चर्चित आलेख
राष्ट्रीय समाचार

इतिहास

जब जार्ज ने कहा था जा रे इंदिरा तेरे राज में ये भी दिन देखना था

जार्ज फर्नांडिस नहीं रहे। 1974 के विख्यात देशव्यापी रेल हड़ताल ने जार्ज को धुरंधर राजनेता ही नहीं, ऐसे शख्स के रूप में स्थापित कर दिया, जिसकी जिंदगी के लिए किवदंतियां बन जाती हैं। अभूतपूर्व जीवट वाले सादगी पसंद राजनेता जार्ज फर्नांडिस से आपातकाल के दौरान इंदिरा सरकार चिढ़ गई थी। तत्कालीन सरकार का एकमात्र उद्देश्य किसी भी कीमत पर जार्ज की गिरफ्तारी थी। इसलिए उनकी खोज में खुफिया ब्यूरो और सुरक्षा बल लगे हुए थे। जार्ज की जिंदगी जितनी घटनाओं भरी रही, उतनी ही उनकी गिरफ्तारी का किस्सा भी दिलचस्प है।

२९ जनवरी, २०१९

इतिहास

जब जार्ज ने कहा था जा रे इंदिरा तेरे राज में ये भी दिन देखना था

जार्ज फर्नांडिस नहीं रहे। 1974 के विख्यात देशव्यापी रेल हड़ताल ने जार्ज को धुरंधर राजनेता ही नहीं, ऐसे शख्स के रूप में स्थापित कर दिया, जिसकी जिंदगी के लिए किवदंतियां बन जाती हैं। अभूतपूर्व जीवट वाले सादगी पसंद राजनेता जार्ज फर्नांडिस से आपातकाल के दौरान इंदिरा सरकार चिढ़ गई थी। तत्कालीन सरकार का एकमात्र उद्देश्य किसी भी कीमत पर जार्ज की गिरफ्तारी थी। इसलिए उनकी खोज में खुफिया ब्यूरो और सुरक्षा बल लगे हुए थे। जार्ज की जिंदगी जितनी घटनाओं भरी रही, उतनी ही उनकी गिरफ्तारी का किस्सा भी दिलचस्प है।

२९ जनवरी, २०१९

बहुरंग
नारद - खबर मीडिया की
चौपाल / ब्लॉग
वीडियो गैलरी
तथ्यपत्र / फैक्टशीट
तकनीक
बोधिवृक्ष
TAGS