clock-icon

mobile-icon
  • गठबंधन टूटने के बाद,  दस खास बातें जो बोले राममाधव
  • हमने अपना एजेंडा पूरा किया: महबूबा
  • आतंकवादियों के खिलाफ सेना की कार्रवाई का विरोध कर रही थीं महबूबा
  • आतंकवादियों के खिलाफ सेना की कार्रवाई का विरोध कर रही थीं महबूबा
  • जम्मू- कश्मीर में टूट गया गठबंधन, महबूबा देंगी इस्तीफा
  • भारतीय फौज मेरे बेटे का बदला जरूर लेगी ऐसा मेरा विश्वास है: मोहम्मद हनीफ
  • देश के लिए नासूर हैं अर्बन नक्सली: विवेक अग्निहोत्री

क्यों चुप हैं क​थित बुद्धिजीवी रोना विल्सन की चिट्ठी पर

नक्सली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की फिराक में हैं। लेकिन इस चौंकाऊ चिट्ठी पर चुप्पी ओढ़ ली जाती है और यह रवैया किसी को चौंकाता नहीं। उन्हें हथियार चाहिए, उन्हें पोलित ब्यूरो की अनुमति चाहिए, वे भीमा कोरेगांव के हिसंक आंदोलन की सफलता पर एक-दूसरे की पीठ थपथपा रहे हैं।

संकीर्णता की बैसाखी और मुद्दों के कुहासे

राहुल गांधी बिला शक राष्ट्रीय नेता हैं। किन्तु उनकी पहचान क्या है? यह तीन कारकों का एक मिला-जुला मामला है। पहला कारक देश की सबसे बुजुर्ग पार्टी है, जिसके वे फिलहाल अध्यक्ष हैं। दूसरा कारक उनका परिवार है जो सबसे लंबे समय तक इस देश की सत्ता के केंद्र में काबिज रहा है। तीसरा कारक राहुल गांधी खुद हैं- यानी वह पहचान जो अपने लिए उन्होंने खुद कमाई है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार के उतार-चढ़ाव को स्वीकार करना होगा

इन दिनों हर तरफ पेट्रो उत्पादों के बढ़ते दामों की चर्चा है। विशेषज्ञों के अनुसार कई प्रकार के करों के कारण पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ रही हैं, वही सरकार का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में उतार-चढ़ाव के कारण दाम बढ़ रहे हैं।

भविष्य में हमारा स्वप्न आइआइटी गुरुकुल का है

भारतीय शिक्षण मंडल के अखिल भारतीय संगठन मंत्री श्री मुकुल कानिटकर कहते हैं,‘‘विराट गुरुकुल सम्मेलन का उद्देश्य देश में गुरुकुल शिक्षा पद्धति को पुनर्स्थापित करके उसे युगानुकूल बनाना है।

उम्मीदों को लगे पंख

दो दिवसीय निवेशक सम्मेलन के दौरान 1045 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर हुए, जिससे 4.28 लाख करोड़ रुपये का निवेश आएगा। इन समझौतों को अमली जामा पहनाने का काम शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश सरकार की प्राथमिकता 40 लाख् ा युवाओं को रोजगार मुहैया कराना हैसुनील राय

रमजान में क्या ऐसे खुश होता है अल्लाह : अपनी मासूम बच्ची का गला रेता फिर कहा प्यारी चीज की कुर्बानी दे दी

अंधविश्वास की हद होती है। रमजान के दिनों में एक बाप ने ऐसा काम किया कि शैतान का भी कलेजा दहल उठे। उसने अल्लाह को खुश करने के लिए अपनी चार वर्षीय बेटी का गला रेत दिया। यही नहीं पहले वह पुलिस के सामने अनजान बना रहा शक होने पर पुलिस ने उससे सख्ती से पूछताछ की तो वह टूट गया। उसने अपनी मासूम बच्ची की हत्या की बात कबूल कर ली।
आगे पढ़े

अवारन में पाकिस्तान फौज के जुल्म की दास्तान

सुबह-सुबह का वक्त। टूटे-फूटे रोशनदान से झांकती सूरज की रोशनी आहिस्ता-आहिस्ता बढ़ रही थी। बढ़ती तपिश की वजह से ख्वाब का सिलसिला टूटता है और आंखें खुल जाती हैं। जैसे-जैसे नजरों के सामने की चीजें साफ होती जाती हैं, उसके चेहरे पर दर्द की लकीरें गहरी होती जाती हैं। सुबह बिल्कुल नई, लेकिन दर्द वही पुराना। रात में आंख लगने के साथ कहीं खो जाने वाला दर्द हर रोज सूरज की रोशनी के साथ चेहरे पर ताजा हो उठता है। उस औरत की जिंदगी के दिन एक-एक करके ऐसे ही तमाम हो रहे हैं। उसका यह दर्द अपनों से जुदा होने का है। बरसों पहले पाक
आगे पढ़े

गिलगित-बाल्टिस्तान हमारा है और हम इसे लेकर रहेंगे

पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर के हिस्से को लेकर हमारी नीतियों में एक अजीब तरह की उदासीनता रही थी। इसी का नतीजा है कि पाकिस्तान अब गिलगित और बाल्टिस्तान को अपने पांचवें राज्य के तौर पर मान्यता देने की तैयारी कर रहा है। हाल ही में पाकिस्तान ने गिलगित-बाल्टिस्तान के स्वरूप को बदलने का प्रयास किया है। पाकिस्तानी हुकूमत ने हालिया आदेश के जरिये गिलगित-बाल्टिस्तान में स्थानीय परिषदों के ज्यादातर अधिकार ले लिए हैं। इसे इन इलाकों पर पूरी तरह कब्जा करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। भारत ने पाकिस्तान
आगे पढ़े

प्रणब दा ने डा. हेडगेवार ही नहीं बल्कि भगवा ध्वज के सिद्धांत का भी सम्मान किया

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समारोह में हिस्सा लेेना केवल वैचारिक सहृदयता व संवाद स्थापना की स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपरा के पुनर्जन्म के रूप में ही याद नहीं किया जाएगा, बल्कि संभावना बनी है कि इससे देश में अब तक चली आ रही कुछ वैचारिक कुंठाओं के निराकरण की भी भूमिका तैयार होगी।
आगे पढ़े

तेजस - भारत का अपना लाइट कॉम्बैट विमान

इस विमान का आधिकारिक नाम तेजस 4 मई 2003 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने रखा था। तेजस ने हाल ही में भारतीय वायुसेना के साथ सेवा में प्रवेश किया है और 2017 बहरीन वायु शो में उसने अपनी शुरुआत की है। यहां उसे सार्वजनिक रुप से प्रदर्शित किया गया।

‘‘नदियों की पूजा के साथ ही उनकी स्वच्छता के प्रयास करने होंगे ’’

‘‘नदियों को सिर्फ पूजने की बजाए, बचाने की जरूरत है। हम नर्मदा को मां कहते हैं, किंतु हमने उसका क्या हाल बना रखा है, यह किसी से छिपा नहीं है। हमारी कथनी और करनी में अंतर ही वह एकमेव कारण है, जिसके चलते हम एक हजार साल तक गुलाम रहे। यह प्रवृत्ति आज भी कम नहीं हुई है।’’ उक्त बात ख्यातिप्राप्त लेखक और पर्यावरणविद् अमृतलाल वेगड़ ने कही। वे पिछले दिनों माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल की ओर से डी़ लिट़ (विद्या वाचस्पति) की मानद उपाधि से सम्मानित किये जाने के अवसर पर बोल रहे थे।

सुरेश चिपलूनकर के वाल से साभार

तमिलनाडु के तूतीकोरिन में वेदांता कम्पनी के मुद्दे पर हुई पुलिस फायरिंग में बारह लोगों की मृत्यु के मामले में "भारत के सबसे भ्रष्ट" वित्तमंत्री पी.चिदंबरम ने मोदी सरकार पर हमला बोला है... इस सम्बन्ध में पप्पू एंड कम्पनी को कुछ याद दिलाना चाहता हूँ.

कुचक्र रचने में पहले से माहिर है कांग्रेस

19 मई 2019 से जरा पीछे चलते हैं. 1996 में. 13 दिन की सरकार के मुखिया तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने लोकसभा में कहा-मैं संख्याबल के सामने सर झुकाता हूं. मैं अपना इस्तीफा राष्ट्रपति को देने जा रहा हूं. तब भी कांग्रेस के चेहरे पर वही दंभ भरी मुस्कान थी, जो आज कर्नाटक विधानसभा में थी.

सेवा कार्य में प्रसिद्धि की अपेक्षा नहीं करनी चाहिए

गत दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले ने नई दिल्ली के मावलंकर सभागार में संघ के सेवा विभाग की वेबसाइट और सेवागाथा एप का लोकार्पण किया। इस अवसर पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि दैवीय, प्राकृतिक आपदाओं के समय सबसे पहले संघ के स्वयंसेवक ही पहुंचते हैं, अब यह बात समाज सहज रूप से मानने लगा है। संघ स्वयंसेवकों के जरिए समाज के संकट काल में लोगों की संवेदनाएं जगाने का कार्य करता है। मजदूर, अभावग्रस्त लोगों की जहां जो आवश्यकता हो, वहां स्वयंसेवक उसे समाज के माध्यम से पूरा करते हैं।

‘‘पत्रकारों पर है महत्वपूर्ण जिम्मेदारी’’

गत दिनों हरियाणा में गुरुग्राम के सेक्टर 14 स्थित राजकीय महिला महाविद्यालय में नारद जयंती के उपलक्ष्य में विश्व संवाद केंद्र द्वारा राज्य स्तरीय पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल भी उपस्थित थे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पत्रकारों पर आज महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है, इसलिए कोई भी समाचार लिखते समय गहन चिंतन करना चाहिए। देवर्षि नारद सृष्टि के पहले पत्रकार थे, वे दैवीय शक्तियों से भी मिलते थे और दानवों से भी मिलते थे, पर उनका उद्देश्य हमेशा समाज हित ही रहा।

हिन्दुओं की आस्था का केन्द्र है अयोध्या’

राम जन्मभूमि पर विवाद ढाई दशकों से न्यायालय में चल रहा है। वास्तव में यह झगड़ा राम मन्दिर का नहीं, राम जन्मस्थान का है।

हिन्दू समाज से अस्पृश्यता का नाश होना चाहिए

राष्टÑीय स्वयंसेवक संघ, बीकानेर महानगर द्वारा पिछले दिनों ड़ॉ भीमराव रामजी आंबेडकर की जयंती पर राजरतन पैलेस, रानी बाजार में एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया।

एकता के लिए बनाना है समरस समाज

आर्य समाज, दिल्ली द्वारा विश्व हिन्दू परिषद के नव निर्वाचित अंतरराष्टÑीय अध्यक्ष श्री विष्णु सदाशिव कोकजे तथा नवनिर्वाचित कार्यकारी अध्यक्ष श्री आलोक कुमार के अभिनन्दन हेतु गत दिनों करोलबाग में यज्ञ-आहुति कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस्लाम में संवाद नाम की कोई चीज नहीं

हर साल चर्च से पैसा लेकर देश भर में डॉक्टर आंबेडकर की तस्वीर की तख्ती लटकाकर हजारों लोग मनुस्मृति को जलाते हैं। सोचिए यदि किसी दिन ऐसा ही आयोजन कुरआन को जलाने का हो तो इस देश में क्या आलम होगा?

अल्‍जाइमर एक रोग : दो ​गणितज्ञ और परिस्थितियों का त्रिकोण

एक दिलचस्प कहानी विश्व के दो महान गणितज्ञ एक अमेरिकी जॉन नैश और दूसरे भारतीय वशिष्ठ नारायण सिंह के बारे में

मूर्ति पूजा क्या है, क्यों करते हैं ? श्रीश्री रविशंकर

मूर्ति क्या है? एक चिन्ह है। ईश्वर जो निराकार है, जिसका विवरण नहीं हो सकता, जिसे देखा या छुआ नहीं जा सकता, उस ईश्वर को देखने और समझने के लिए आपको एक माध्यम की आवश्यकता है और उस माध्यम को आप मूर्ति कहते हैं। भगवान उस मूर्ति में नहीं बसते परन्तु एक मूर्ति आपको ईश्वर का मार्ग दिखाती है।

ऐसा रोजा रखने का क्या फायदा ?

रोज़ा या निर्जल व्रत एक तरह का कर्मकांड या प्रैक्टिस है.. इसमे जान बूझकर भूखा रहा जाता है ताकि अल्लाह को ख़ुश किया जा सके.. और अल्लाह को ख़ुश करना मतलब जन्नत.. और जन्नत मतलब हूरें, शराब, कबाब और अय्याशी.

संघ के स्वयंसेवक डॉ. विष्णु श्रीधर ने खोजे थे भीमबैटका शैलाश्रय

भारतीय सभ्यता न केवल लाखों वर्ष प्राचीन है, अपितु वह अत्यन्त समृद्ध भी रही है। इसे विश्व के सम्मुख लाने में जिन लोगों का विशेष योगदान रहा, उनमें श्री विष्णु श्रीधर (हरिभाऊ) वाकणकर का नाम उल्लेखनीय है। भोपाल से 46 किलोमीटर दूर पर दक्षिण में भीमबैटका की गुफाएं मौजूद हैं।

किश्तवाड़ में मना हिन्दू साम्राज्य दिवस

गत 27 मई को जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने हिन्दू साम्राज्य दिवस मनाया। कार्यक्रम में रा.स्व.संघ के प्रांत शारीरिक शिक्षण प्रमुख श्री अरुण कुमार एवं जिला संघचालक श्री रोशन लाल उपस्थित रहे।इस अवसर पर श्री अरुण कुमार ने कहा कि भारत वीरों की धरती है। हमारे महापुरुषों ने सदैव समाज को जोड़ने का काम किया है और उनके लिए राष्ट्र सर्वोपरि रहा। ये सभी महापुरुष अंतिम सांस तक मां भारती की सेवा करते रहे। इसका सबसे बड़ा उदाहरण छत्रपति शिवाजी महाराज हैं। उन्होंने कहा कि आज समाज को शिवाजी महाराज की य

छात्रा व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ‘छात्रा इकाई’ द्वारा गत दिनों मेरठ के डी़ एऩ इंटर कॉलेज में छात्रा व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन किया गया। 5 जून तक चलने वाले इस शिविर में छात्राओं को मिशन साहसी, हैण्डीक्राफ्ट, आत्म रक्षा, ब्यूटीशियन और नृत्य कलाओं का प्रशिक्षण दिया जाएगा। शिविर का उद्घाटन दुनिया की सबसे अधिक आयु वर्ग (85 वर्ष) की महिला निशानेबाज दादी चन्द्रो तोमर ने किया। मुख्य वक्ता के रूप में अभाविप के प्रदेश संगठन मंत्री श्री महेश राठौर उपस्थित थे। उन्होंने इस अवसर पर ने कहा कि आज छात्राएं किसी भी क्ष

इनके कदम कभी ठिठकते नहीं...

समाचार पत्र-पत्रिकाओं के वितरक कितना महत्वपूर्ण कार्य करते हैं, इसे समाचार पत्रों का प्रबंधन भलीभांति जानता है। भीषण सर्दी, गर्मी, बारिश, ओलावृष्टि में भी उनके कदम कभी रुकते नहीं। समय से अखबार हर ग्राहक के पास पहुंचे, उसकी चिंता का ध्यान रखते हैं। इतने महत्वपूर्ण कार्य के बावजूद ऐसे लोगों को भुला दिया जाता है। फिर भी यह समूह जोश-जुनून के साथ अपने काम को बड़ी निष्ठा के साथ करता है और इसमें कभी कोताही नहीं बरतता। पाञ्चजन्य और आर्गनाइजर दोनों पत्रिकाओं ने अनूठी पहल करते हुए अपने वितरकों को न केवल सम्मानित किया