मासूम से दरिंदगी पर उबला मंदसौर, दरिंदे को फांसी देने की मांग

@@IMAGEAMP@@

  

 

 

 मासूम से हैवानियत के बाद आरोपी इरफान को तत्काल फांसी देने की मांग को लेकर प्रदर्शन करते हुए लोग

 मासूम बच्ची से मुसलमान युवक इरफान द्वारा दुष्कर्म करने की बात जैसे ही मंदसौर में फैली तो पूरा मंदसौर सड़कों पर आ गया। हर तरफ से एक ही आवाज आ रही थी कि दरिंदे को बीच चौराहे पर फांसी दो। भीड़ उसे उनके हवाले किए जाने को भी कह रही थी। वहीं थोड़ी देर के लिए होश में आने पर बच्ची ने अपनी मां को बताया कि उसके साथ दो लोगों ने दुष्कर्म किया है। बच्ची के परिजनों का कहना है कि पुलिस दूसरे आरोपी के बारे में कुछ नहीं बोल रही है।

दुष्कर्म करने के बाद की बच्ची को मारने की कोशिश

 

 ये है मासूम से हैवानियत करने वाला दरिंदा

 मासूम बच्ची तीसरी कक्षा में पढ़ती है। यहां के मदपुरा का रहने वाला इरफ़ान (20) उर्फ भय्यू पिता जहीर मेव मासूम को बहला फुसलाकर अपने साथ ले गया। इरफ़ान ने रात भर बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। फिर उसे जान से मारने के लिए उस पर चाकुओं से वार भी किया। बाद में उसे मंदसौर के लक्ष्मण दरवाजे के पास नाले के पास फेंक कर फरार हो गया। बच्ची बुधवार की सुबह 11 बजे एक राहगीर को घायल अवस्था में मिली... पुलिस भी मौके पर पहुंची और मासूम को जिला अस्पताल ले कर गई । स्थिति गंभीर होने पर बच्ची को इंदौर एमवाय अस्पताल के लिए रेफर किया! जहां अभी वो जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही है!

मां से लिपटकर रोई फिर हो गई बेहोश

बच्ची के साथ इंदौर गए एक परिचित ने बताया कि उपचार के लिए जब मासूम को मंदसौर से इंदौर ले जाते वक्त जब उसे थोड़ी देर के लिए होश आया तो उसने अपनी मां को बताया कि वह स्कूल के बाहर दादी का इंतजार कर रही थी। तभी एक अंकल आये। उन्होंने मुझे मिठाई खाने को दी। उसके बाद वे मुझे जंगल मे ले गए । वहां एक और अंकल थे। दोनों ने मुझे बहुत मारा और मेरे साथ बुरा काम किया। बच्ची के परिजनों की माने तो पुलिस ने अब तक एक ही आरोपी इरफ़ान को पकड़ा है दूसरा आरोपी कौन है  इस बारे में अभी तक किसी ने कुछ नहीं बोला है।

आक्रोश में पूरा मंदसौर, विरोध में बंद रहे  बाजार

 

मासूम से दुष्कर्म के विरोध में नहीं खुले बाजार  

मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म की घटना के बाद पूरे मंदसौर समेत आसपास के पूरे इलाके में आक्रोश है। पुलिस ने लोगों को शांत करने के लिए मंदसौर के इतिहास में बुधवार देर रात ही प्रेस कांफ्रेस कर मामले का खुलासा कर दिया था लेकिन इसके बाद भी गुस्साई भीड़ शहर की सड़कों पर आ गई। लोगों में आरोपी को लेकर जबरदस्त गुस्सा है।  घटना के विरोध में बृहस्पतिवार को पूरा मंदसौर बंद रहा मुख्य बाजार की बात तो दूर गली मोहल्ले में भी कोई दुकान खुली नहीं दिखी। समाचार लिखे जाने तक देर शाम तक बाजार नहीं खोला गया था। एहतियात के तौर पर पूरे शहर में भारी पुलिस बल तैनात  किया गया है