइन बिछाना चाहता है पर नहीं हो रहा सफल

दुनियाभर में अमेरिका गैस—तेल की पाइपलाइन बिछाना चाहता है पर नहीं हो रहा सफल

विश्व में अमेरिकी प्रभुत्व को बनाए रखने के लिए जहां ऊर्जा के स्रोत और रास्ते हैं, वहां सामरिक भागीदार की जरूरत भी है। यह पूरे यूरेशिया क्षेत्र में सामरिक संगठन में अधिक सहयोग से संभव है।'' ये शब्द हैं, पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जिमी कार्टर के सुरक्षा मामलों के सलाहकार ब्रेजिन्स्की के।

तिलक लगाने के चमत्कारिक प्रभाव और लाभ!

तिलक लगाने के चमत्कारिक प्रभाव और लाभ!
तिलक लगाने की परंपरा कब से और कैसे शुरू हुई यह बताना थोड़ा कठिन है, लेकिन यह परंपरा भारत में प्राचीनकाल से ही चली आ रही है। किसी आयोजन में आने वाले व्यक्ति का स्वागत-सत्कार तिलक लगाकर ही करते हैं।
आगे पढ़े

दीप-स्तम्भ की तरह चमकेगा भारत

दीप-स्तम्भ की तरह चमकेगा भारत
इस देश का युवा जिस दिन विज्ञान, निर्माण और खेल के क्षेत्र में गोल्ड मेडल पाएगा, उस दिन माना जाएगा कि हमने मंदिर बनाया है।हमें राष्ट्र निर्माण का मंदिर बनाना है, तभी भारत ऊंचा उठेगा
आगे पढ़े

‘हम धार्मिक हैं, इसीलिए पंथ निरपेक्ष हैं’

‘हम धार्मिक हैं, इसीलिए पंथ निरपेक्ष हैं’
दुनिया को यदि विनाश से बचना है तो उसे भारत की शरण लेनी होगी। हम सर्वे भवंतु सुखिन: की बात करते हैं। दुनिया को हिंदुओं से सीखना चाहिए कि परिवार कैसे चलता है
आगे पढ़े

संस्कृति जीवंत रखने के लिए सेवा भाव जरूरी

संस्कृति जीवंत रखने के लिए सेवा भाव जरूरी
पद, प्रतिष्ठा, पैसा, पुरस्कार, इस उद्देश्य से किया गया कार्य, कर्म हो सकता है मगर सेवा नहीं। सेवा का तात्पर्य, ईश्वर को समर्पित किया गया कार्य होता है।
आगे पढ़े

अटल जी साहित्यकार बनना चाहते थे

अटल जी साहित्यकार बनना चाहते थे
शिवकुमार करीब 50 साल सहयोगी के रूप में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के साथ रहे। इस लंबे समय के दौरान उन्होंने अटलजी को जैसा देखा, जैसा जाना उसके आधार पर प्रस्तुत है उनका संस्मरणात्मक आलेख
आगे पढ़े

मुस्लिम परिवार ने मृत्युपरांत किया शरीर आर्मी मेडिकल कॉलेज को दान

मुस्लिम परिवार ने मृत्युपरांत किया शरीर आर्मी मेडिकल कॉलेज को दान
दधिचि देहदान समिति के प्रयासों से संस्कृति विहार, गौर सिटी2 के रहने वाले मयूर भमानी ने अपने मामा मोहम्मद अली इस्माइल मुल्कियानी की देह उनकी मृत्यु के उपरांत मेडिकल विद्यार्थियों की शिक्षा के लिए ऑर्मी मेडिकल कॉलेज को दान की।
आगे पढ़े

अब गूंजे पार्थ के धनुष की टंकार

अब गूंजे पार्थ के धनुष की टंकार
मर्यादा की रक्षा के लिये उद्धत वीर अपने लक्ष्य में सदैव सफल हुआ करते थे
आगे पढ़े

गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान

गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान
प्राचीन काल से ही नदियों किनारे लगने वाले मेलों का भारतीय संस्कृति में बहुत महत्व है। कुंभ और अर्द्धकुंभ के साथ ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लगने वाले क्षेत्रीय मेलों की भी अपनी महत्ता है। कार्तिक पूर्णिमा पर वेस्ट यूपी में गंगा नदी पर कई भव्य मेलों का आयोजन होता है। इनमें हापुड़ जनपद के गढ़मुक्तेश्वर में कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाले गंगा मेले का संबंध महाभारत काल से है। बताया जाता है कि महाभारत युद्ध के बाद सम्राट युधिष्ठिर ने युद्ध में मारे गए असंख्य लोगों की आत्मा की शांति के लिए गढ़मुक्तेश्वर में गंगा नदी
आगे पढ़े

हिन्दुओं से क्यों युद्धरत हैं सेकुलर क्या हिंदू अरब द्वीव में फंसे निरीह व निर्बल हैं ?

हिन्दुओं से क्यों युद्धरत हैं सेकुलर क्या हिंदू अरब द्वीव में फंसे निरीह व निर्बल हैं ?
यह प्रश्न आस्था, विश्वास व श्रद्धा से अलग है। आज हिन्दुओं का हर त्योहार, दीवाली से होली तक सेकुलर सुधार की प्रयोगशाला में हमले का शिकार है। शबरीमला में विकृत, दूषित मानस से पुलिस संरक्षण में अहिन्दू शत्रु खुलकर चुनौती देते हैं और 'द टाइम्स ऑफ इंडिया' उन्हें 'शबरीमला' के 'हीरो' घोषित करता है।
आगे पढ़े

जगमग होगी अयोध्या, 3 लाख दिए जलाए जाएंगे दीवाली पर

जगमग होगी अयोध्या, 3 लाख दिए जलाए जाएंगे दीवाली पर
मुख्य अतिथि के तौर पर आम आमंत्रित कोरिया गणराज्य की प्रथम महिला किम जोंग सुक व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ दीपोत्सव की शुरूआत करेंगी। चार दिनों की भारत यात्रा पर आ रहीं सूक के साथ दक्षिण कोरिया का एक शिष्टमंडल भी होगा भगवान राम की जन्मभूमि अयोध्या में इस बार दीवाल और भी खास होगी। अयोध्या में इस वर्ष दीपोत्सव में तीन लाख दिए जलाए जाएंगे। एक साथ इतने दिए जलाए जाने के मौके पर रिकॉर्ड दर्ज करने के लिए गिनीज बुक की टीम भी मौजूद रहेगी। पूरे आयोजन में तीन लाख दीपक जलेंगे। इसमें 11655 लीटर तेल सहित चार लाख
आगे पढ़े
प्रक्षेपण के बाद भारत का मंगलयान कर रहा कमाल

प्रक्षेपण के बाद भारत का मंगलयान कर रहा कमाल

प्रक्षेपण के बाद भारत का मंगलयान कर रहा कमाल

‘‘कानून को आचरण में लाने के लिए धर्म का जाग्रत होना आवश्यक’’

समाज के लिए कानून बनाए जाते हैं। परन्तु जो कानून में है, उसे आचरण में लाने के लिए धर्म का जाग्रत होना आवश्यक है। समाज धर्म से चलता है। धर्म का अर्थ पूजा नहीं, बल्कि धर्म का अर्थ मानवता है।’’ उक्त बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहनराव भागवत ने कही।

‘‘सारे भेद भुलाकर संगठित रहेंगे तो ही शक्तिशाली बनेंगे’’

गत दिनों उत्तर प्रदेश के आगरा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों का एकत्रीकरण हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री भैयाजी जोशी उपस्थित थे।

‘‘ देश की कोई ताकत मंदिर बनने से नहीं रोक सकती ’’

कार्यक्रम को संबोधित करते डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामीगत 17 नवंबर को अरुंधति वशिष्ठ अनुसंधान पीठ, प्रयागराज द्वारा विश्व हिन्दू परिषद के संरक्षक रहे स्व. अशोक सिंहल की पुण्यतिथि पर काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी के स्वतंत्रता भवन में ‘श्रद्धेय अशोक सिंहल स्मृति व्याख्यान’ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता थे राज्यसभा सांसद व अरुंधति वशिष्ठ अनुसंधान पीठ के अध्यक्ष डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हमारा देश ऐतिहासिक मोड़ पर है जो राष्ट्र निर्माण का मोड़ है। राम राष्ट्रीय

विभिन्न मांगों को लेकर जनजातीय बंधुओं ने निकाला मोर्चा

महाराष्ट्र के जनजातीय बंधुओं की लंबित मांगों तथा वनवासियों के रूप में फर्जी पंजीकरण कराने वालों पर कार्रवाई किए जाने की मांग को लेकर वनवासी कल्याण आश्रम की ओर से गत 15 नवंबर को मुंबई में मोर्चा निकाला गया। उल्लेखनीय है कि वनवासी कल्याण आश्रम हितरक्षा प्रकल्प के माध्यम से जनजातीय समाज की समस्याओं का समाधान करने का प्रयास कर रहा है। इसी प्रयास के तहत समाज की समस्याओं पर सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए मोर्चे का आयोजन किया गया। इस संबंध में वनवासी कल्याण आश्रम की ओर से मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन दिया गया

‘‘समस्या का धैर्य से सामना करना गीता की पहली सीख’’

समस्या सामने आने पर पीठ नहीं दिखाना, यह श्रीमद्भगवद्गीता की पहली सीख है। गीता को जन-जन तक पहुंचाना होगा। अगर श्रीमद्भगवदगीता घर-घर तक पहुंचे और उस पर सच्चे अर्थों में आचरण हो तो भारत आज की तुलना में सौ गुना सामर्थ्य के साथ विश्वगुरु के रूप में सामने आ सकता है।

यूनेस्को ने दिया कुंभ को मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर का दर्जा

पिछले दिनों यूनेस्को ने भारत में होने वाले कुंभ मेले को मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर का दर्जा दिया है। दक्षिण कोरिया के जेजू में 4-9 दिसंबर तक हुए सम्मेलन में यह घोषणा की गई। विदेश मंत्रालय के मुताबिक यूनेस्को की विशेषज्ञ समिति ने कुंभ मेले को प्रतिनिधि सूची में शामिल करने का यह फैसला सभी सदस्य देशों की ओर से मिले प्रस्तावों की विवेचना के बाद किया।

‘‘संघ की शाखा संस्कार देने वाला विद्यापीठ’’

पिछले दिनों गोरखपुर स्थित महाराणा प्रताप इण्टर कॉलेज परिसर, गोलघर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा महानगर के स्वयंसेवकों का समागम अयोजित किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय शारीरिक शिक्षण प्रमुख श्री सुनील कुलकर्णी।

‘‘समाज जीवन की दिशा तय करने वाला समागम है कुंभ’’

   समारोह में अपने विचार रखते डॉ. महेंद्र सिंह। मंच पर उपस्थित विशिष्टजनपिछले दिनों जयपुर स्थित महावीर पब्लिक स्कूल के सभागार में युवा कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों से कला, शिक्षा, खेल आदि विधाओं में नेतृत्व कर रहे 700 से अधिक युवा सम्मिलित हुए। चयनित युवा नेतृत्व को 23 दिसंबर, 2018 को लखनऊ में होने वाले युवा विचार महाकुंभ में जाने का अवसर मिलेगा। कार्यक्रम में रा.स्व.संघ, राजस्थान के क्षेत्र प्रचारक श्री निंबाराम एवं उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री डॉ. मह
सब्सक्राइब करें पाञ्चजन्य न्यूज़लेटर
ट्विटर
Facebook Page

Survey

क्या एनआरसी (राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर ) प्रक्रिया पूरे देश में होनी चाहिए ?

बोधिवृक्ष