कला उत्सव में दिखी नव कलाकारों की प्रतिभा
   दिनांक १२-जनवरी-२०१८

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर संस्कार भारती, पूर्वी विभाग, दिल्ली पिछले 5 वर्ष से 'कला उत्सव' के माध्यम से बच्चों और बड़ों के लिए भारतीय विधाओं की प्रतियोगिताएं आयोजित कर रही है। इस वर्ष भी 9, 15 एवं 16 अगस्त को निम्नलिखित प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया - 'चित्रकला', 'गायन', 'नृत्य', 'रंगोली', 'कविता पाठ', 'एकल अभिनय' एवं 'पारंपरिक लोकगीत'। इन प्रतियोगिताओं में 30 विद्यालयों के 8000 से अधिक बच्चों ने भाग लिया। सभी बच्चों को प्रतिभागी प्रमाणपत्र और उपहार दिए गए, जबकि विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। सभी पुरस्कार श्री लक्ष्मणदास चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा प्रायोजित थे। प्रत्येक विधा की प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर रहे बच्चों की प्रस्तुतियां मंच पर करवाई गईं। बच्चों ने अपनी प्रतिभा से सबका मन मोह लिया। पुरस्कार वितरण समारोह का शुभारंभ विश्व विख्यात नृत्य गुरु जितेन्द्र महाराज, उनकी शिष्या एवं प्रख्यात नृत्यांगना नलिनी कमलिनी, आम्रपाली गुप्ता (प्रसिद्ध नृत्यांगना), विजय वहल एवं अनिल मल्होत्रा ने दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम में विजेता बच्चों के अतिरिक्त नलिनी कमलिनी के नृत्य विद्यालय 'संगीतिका' की छोटी बच्चियों ने बड़ा ही सुन्दर नृत्य प्रस्तुत किया। क्षेत्र के कई गणमान्य व्यक्ति बच्चों के उत्साहवर्धन हेतु उपस्थित हुए। कार्यक्रम को इन संस्थाओं का सहयोग मिला-रोटरी क्लब ऑफ दिल्ली, विवेक विहार, श्री श्याम सहारा मंडल, इंद्रप्रस्थ विस्तार, भारत विकास परिषद, मधु विहार एवं इंद्रप्रस्थ विस्तार, आईपैक्स वैश्य समाज, इंद्रप्रस्थ पंजाबी सभा न्यास, सोहन लाल नेमचन्द्र जैन (लोटस), याशिका डायमंडस, कमल रेस्टोरेंट और अरबेनिया स्पेसिस प्रा़ लि़।