पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संस्कृति

अयोध्या : खुदाई के दौरान फिर मिले प्राचीन मंदिर के अवशेष

WebdeskMar 23, 2021, 12:51 PM IST

अयोध्या :  खुदाई के दौरान फिर मिले प्राचीन मंदिर के अवशेष

अयोध्या में एक बार फिर श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए नींव की खुदाई के दौरान एक चरण पादुका, प्राचीन पाषाण, सीता रसोई परिसर में खुदाई के दौरान पत्थर का सिलबट्टा, रसोई में पत्थर की लगी हुई वस्तुएं एवं कुछ खंडित मूर्तियों के अवशेष मिले हैं. खुदाई के दौरान मिले इन अवशेषों को सुरक्षित रख दिया गया है. पुरातात्विक विभाग से इसकी प्राचीनता की जांच कराई जाएगी. गत वर्ष मई माह में समतलीकरण के दौरान भी मंदिर के अवशेष मिले थे. करीब पांच सौ वर्ष तक वामपंथियों और मुसलमानों ने मंदिर के प्रमाण को झुठलाने की हर संभव कोशिश की मगर अब सचाई सभी के सामने आ चुकी है. श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए हो रही नींव की खुदाई जब 20 फीट तक हो गई तो उस समय प्राचीन अवशेष मिले. जानकारी के अनुसार श्रीराम मंदिर निर्माण के साथ ही मंदिर परिसर में एक संग्रहालय का निर्माण किया जाएगा. संग्रहालय में मन्दिर के प्राचीनतम प्रमाण को रखा जाएगा. मंदिर निर्माण के बाद वहां पहुंचने वाले दर्शनार्थी श्रीराम लला विराजमान के प्राचीन मंदिर की धरोहर का भी दर्शन कर सकेंगे. उल्लेखनीय है कि गत वर्ष मई माह में अयोध्या में श्रीराम जन्म भूमि परिसर के समतलीकरण का कार्य शुरू किया गया था. उस दौरान वहां कई पुरातात्विक मूर्तियां, शिवलिंग और प्राचीन खम्भे मिले थे. मलबा हटाने के दौरान पांच फिट आकार की नक्काशी युक्त शिवलिंग की आकृति, कई मूर्तियां, काफी संख्या में पुरावशेष, देवी - देवताओं की खंडित मूर्तियां, पुष्प कलश, आमलक, दोरजाम्ब आदि कलाकृतियां, मेहराब आदि प्राप्त हुए थे.

Comments

Also read: वैदिक काल में होता था दूरस्थ देशों से व्यापार ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: शरद पूर्णिमा का अमृत उत्सव, जानिये सबकुछ ..

चीन सीमा तक पहुंचने लगी हैं सड़कें, मोदी सरकार के कार्यकाल में शुरू हुआ काम अंतिम चरण में
भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर को होंगे बंद

वैदिक काल में उन्नत थी व्यावसायिक शब्दावली

प्रो. भगवती प्रकाश वैदिक काल में उद्योग-व्यवसाय क्षेत्र से जुड़ी शब्दावली का प्राचुर्य मिलता है। मात्र धन या पूंजी की पृथक प्रकृति होने पर पृथक शब्दावली का प्रावधान था। इसके अलावा सभी प्रकार के उद्यमों की स्थापना, संचालन व प्रबन्ध और उनसे सत्यनिष्ठा एवं नैतिकता के साथ धनार्जन के अनेक मन्त्र हैं। उद्योग, व्यापार एवं वाणिज्य से व्यावसायिक लाभ व प्रतिष्ठा अर्जित करने की रीति-नीति अर्थात स्ट्रेटेजी सम्बन्धी उन्नत शब्दावली के वेदों में प्रचुर सन्दर्भ हैं। अथर्ववेद के वाणिज्य सूक्त सहित यजुर्वे ...

वैदिक काल में उन्नत थी व्यावसायिक शब्दावली