पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

Top Stories

उत्तरांखड: सोशल मीडिया पर उन्माद फैलाया तो खैर नहीं

WebdeskFeb 04, 2021, 05:40 AM IST

उत्तरांखड: सोशल मीडिया पर उन्माद फैलाया तो खैर नहीं

उत्तराखण्ड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार उत्तराखण्ड पुलिस ने सोशल मीडिया पर राष्ट्र विरोधी,समाज विरोधी और उन्माद संबंधी टिप्पणी करने वालों से पुलिस अब सख्ती से निपटेगी। ऐसे करने वाले खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके तहत उसका पासपोर्ट,शस्त्र लाइसेंस,चरित्र प्रमाण पत्र रद्द किया जा सकता है उत्तराखण्ड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने देहरादून में आईपीएस अधिकारियों के सम्मेलन में कहा कि साइबर क्राइम इस वक्त की सबसे बड़ी चुनौती है,साइबर क्राइम में डिजिटल बैंकिंग फ्रॉड तो है ही लेकिन उससे भी आगे बढ़ कर पुलिस विभाग की नज़र ऐसे राष्ट्र विरोधी तत्वों पर भी रहनी चाहिए जो समाज के लिए विघटनकारी हैं, उन्होंने कहा कि उन्माद फैलाने, देश विरोधी टिप्पणी करने वाले तत्व भी साइबर क्राइम की श्रेणी में आते है और यदि ऐसे लोग पुलिस की नज़रों में आए तो तत्काल उनपर मामले दर्ज किए जाएंगे।डीजीपी ने कहा कि ऐसे तत्वों पर अपराध सिद्ध होने पर उनके पासपोर्ट रद्द करने उनके शस्त्र रद्द करने वो यदि सरकारी ठेकेदारी करते है उनके चरित्र प्रमाणपत्र रद्द किए जाएंगे। डीजीपी ने आईपीएस मीट में ये भी कहा कि फेसबुक,ट्वीटर, व्हाट्सएप,मैसेंजर ही नही पुलिस की निगाहें अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी रहेंगी और इसके लिए पुलिस टीम को खासतौर पर तैयार किया जा रहा है।

Comments

Also read: पंजाब की कांग्रेस सरकार का मेहमान कुख्यात अपराधी मुख्तार अब उत्तर प्रदेश पुलिस की हिर ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: हत्या पर चुप्पी, पूछताछ पर हल्ला ..

फिर चर्चा में दरभंगा मॉड्यूल
पश्चिम बंगाल : विकास की आस

चुनौती से बढ़ी चिंता

डॉ. कमल किशोर गोयनका सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और साहित्य पर कुछ लिखने से पहले वामपंथी पत्रिका ‘पहल’ के अंक 106 में प्रस्थापित इस मत का खंडन करना आवश्यक है कि मोदी सरकार के आने के बाद सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर चर्चा तेज हो गई है। ‘सोशल मीडिया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ लेख में जगदीश्वर चतुर्वेदी ने इस चर्चा के मूल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को देखा है और उनकी स्थापना है कि यह काल्पनिक धारणा है, भिन्नता और वैविध्य का अभाव है तथा एक असंभव विचार है। यह सारा विचार एवं निष्कर्ष तथ्यों-तर्कों के ...

चुनौती से बढ़ी चिंता