सकारात्मक खबरों को समाज तक पहुंचाए
   दिनांक 07-मई-2018

 
विश्व संवाद केन्द्र, ओडिशा द्वारा वर्ष 2018 के नारद सम्मान के लिए वरिष्ठ पत्रकार तपन मिश्र को सम्मानित किया गया। पुरस्कार के तौर पर उन्हें 10 हजार रुपये एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। जयदेव भवन में आयोजित एक समारोह में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, भुवनेश्वर के पूर्व निदेशक प्रो़ डॉ़ अशोक कुमार महापात्र कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे तो मुख्य वक्ता के रूप में माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति श्री जगदीश उपासने मौजूद रहे। इस मौके पर ड़ॉ. अशोक महापात्र ने कहा कि सकारात्मक खबरों का प्रभाव सकारात्मक सोच को बढ़ावा देता है। आमतौर पर सकारात्मक खबरें अखबार के किसी एक कोने में छाप दी जाती हैं और नकारात्मक समाचार बड़े-बड़े अक्षरों में छापे जाते हैं। पत्रकारों को चाहिए कि वे भले नकारात्मक तथ्य सामने लाएं, साथ ही सकारात्मक खबरों को भी उतना ही स्थान दें क्योंकि सकारात्मक खबरों से ही समाज का स्वास्थ्य सुधरता है। उन्होंने कहा कि चिकित्सक होने के नाते मेरा मानना है कि समाज का स्वास्थ्य सुधारना आज के समय बड़ा महत्वपूर्ण कार्य है। इस कार्य में पत्रकार महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं। मुख्य वक्ता श्री जगदीश उपासने ने कहा कि राष्टÑ गठन में पत्रकारों की अहम भूमिका होती है। लेकिन पश्चिमी संस्कृति में जो ‘नेशन’ की अवधारणा है, वह भारतीय संस्कृति के राष्टÑ की अवधारणा से अलग है। हमारे लिए राष्टÑ सर्वोपरि है। समाज में व्याप्त नकारात्मकता के वातावरण को दूर कर सकारात्मक वातावरण निर्माण करने में अखबारों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। आजकल देखा जा रहा है कि एक एजेंडे के तहत अखबारों में खबरें चलती हैं और लोगों की धारणा भी उसी के अनुरूप बनती-बिगड़ती है। पहले संपादक अपने सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत खबरों का सटीक चयन करते थे। बाद में अखबार मालिकों का हस्तक्षेप बढ़ा और अब तो कोई तीसरी ताकत अखबारों के लिए एजेंडा तय करती है। सब कुछ एजेंडे के तहत होता है। एक राष्टÑ के लिए यह स्थिति शुभकारी नहीं है। उन्होंने पत्रकार बंधुओं से आग्रह किया कि वे अपनी वृत्ति में आने वाली बाधाओं को दरकिनार करते हुए समाज कल्याण को ध्यान में रखकर सत्यनिष्ठ खबरों पर ध्यान केन्द्रित करें। सत्य व भेदभाव शून्य खबरें देना पत्रकार का धर्म है। विश्व संवाद केन्द्र के अध्यक्ष ड़ॉ. निरंजन ने सभा की अध्यक्षता की और संपादक सुमन्त पंडा ने वार्षिक विवरण रखा।
(विसंकें, भुवनेश्वर)