मंदसौर के काजी का फतवा, फांसी दो कब्रिस्तान में नहीं देंगे जगह
   दिनांक 29-जून-2018


मंदसौर में मासूम के साथ बलात्कार करने वाले इरफान को लेकर आक्रोश जोरों पर है। मंदसौर समेत आसपास के क्षेत्र में धरनों और प्रदर्शनों का दौर लगातार जारी है। मंदसौर सहित आसपास के अन्य कस्बों में भी बाजार नहीं खुले हैं। मंदसौर के शहर काजी ने फतवा जारी कर फरमान दिया है आरोपी को फांसी दी जाए। यही नहीं उन्होंने एलान कर दिया है कि ऐसे दरिंदे को कब्रिस्तान में भी जगह नहीं दी जाएगी और उसके पूरे परिवार का सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। 

 
 
 एक इंच भी जगह नहीं दे जाएगी कब्रिस्तान में

मन्दसौर का मुस्लिम समाज शहर काजी आसिफ उल्लाह और अंजुमन सदर यूनुस शेख के नेतृत्व में पुलिस अधीक्षक मनोजसिंह से मिला। शहर काज़ी ने कहा कि कहा कि दुष्कर्मी को फांसी दी जाए। इस्लामिक कानून भी यही कहता है। अंजुमन सदर शेख ने समाज द्वारा लिये गए फैसले को सुनाते हुए कहा कि इस दरिंदे इरफ़ान को कब्रिस्तान में एक इंच जगह नहीं दी जाएगी व इसके पूरे परिवार का सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा।

 
शहर काजी आसिफ उल्लाह मीडिया से बात करते हुए

बाप भी था दंगाई

मंदसौर की 7 वर्षीय मासूम को स्कूल से अपहरण कर उसके साथ चाकू की नोक पर बलात्कार करने वाले इरफ़ान का पिता जमील मेव रतलाम के जिले रिंगनोद का रहने वाला है। वह ट्रक चलाता है। जमील पर बरसों पहले रिंगनोद में दंगों का आरोप है। दंगों के बाद पूरा परिवार भागकर मंदसौर आ गया था।

इरफान के साथ एक और भी है आरोपी

बच्ची के परिजनों के अनुसार दुष्कर्म के इस मामले में इरफ़ान के अलावा एक और शख्स भी है। बच्ची ने खुद होश में आने पर अपनी को उसके बारे में बताया था। हालांकि स्थानीय पुलिस ने अभी इस बारे में कोई खुलासा नहीं किया है।


बच्ची के साथ दरिंदगी करने वाला आरोपी इरफान

मंदसौर सहित आसपास के कई शहर हैं बंद

मासूम के साथ दरिंदगी के बाद मंदसौर सहित पड़ोसी जिले नीमच शहर सहित कई कस्बे आज भी बन्द हैं। मंदसौर जिले के सीतामऊ , सुवासरा सहित कई कस्बे घिनौने कृत्य के विरोध में बन्द है। इसके अलावा ज्ञापन देने और प्रदर्शन करने का दौर लगातार जारी है।

दरिंदगी का शिकार मासूम की सेहत में सुधार।

इंदौर एमवायएच के बाल शल्य चिकित्सा विभाग के प्रमुख ब्रजेश लाहोटी ने बताया कि बच्ची की कल रात सर्जरी की गई है। अब उसकी सेहत में सुधार है। डॉक्टर बच्ची की सेहत पर लगातार नजर रख रहे हैं। उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। उसकी सेहत में सुधार हो रहा है। फिलहाल बच्ची को तरल पदार्थ दिए जा रहे हैं उसे ठोस आहार नहीं दिया जा रहा है।

वकीलों ने पैरवी से किया मना

मंदसौर अधिवक्ता संघ में साधारण सभा की बैठक में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया है कि आरोपीओ की और से कोई भी वकील पैरवी नहीं करेगा। इस संबंध में जिला जज को भी एक ज्ञापन दिया गया है कि जैसे ही मामला न्यायालय में आए फास्ट ट्रेक कोर्ट में सुनवाई कर जल्द से जल्द मासूम को इंसाफ दिलाया जाए।


 
न्यायालय में आरोपी की पैरवी न करने की घोषणा करते हुए अधिवक्ता संघ के लोग