मंदसौर में हैवानियत, सात वर्षीय मासूम के साथ मुसलमान युवक ने किया बलात्कार

@@IMAGEAMP@@

 

 

 सीसीटीवी में बच्ची को अपने साथ ले जाता हुआ आरोपी इरफान

 

मध्यप्रदेश के मंदसौर में एक मुसलमान युवक ने सात वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म किया। बच्ची के चेहरे, हाथ व गले पर भी  जख्मों के निशान हैं । पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज से आरोपी की शिनाख्त कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। वह बच्ची को मिठाई दिलाने के बहाने अपने साथ ले गया था। बच्ची को गंभीर हालत में मंदसौर से इंदौर के अस्पताल में दाखिल कराया गया है। जहां उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं डॉक्टरों से बात करके बच्ची की स्थिति का पता कर रहे हैं। घटना के बाद इलाके में तनाव है। लोगों ने पुलिस हेडक्वार्टर को घेरा हुआ है।

आरोपी की पहचान इरफान (20) पुत्र जहीर खान के रूप में हुई। जानकारी के अनुसार बच्ची मंगलवार को स्कूल से गायब हो गई थी। जब वह घर नहीं पहुंची तो उसके परिजनों ने पुलिस में मामले की जानकारी दी। पुलिस मामले की जांच में जुटी तो बच्ची के मंदसौर बस स्टैंड के पास झाड़ियों में पड़े होने की सूचना मिली। पुलिस ने बच्ची के परिजनों को जानकारी दी और उसे अस्पताल में भर्ती कराया। जहां मेडिकल में बच्ची के साथ दुष्कर्म किए जाने की पुष्टि हुई है। जांच के दौरान पुलिस ने एक सीसीटीवी फुटेज की मदद से आरोपी की शिनाख्त कर ली। जिसमें वह मिठाई दिलाने के बहाने से बच्ची को अपने साथ लेकर जाता हुई दिखाई दे रहा है।

बदहवास थी मासूम

पुलिस ने जब बच्ची को झाड़ियों के पास से बरामद किया तो उसके चेहरे, आंख, गाल व हाथ में चोट के निशान थे। एक राहगीर ने बच्ची के बारे में पुलिस को जानकारी दी थी। बच्ची की हालत इतनी खराब थी कि वह बार-बार बेहोश हो रही थी।

मिठाई दिलाने के बहाने ले गया साथ

पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि वह उसे मिठाई दिलाने के बहाने अपने साथ जंगल में ले गया था। इसके बाद उसने बच्ची के गले पर कटर रख दिया और उसके साथ दुष्कर्म किया। यही नहीं उसने कटर से बच्ची के गले पर वार भी किया इसके बाद उसे मरी हुई समझकर वहां से चला गया।

घटना के बाद इलाके में तनाव

मासूम से हुई हैवानियत के बाद इलाके में तनाव है। पुलिस ने पूरा शहर बंद किया हुआ है।  आरोपी को सौंपने की मांग को लेकर शहर सहित आसपास के हजारों लोग पुलिस कंट्रोल रूम के सामने जमा हो गए और नारेबाजी की। लोगों का कहना है कि आरोपी को उन्हें सौंप दिया जाए। स्थिति को संभालने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है।