'आप'का नाटकीय अंदाज खोल देते हैं बंद सभी राज
   दिनांक 24-मई-2018
अभी अभी आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता व कवि डॉ. कुमार विश्वास का एक ट्वीट देखा जिसमें उन्होंने शपथ ग्रहण समारोह में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के शिरकत करने पर तंज कसा है..! कवि विश्वास लिखते हैं ,'कल तलक ख़ुद को जो सूरज का पुत्र कहता था, जा के लटका है फ्यूज बल्बों की झालर में ख़ुद'..!  

 
इस ट्वीट से उन्होंने इशारों इशारों में दिल्ली वाले घुंघरू सेठ पर  निशाना साधा है साथ ही दो तीन संकेतात्मक स्माइली भी दी है..! ऐसा नहीं है कि कुमार विश्वास ने पहली बार 'बागी जुबान' में  'अघोषित जंग' का ऐलान किया है इससे पहले भी वह राजस्थान के प्रभारी पद से हटाए जाने पर अपना तल्ख रुख दिखा चुके हैं..! यहां एक बात समझ मेंनहीं आ रही कि आखिर क्या कारण है कि धरती के एकमात्र ईमानदार नेता केजरीवाल इतना सबकुछ होने के बाद भी बागी विश्वास को झेल रहे हैं और दूसरा यह कि कविवर इतना सब कुछ होने के बाद भी पार्टी में कैसे अपने स्वाभिमान के साथ समझौता करते हुए टिके हैं...! खैर जो भी हो यह राजनीति है यहां कुछ भी हो सकता है..! सोनिया के साथ ममता दिख सकती हैं, अखिलेश के साथ माया और भाजपा के साथ विश्वास..! इन सबके बीच बस इतना ही कहना है... 'आप'का नाटकीय अंदाज, खोल देते हैं बंद सभी राज!
 
अवनीश सिंह 'राजपूत' के वाल से साभार