तन्वी के साथ उनके शौहर का पासपोर्ट भी होगा रद, जुर्माना भी
   दिनांक 26-जून-2018
तन्वी सेठ उर्फ सादिया द्वारा पासपोर्ट मामले में मजहबी आधार पर झूठा विवाद खड़ा करने के बाद ट्रांसफर किए गए अधिकारी विकास मिश्र को बेकसूर बताते हुए लोगोंं ने सोशल मीडिया पर आवाज उठाई थी। अब पुलिस सत्यापन के बाद तन्वी का झूठ पकड़ा गया है तो पासपोर्ट रद करने की तैयारी है साथ ही दंपती पर पांच हजार रुपए जुर्माना भी लगाया जा सकता है

तन्वी सेठ पासपोर्ट मामले में पुलिस जांच में तन्वी का झूठ पकड़ा गया है। मंगलवार को जब तन्वी सेठ के पासपोर्ट के सत्यापन के लिए पुलिस उनकी ससुराल लखनऊ के कैसरबाग पहुंची तो एलआईयू को उनके वहां रहने के संबंध में कोई दस्तावेज नहीं मिले।  अधिकारिक सूत्रों के अनुसार अब तन्वी सेठ उर्फ सादिया के साथ—साथ उनके पति/शौहर मोहम्मद अनस सिद्दीकी का पासपोर्ट भी रद हो सकता है। यही नहीं दंपती पर पासपोर्ट आवेदन के समय मजहबी आधार पर विवाद खड़ा करने और हंगामा करने के लिए पांच हजार रुपए जुर्माना भी लगाया जाएगा।
 
 
पुलिस ने सत्यापन के बाद इनके ऊपर तीन मामले निकाले हैं। तन्वी उर्फ सादिया पर आरोप है कि उन्होंने शादी के बाद जब नाम बदला तो इसकी सूचना नहीं दी। इसके अलावा वह अपने पति के साथ पिछले 11 वर्ष से नोएडा में रहती हैं इसकी भी जानकारी उन्होंने साझा नहीं की। साथ ही उन्होंने नोएडा की एक कंपनी में अपने कार्यरत होने की बात भी उन्होंने छुपाई है उल्लेखनीय है कि तन्वी सेठ उर्फ सादिया अनस ने 19 जून को नया पासपोर्ट बनवाने के लिए आवेदन किया था जबकि उनके पति मोहम्मद अनस सिद्दीकी ने अपना पासपोर्ट रिन्यू कराने के लिए जमा किया था। तन्वी सेठ के नया पासपोर्ट बनाने के मामले में पुलिस ने सत्यापन के बाद इनके ऊपर तीन मामले निकाले हैं। तन्वी उर्फ सादिया पर आरोप है कि उन्होंने शादी के बाद जब नाम बदला तो इसकी सूचना नहीं दी। इसके अलावा वह अपने पति के साथ पिछले 11 वर्ष से नोएडा में रहती हैं इसकी भी जानकारी उन्होंने साझा नहीं की। साथ ही उन्होंने नोएडा की एक कंपनी में अपने कार्यरत होने की बात भी छुपाई । जब पुलिस तन्वी सेठ के पासपोर्ट के सत्यापन के लिए उनकी ससुराल लखनऊ स्थित कैसरबाग पहुंची तो एलआईयू को उनके वहां रहने के संबंध में कोई दस्तावेज नहीं मिले। उन्होंने अपने पासपोर्ट के आवेदन में जो ब्यौरा दिया है उसके मुताबिक वह गोंडा में जन्मी हैं और कैसरबाग में नाज सिनेमाहॉल के पास चिकवाली गली झाऊलाल बाजार में रहने वाले अनस से उन्होंने शादी की है। पासपोर्ट अधिनियम के अनुसार आवेदक पासपोर्ट बनवाने के लिए जो पता लिख रहा है उस पर उसे एक साल तक रहना बहुत जरूरी है। तन्वी उर्फ सादिया ने कैसरबाग स्थित ससुराल का पता दिया है लेकिन वह एक साल से वहां नहीं रह रही हैं। यह आधार उनका पासपोर्ट खारिज करने के लिए पर्याप्त कारण हैं। अधिकारियों की मानें तो यदि पासपोर्ट में कोई गलत जानकारी पाई जाती है तो पासपोर्ट अधिनियम के तहत प्राथमिकी भी दर्ज की जा सकती हैै।