दिल्ली / शिवछत्रपति ऐतिहासिक गौरवगाथा-
   दिनांक ०२-अप्रैल-२०१८



 

दिल्ली में गंूजेगा ‘जय भवानी’


लालकिले में 6 से 10 अप्रैल तक शिवाजी के जीवन पर आधारित नाटक ‘जणता राजा’ का पहली बार हिंदी में मंचन होने जा रहा है। इसको लेकर लोगों में गजब का उत्साह है। शिवाजी के चरित्र को जानने के लिए यह बहुत ही अच्छा अवसर है
शिवाजी के जीवन चरित्र पर आधारित मराठी नाटक ‘जाणता राजा’ का हिंदी में पहली बार मंचन हो रहा है। हिंदी में इसे ‘राजा शिवछत्रपति ऐतिहासिक गौरवगाथा’ नाम दिया गया है। इस नाटक का मंचन दिल्ली में लालकिले के पास माधव पार्क में 6 से 10 अप्रैल को सायं 6.30 से 9.30 बजे तक होगा। नाटक के प्रारंभ में प्रतिदिन किसी एक बड़ी हस्ती के आने की संभावना है। प्रवेश तो नि:शुल्क है, लेकिन आॅन लाइन रजिस्ट्रेशन जरूरी है।  ह्लइङ्मङ्म‘ े८ रँङ्म६ह्व पर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। इस नाटक का उद्देश्य है शिवाजी से जुड़े प्रसंगों और भारत के गौरवशाली इतिहास से लोगों को अवगत कराना।
उल्लेखनीय है कि प्रसिद्ध मराठी लेखक और नाट्यविद् बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे उपाख्य बाबासाहब पुरंदरे ने ‘जाणता राजा’ के नाम से मराठी में शिवाजी महाराज की जीवनी लिखी थी। बाद में इसी जीवनी को नाटक के रूप में मंचित किया जाने लगा। राष्टÑीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक और केंद्रीय मंत्री स्व. अनिल माधव दवे की पहल पर ‘जाणता राजा’ का हिंदी में अनुवाद हुआ था।

आज यह नाटक प्रसिद्धि के मामले में दुनिया के अनेक मशहूर नाटकों को पीछे छोड़ चुका है। माना जा रहा है कि आज यह एशिया का सबसे प्रसिद्ध और दुनिया का दूसरा सबसे मशहूर नाटक हो गया है। नाटक में लगभग 250 कलाकार ऐसी जीवंत भूमिका निभाते हैं कि दर्शक सहसा शिवाजी के युग में पहुंच जाते हैं। नाटक में ज्यादातर कलाकार मूल मराठी जाणता ‘जनता राजा’ के ही हैं। हालांकि कुछ कलाकारों को दिल्ली से भी लिया गया है। यह  अद्भुत नाटक है। इसमें शिवाजी द्वारा लड़े गए युद्धों को प्रकाश और ध्वनि के माध्यम से इस प्रकार दिखाया जाता है कि हर दर्शक दंग रह जाता है।
नाटक में शिवाजी महाराज की बहादुरी, भ्रष्टाचार को लेकर उनकी सख्ती, सुशासन, प्रशासनिक दक्षता, गुप्तचरी के अनूठी शैली आदि को बहुत ही जीवंत रूप में प्रस्तुत किया गया है। इस नाटक को मंचित कराने के लिए राजा शिवछत्रपति महानाट्य आयोजन समिति की देखरेख में दिल्ली मराठी प्रतिष्ठान दिन-रात काम कर रहा है। लालकिला के पास वर्षों से रामलीला आयोजित करने वाली श्री धार्मिक रामलीला समिति का भी सहयोग लिया जा रहा है।      
 प्रतिनिधि