पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

अफगानिस्तान में 24 घंटे में 141 तालिबानी हमले, 226 की मौत

WebdeskMay 04, 2021, 06:07 PM IST

अफगानिस्तान में 24 घंटे में 141 तालिबानी हमले, 226 की मौत

जैसे ही अमेरिका ने अपनी सेनाओं को अफगानिस्तान से वापस हटाने की घोषणा की वैसे ही आतंकी संगठन तलिबान ने वहां हमले तेज कर दिए हैं। तालिबान ने पिछले 24 घंटों में 141 जगहों पर हमले किए हैं। इन हमलों में 226 लोगों की मौत हुई अफगानिस्तान पिछले कई दशकों से गृहयुद्ध झेल रहा है। इतने दशकों बाद भी वहां शांति स्थापित होने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं। अमेरिका वहां से अपनी सेनाओं के वापस किए जाने की घोषणा की है। जैसे ही अमेरिका ने घोषणा की तालिबान ने हमले तेज कर दिए। पिछले 24 घंटे में 141 जगहों पर भीषण हमले किए हैं। अफगानिस्‍तान की मीडिया के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 157 सुरक्षाकर्मियों समेत 226 लोग मारे गए हैं। सरकार का दावा है कि उसने भी जोरदार कार्रवाई करते हुए 100 से ज्‍यादा तालिबान आतंकियों को मार गिराया है। पिछले 30 दिन में 428 सुरक्षाकर्मी और आम नागरिक मारे गए हैं। वहीं 500 से ज्‍यादा लोग घायल हुए हैं। 190 जगहों पर बम विस्‍फोट हुए हैं। ताजा घटना में पश्चिमी अफगानिस्तान में एक स्कूल के पास सोमवार को बम विस्फोट किया गया जिसमें 21 लोग घायल हो गए। घायलों में अधिकतर छात्र हैं। ज्‍यादातर तालिबानी हमले उरुजगन, जाबुल, कंधार, नानगरहर, बदख्‍शान और ताखर क्षेत्र में हुए हैं। अमेरिका के राष्‍ट्रपति बाइडेन के अफगानिस्‍तान से वापसी के ऐलान के बाद तालिबान ने अपने हमले तेज कर दिए हैं। तालिबान को पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से भरपूर समर्थन मिल रहा है। अमेरिका के वरिष्ठ सांसद और राष्ट्रपति बाइडन के खास जैक रीड ने अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना के हार का ठीकरा पाकिस्तान पर फोड़ा है। उनका कहना है कि अफगानिस्तान में तालिबान के जड़ें जमाने के पीछे की वजह पाकिस्तान में मौजूद उसकी सुरक्षित पनाहगाह हैं। पाकिस्तान में सुरक्षित अड्डा होने और इंटर सर्विसेस इंटेलिजेंस (आईएसआई) जैसे संगठनों के जरिए वहां की सरकार का समर्थन मिलने से तालिबान मजबूत होगा गया। हम पाकिस्तान में मौजूद तालिबान के सुरक्षित पनाहगाहों को नष्ट नहीं कर पाए, यही विफलता इस जंग में हमारी सबसे बड़ी गलती साबित हुई है। web desk

Comments

Also read: अमेरिकी संसद में 'ओम जय जगदीश हरे' की गूंज, भारतवंशी सांसदों के साथ बाइडेन प्रशासन ने ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: फेसबुक का एक और काला सच उजागर, रिपोर्ट का दावा-भारत में हिंसा पर खुशी, फर्जी जानकारी ..

जीत के जश्न में पगलाए पाकिस्तानी, नेताओं के उन्मादी बयानों के बाद कराची में हवाई फायरिंग में अनेक घायल
शैकत और रबीउल ने माना, फेसबुक पोस्ट से भड़काई हिंदू विरोधी हिंसा

वाशिंगटन में उबला कश्मीरी पंडितों का गुस्सा, घाटी में हिन्दुओं की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने की मांग

पंडित समुदाय की ओर से कहा गया कि घाटी में आतंकवाद को पाकिस्तान से खाद-पानी दिया जा रहा है। कश्मीर के युवाओं को पाकिस्तान उकसाने का काम करता है अमेरिका में अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन में वहां के कश्मीरी पंडित समुदाय ने एक कार्यक्रम करके पिछले दिनों घाटी में हुई हिन्दुओं की हत्याओं पर अपना आक्रोश जाहिर किया। उन्होंने इस्लामी आतंकवादियों द्वारा चिन्हित करके की गईं आम लोगों की हत्याओं की कड़ी निंदा की। साथ ही प्रदर्शनकारियों ने भारत सरकार से मांग की कि घाटी में अल्पसंख्यकों यानी हिन्दुओं की पु ...

वाशिंगटन में उबला कश्मीरी पंडितों का गुस्सा, घाटी में हिन्दुओं की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने की मांग