clock-icon

mobile-icon
  • ‘श्रीराम’ की शरण में सीपीएम
  • सावरकर ने बंटवारे पर पहले ही चेताया था कांग्रेसी नेताओं ने नहीं सुनी
  • चांद-तारे का झंडा इस्लामिक नहीं, मुस्लिम लीग का झंडा
  • मुसलमान बलात्कारियों पर चुप्पी क्यों ?
  • टेरेसा का मिशन सिर्फ कन्वर्जन
  • थरूर के बेतुके बोल कांग्रेस पर पड़ेंगे भारी
  • हिंदी सिनेमा में दागदार किरदार पर फिल्म बनाने का मोह क्यों?
  • कौन कर रहा है भारत को बदनाम करने की साजिश?
  • अफगानिस्तान में खतरे में हिंदू-सिख समुदाय
पेट्रो डॉलर के लोभ में लाद रहे अरबी लिबास

पेट्रो डॉलर के लोभ में लाद रहे अरबी लिबास

भारत में अरबी लिबास वाले मुसलमानों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। जानकारों का कहना है कि पेट्रो डॉलर के लोभ में लोग असहजता के बावजूद अरबी वेशभूषा अपना रहे हैं कुछ दिन पहले मैं दक्षिण भारत के विभिन्न इलाकों में सफर कर रहा था। मेरी ज्यादातर यात्रा ट्रेन से हुई, पर कभी-कभी बस और टैक्सी से भी। यात्रा के दौरान मुझे भारत में इस्लामी रहन-सहन के कई पहलुओं को नजदीक से देखने का मौका मिला। लिबास और आचार-व्यवहार में इन दिनों एक नया चलन देखने को मिल रहा है। हालांकि, पहनावे और आचार-व्यवहार में भारतीय इतिहास और संस्कृति क
बढ़ रहे रोहिंग्या मुसलमानों के रहनुमा

बढ़ रहे रोहिंग्या मुसलमानों के रहनुमा

देश के लिए सिरदर्द बनते जा रहे रोहिंग्या को भले ही केंद्र सरकार देश से बाहर खदेड़ने में जुटी है, लेकिन सचाई तो यह है कि ये घुसपैठिए देश के अनेक स्थानों पर अपनी पैठ बना चुके हैं या फिर बनाने में लगे हैं। इसका ताजा उदाहरण है हिमाचल प्रदेश। यहां की शांत वादियों में रोहिंग्या घुसपैठियों ने दस्तक दे दी है। मजेदार बात यह है कि यह दस्तक कहीं और नहीं, बल्कि प्रदेश की राजधानी और पर्यटन नगरी शिमला में हुई है। वह भी रोहिंग्या को रोजगार देने के मामले में।  संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार फोरम द्वारा जारी ‘शरण
तेल और गैस पर वैश्विक जंग

तेल और गैस पर वैश्विक जंग

मध्य एशिया और अफगानिस्तान में गैस और तेल पर वर्चस्व के खेल की दूसरी बाजी शुरू हो चुकी है। इस लड़ाई में यूरेशिया का भविष्य और लगभग 5 खरब डॉलर कीमत वाले तेल और गैस के व्यापार पर दबदबा दाव पर लगा है। किसी भी देश की तरक्की में तेल और गैस का बड़ा हाथ रहता है, इसलिए इस जंग के बादल मंडराने लगे हैं अमेरिका द्वारा निर्मित बाकू केहान पाइप लाइन 1904 में रॉयल जियोग्राफिकल सोसाइटी के तत्वावधान में भूगोल के प्रोफेसर सर फोर्ड मैकिन्डर ने एक व्याख्यान दिया था। विषय था, 'इतिहास की भौगोलिक धुरी।'इस व्याख्यान ने 20व
कैसा होगा पाकिस्तान के नए नेतृत्व का भारत के लिए रुख?

कैसा होगा पाकिस्तान के नए नेतृत्व का भारत के लिए रुख?

चुनाव में उतरने को तैयार तीन बड़ी पार्टियों-पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी, पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) और तहरीके इंसाफ - के नेताओं के भारत से विभाजन पूर्व संबंध रहे हैं। यह देखना दिलचस्प होगा कि ये जीते तो अपने पुरखों की धरती को लेकर इनका क्या रुख रहेगा
उम्मीदों को लगे पंख

उम्मीदों को लगे पंख

दो दिवसीय निवेशक सम्मेलन के दौरान 1045 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर हुए, जिससे 4.28 लाख करोड़ रुपये का निवेश आएगा। इन समझौतों को अमली जामा पहनाने का काम शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश सरकार की प्राथमिकता 40 लाख् ा युवाओं को रोजगार मुहैया कराना हैसुनील राय

महिला से दुष्कर्म में पादरी गिरफ्तार

पंजाब पुलिस ने जीरकपुर में एक महिला से दुष्कर्म की शिकायत के बाद दिल्ली अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से आरोपी पादरी को गिरफ्तार किया है। जीरकपुर के एसएचओ पवन कुमार ने कहा कि पादरी बजिंदर सिंह को दिल्ली हवाईअड्डे से गिरफ्तार किया गया जहां से वह लंदन की उड़ान भरने वाला था। लंदन में 21 जुलाई को उसका एक कार्यक्रम है। बजिंदर पंजाब के जालंधर जिले में एक चर्च का पादरी है। वह चिकित्सक के रूप में लोगों के बीच लोकप्रिय है।
आगे पढ़े

विपक्ष जानता है औंधे मुंह गिरेगा अविश्वास प्रस्ताव पर फिर भी...

आज़ादी के बाद से अभी तक लोकसभा में 26 बार अविश्वास प्रस्ताव लाए गए हैं। 21 बार अविश्वास प्रस्तावों पर वोटिंग हुई है। साल 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार एक वोट से हार गई थी। लेकिन यह जानकर आपको ताज्जुब होगा कि 26 बार लाए गए अविश्वास प्रस्तावों में से सबसे ज़्यादा 15 बार अविश्वास प्रस्ताव इंदिरा गांधी की सरकारों के ख़िलाफ़ लाया गया। यानी आज की कांग्रेस की प्रथम पुरोधा की सरकारों के ख़िलाफ़। इसका सीधा सा मतलब ये हुआ कि जब कांग्रेस सत्ता में थी, तब उसके विपक्ष को सरकार पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं रहता था।
आगे पढ़े

फतवे पर निदा का पलटवार बोलीं-किसी को हक नहीं इस्लाम से निकालने का

जो फतवे की बात करे रहे हैं वह महिलाओं के साथ हो रहे अत्याचारों को बंद नहीं होने देना चाहते, इसलिए वह ऐसा कर रहे हैं, इस लड़ाई को हम सर्वोच्च न्यायालय तक लेकर जाएंगे
आगे पढ़े

वहाबी इस्लाम ने ही पैदा किए हैं आतंकवादी

वहाबी या सलाफ़ी इस्लाम क्या है इस बात को आप इस छोटी सी विडियो को देख कर समझ सकते हैं.. इस्लाम का ये वही मत है जिसने सारी दुनिया में आतंकवादी पैदा किये हैं और करता जा रहा है.. आम हिन्दुस्तानी या दूसरे धर्म के लोग अभी तक इस जानकारी से अनजान थे कि इस्लाम के किस मत की वजह से इस्लाम का ये रूप आज बना है.. इसीलिए वो सारे मुसलमानों से नफ़रत करने लगे हैं.. मगर अब धीरे धीरे इन्टरनेट के ज़रिये लोग जागरूक हो रहे हैं और समझ रहे हैं. इस विडियो में एक मौलाना जिसने अरबी वेशभूषा धारण कर रखी है ये भारतीय वहाबी मौलाना है, य
आगे पढ़े

फिल्म जगत में पाखंडियों की नहीं है कमी

अपने बेबाक बयानों के लिए बराबर सुर्खियों में रहने वाले फिल्म जगत के प्रसिद्ध पार्श्व गायक अभिजीत भट्टाचार्य स्पष्ट तौर पर कहते हैं,''फिल्म जगत एक ऐसी जमात है जो अपनी देशभक्ति को समय-समय पर 'सेल' करती है। इसलिए न ही इनका कोई मत होता है और न ही इन्हें किसी के दर्द से कोई इत्तेफाक। जहां इनका मतलब सिद्ध होता है, ये वहीं दिखाई देते हैं।''पाञ्चजन्य संवाददाता अश्वनी मिश्र ने हिन्दू बच्चियों के साथ हिंसा और यौनाचार पर फिल्म जगत की खामोशी पर उनसे विस्तृत बात की। प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश:- कठुआ कांड को
आगे पढ़े

बेतुके बयानों के अलावा घोटालों के भी 'आजम' हैं आजम खान

आजम खान पर जमीन और भर्ती घोटाले के आरोप लगे हैं। गिरफ्तारी से बचने के लिए उन्हें उच्च न्यायालय में अर्जी देनी पड़ी है। विवादित बयानों वाले आजम की कारगुजारियां उजागर हो रही हैं अपने बयानों के लिए बराबर विवादों में रहने वाले और सपा सरकार में नगर विकास मंत्री रहे आजम खान के कारनामे एक-एक कर सामने आ रहे हैं। भूमि घोटाले में उनके खिलाफ 10 से ज्यादा मुकदमे दायर हो चुके हैं। भर्ती घोटाले में भी एफ.आई.आर. दर्ज हुई है। चाहे जौहर विश्वविद्यालय हो या फिर जल निगम में नियुक्तियों का मामला, हर जगह गड़बड़ी पाई गई है।
आगे पढ़े

संघ कार्यालय पर बाइक सवारों ने किया पथराव

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के स्थापना दिवस पर रैली निकालने के दौरान हुई घटना, पुलिस ने मामला दर्ज कर छह लोगों को हिरासत में लिया है। उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में सोमवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के स्थापना दिवस पर कार्यकर्ताओं ने रैली निकाली थी। इस दौरान कुछ लोग बाइक लेकर रैली में घुस गए और युवतियों से अभद्रता करने लगे। कार्यकर्ताओं के विरोध करने पर युवक उनसे भिड़ गए। इसके बाद कार्यकर्ता संघ कार्यालय पर गोष्ठी करने चले गए। इसी बीच बाइक सवार अपने साथियों के साथ वहां भी पहुंच गए और पथराव शुरू कर दिया।
आगे पढ़े

शिव साक्षात् है कैलास में दर्शन मात्र ही रोमांचित और अभिभूत करने वाला है

 कैलास-मानसरोवर का उल्लेख सुनता था तो मन उन्मादी-सा हो उठता था। लगता था, चलना चाहिए, अभी। दो दशक बंद रहने के बाद 1981 में फिर यात्रा शुरू हुई थी। तब आने-जाने का कुल खर्च 5,000 रुपये पड़ता था। नौ सौ रुपये महीने की नौकरी थी। फिर भी कहीं से जुगाड़ किया। पर छुट्टी नहीं मिली। कुछ दिन बाद नौकरी ही छोड़ दी। 11 साल बीत गए। 92 में फिर हूक उठी। धेला पास में एक नहीं। पर मन में था—इस बार नहीं, तो कभी नहीं। मित्रों को लिखा। परिचितों-अपरिचितों ने कुछ ऐसा साथ दिया कि अचंभित रह गया। मान गए भोले भण्डारी को! कैलास और
आगे पढ़े

आखिर क्यों लक्ष्मण जी की मूर्ति लगाने का विरोध कर रहे मौलाना ?

इमामबाड़े के 100 मीटर के दायरे में निर्माण पर प्रतिबंध है बावजूद इसके मस्जिद में अवैध निर्माण किया गया। इस संबंध में आर्केलाजिकल सर्वे आॅफ इंडिया ने मस्जिद के शाही इमाम के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई थी। यही नहीं इस निर्माण को तोड़ने के लिए भी कहा गया था लेकिन ऐसा नहीं किया गया।
आगे पढ़े

जब एक गाने से डर गए थे अंग्रेज

क्या कोई हुकूमत किसी एक गाने से डर सकती है ? जी हां, ऐसा संभव है। आपको यह जानकार हैरत जरूर होगी कि एक गाने से अंग्रेजी हुकूमत डर गई थी। गाने से डरकर अंग्रेजों ने उस गाने को छह साल तक के लिए बैन कर दिया था। नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने उसी गाने को आजाद हिंद फौज का गाना बनाया था आज भारतीय फौज भी उस गाने को बड़े गर्व से गाती है,फौज का बैंड सैनिकों के कूच करने के दौरान और परेड के दौरान इस गाने की धुन को बजाता है।
आगे पढ़े
तेजस - भारत का अपना लाइट कॉम्बैट विमान

तेजस - भारत का अपना लाइट कॉम्बैट विमान

इस विमान का आधिकारिक नाम तेजस 4 मई 2003 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने रखा था। तेजस ने हाल ही में भारतीय वायुसेना के साथ सेवा में प्रवेश किया है और 2017 बहरीन वायु शो में उसने अपनी शुरुआत की है। यहां उसे सार्वजनिक रुप से प्रदर्शित किया गया।

पत्रकारिता से गायब होती नैतिकता

 यह कटु सच है कि सेकुलर मीडिया गैर-जिम्मेदार संस्था बन चुका है, ऐसी स्थिति में जनता और सरकार को यह जिम्मेदारी संभालनी होगी और उन्हें सही रास्ते पर लाने के लिए दबाव बनाए रखना होगा ऐसे समय में जब तथाकथित राष्ट्रीय मीडिया नए-नए बनावटी मुद्दे खड़े करने में पूरी ऊर्जा लगा रहा है, क्षेत्रीय समाचार पत्र और चैनल एक उम्मीद बनकर उभरे हैं। खासतौर पर भारतीय भाषाओं से जुड़ा मीडिया देश के मुद्दों की ज्यादा वास्तविक तस्वीर प्रस्तुत कर रहा है। रांची के ‘मिशनरीज आॅफ चैरिटी’ में जब बच्चों को बेचे जाने का

फर्जी खबरों का चलन खतरनाक

बीते कुछ समय से सेना निशाने पर है। किसी बाहरी दुश्मन के नहीं, बल्कि उस मीडिया के जो खुद को प्रगतिशील और स्वतंत्र होने का दावा करता है।

सेवा कार्य में प्रसिद्धि की अपेक्षा नहीं करनी चाहिए

गत दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले ने नई दिल्ली के मावलंकर सभागार में संघ के सेवा विभाग की वेबसाइट और सेवागाथा एप का लोकार्पण किया। इस अवसर पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि दैवीय, प्राकृतिक आपदाओं के समय सबसे पहले संघ के स्वयंसेवक ही पहुंचते हैं, अब यह बात समाज सहज रूप से मानने लगा है। संघ स्वयंसेवकों के जरिए समाज के संकट काल में लोगों की संवेदनाएं जगाने का कार्य करता है। मजदूर, अभावग्रस्त लोगों की जहां जो आवश्यकता हो, वहां स्वयंसेवक उसे समाज के माध्यम से पूरा करते हैं।

‘‘पत्रकारों पर है महत्वपूर्ण जिम्मेदारी’’

गत दिनों हरियाणा में गुरुग्राम के सेक्टर 14 स्थित राजकीय महिला महाविद्यालय में नारद जयंती के उपलक्ष्य में विश्व संवाद केंद्र द्वारा राज्य स्तरीय पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल भी उपस्थित थे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पत्रकारों पर आज महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है, इसलिए कोई भी समाचार लिखते समय गहन चिंतन करना चाहिए। देवर्षि नारद सृष्टि के पहले पत्रकार थे, वे दैवीय शक्तियों से भी मिलते थे और दानवों से भी मिलते थे, पर उनका उद्देश्य हमेशा समाज हित ही रहा।

सांप छछुंदर के खेल में फंसी कांग्रेस!

कांग्रेस मुसलमानों की पार्टी है। राहुल गांधी के इस बयान के बाद कांग्रेस की स्थिति सांप और छछुंदर जैसी हो गई है न तो कांग्रेस इस बयान से पलट सकती है न बयान पर टिकी रह सकती है।गौर करने वाली बात है कि क्या अब कांग्रेस में सभी अपने नाम के आगे मोहम्मद या मुगल लिखना शुरू कर देंगे। राहुल गांधी के इस बयान के बाद बेहतर है कि कांग्रेस के लोग अपने नाम के आगे मोहम्मद लिखना शुरू कर दें।

हिंदू धर्म और हिंदी में तलाक का विकल्प नहीं

हिन्दू धर्म में शादी के बाद पति-पत्नी के एक हो जाने के बाद उनके अलग होने का कोई प्रावधान नहीं है। हमारे यहां शादी को ईश्वरीय विधान माना जाता है और पति-पत्नी को विष्णु और लक्ष्मी का रूप। हिंदी में तलाक का कोई विकल्प ही नहीं है। तलाक व डाइवोर्स शब्द हमारे नहीं हैं।

जानते-बूझते होती है ऐसी ‘चूक’

मीडिया का भारतीयता विरोध धीरे-धीरे अपने चरम पर पहुंचने लगा है और सेकुलर पत्रकार अपना एजेंडा साधने लगे हैं। सामयिक मुद्दों पर मीडिया के रुख और रुखाई की परतें खंगालता यह स्तंभ समर्पित है विश्व के पहले पत्रकार कहे जाने वाले देवर्षि नारद के नाम। मीडिया में वरिष्ठ पदों पर बैठे, भीतर तक की खबर रखने वाले पत्रकार इस स्तंभ के लिए अज्ञात रहकर योगदान करते हैं और इसके बदले उन्हें किसी प्रकार का भुगतान नहीं किया जाता।

किश्तवाड़ में मना हिन्दू साम्राज्य दिवस

गत 27 मई को जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने हिन्दू साम्राज्य दिवस मनाया। कार्यक्रम में रा.स्व.संघ के प्रांत शारीरिक शिक्षण प्रमुख श्री अरुण कुमार एवं जिला संघचालक श्री रोशन लाल उपस्थित रहे।इस अवसर पर श्री अरुण कुमार ने कहा कि भारत वीरों की धरती है। हमारे महापुरुषों ने सदैव समाज को जोड़ने का काम किया है और उनके लिए राष्ट्र सर्वोपरि रहा। ये सभी महापुरुष अंतिम सांस तक मां भारती की सेवा करते रहे। इसका सबसे बड़ा उदाहरण छत्रपति शिवाजी महाराज हैं। उन्होंने कहा कि आज समाज को शिवाजी महाराज की य
Facebook Page

Survey

कश्मीर में भाजपा द्वारा पीडीपी से समर्थन वापसी पर राय दें

बोधिवृक्ष