पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

अफवाह के चक्कर में एएमयू के 75 लोगों ने जान गंवाई!

WebdeskMay 20, 2021, 03:48 PM IST

अफवाह के चक्कर में एएमयू के 75 लोगों ने जान गंवाई!

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में 19 प्रोफेसर सहित 75 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। जानकारी के अनुसार इनमें से ज्यादातर ने कोरोना का टीका नहीं लगवाया था। कहा जा रहा है कि टीका के संबंध में अफवाह गर्म रहने के कारण इन लोगों ने टीका लगवाने में रुचि नहीं दिखाई थी एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में 75 लोगों की जान गई है। इनमें 19 प्रोफेसर हैं। बाकी गैर—शिक्षकेतर कर्मचारी और उनके परिजन हैं। एक ही संस्थान में इतने लोगों की जान जाने से कई तरह की बातें की जा रही हैं। एक बात यह कही जा रही है कि कुछ दिन पहले एएमयू और उसके आसपास में तीन तरह की अफवाहें फैली थीं। इनमें एक थी कि कोरोना का टीका लेने से लोग मर रहे हैं। दूसरी थी कि कोरोना का टीका लेने से लोग नपुंसक हो जाते हैं। और तीसरी अफवाह थी कि टीके से संक्रमण फैलता है। इन अफवाहों की पुष्टि अलीगढ़ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी भानु प्रताप सिंह कल्याणी ने भी की है। इस अफवाह को इस बात से भी बल मिल रहा है कि एएमयू के जितने प्रोफेसर कोरोना से मरे हैं, उनमें से किसी ने टीका नहीं लगवाया था। कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि अलीगढ़ में यह भी अफवाह फैलाई गई कि टीका हलाल नहीं है और इसलिए अनके मुसलमानों ने इसे लेने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। इसलिए यह सवाल उठ रहा है कि क्या अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और अन्य कर्मचारी भी अफवाह के चक्कर में पड़ गए थे! हालांकि अब यहां के लोग टीका लगवा रहे हैं। काश, ये लोग यह काम पहले करते तो शायद 75 लोगों की जान न जाती। —वेब डेस्क

Comments

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज