जम्मू- कश्मीर: अलगाववादियों पर कार्रवाई शुरू यासीन मलिक हिरासत में

@@IMAGEAMP@@

 

राज्यपाल शासन शुरू होते ही जम्मू—कश्मीर में सख्ती शुरू हो गई है। अलगावादी यासीन मलिक को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। यासीन मलिक ने घाटी में बंद का आह्वान किया था। यासीन मलिक हमेशा से कश्मीर को भारत और पाकिस्तान से अलग करने की वकालत करता रहा है। गृह मंत्रालय के आंकड़ों की मानें तो रमजान के दौरान संघर्ष विराम लागू होने के बावजूद आतंकी घटनाओं में 265 फीसदी का इजाफा हुआ है।

सूत्रों के अनुसार आतंकी घटनाओं के पीछे कट्टरपंथी ताकतों का हाथ होने की बात को भाजपा के पीडीपी से समर्थन वापस लेने की बड़ी वजह माना जा रहा है। भाजपा महासचिव एंव जम्मू—कश्मीर के प्रभारी राममाधव ने भी समर्थन वापसी के बाद प्रेस कांफ्रेंस के दौरान इस बात का जिक्र किया था। केंद्र सरकार जम्मू—कश्मीर में आतंकवाद को लेकर नरमी बरतने को तैयार नहीं है। गृहमंत्री राजनाथ अपने बयान में यह स्पष्ट कर चुके हैं। 28 जून से शुरू हो रही अमरनाथ यात्रा को देखते हुए आतंकी हमलों की आशंका पर सुरक्षाबलों को पहले ही निर्देश दिए जा चुके हैं।