पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

खरीद के लिए किसानों से "एडवांस में ब्लैंक चैक" ले रहे हैं आढ़ती, नाखून-मांस का रिश्ता बना खरबूजा और छूरी का

WebdeskApr 14, 2021, 02:50 PM IST

खरीद के लिए किसानों से "एडवांस में ब्लैंक चैक" ले रहे हैं आढ़ती, नाखून-मांस का रिश्ता बना खरबूजा और छूरी का

राकेश सैन दिल्ली की सीमा पर चल रहे कथित किसान आन्दोलन के दौरान जहां किसानों व आढ़तियों के बीच के रिश्ते को नाखून और मांस का रिश्ता बता कर उसका महिमामण्डन किया जा रहा था और आढ़ती किसानों को पिज्जा खिला रहे थे। वास्तविकता के धरातल पर वही रिश्ता अब खरबूजा और छूरी का बनता दिखाई दे रहा है। भारत सरकार पंजाब के किसानों को गेहूं की फसल का भुगतान सीधे खाते में जमा करवा रही है तो कुछ आढ़ती किसानों को मजबूर कर रहे हैं कि वे उन्हें ब्लैंक चेक दें, ताकि उनकी दुकानदारी चलती रहे। कुछ स्थानों पर आढ़ती किसानों से गेहूं के साथ ही एडवांस चेक भी ले रहे हैं, जिसके जरिये वह किसानों के खाते में आई राशि का उपयोग कर सकें। गेहूं क्रय केंद्रों पर किसानों के नाम से आढ़ती खरीद का खेल कर रहे हैं। जिसमें क्रय केंद्र प्रभारी व संबंधित अधिकारी भी कथित तौर पर सहयोग कर रहे हैं। क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद का लक्ष्य पूरा करने के लिए आढ़तियों के जरिए खरीद जारी है, जिसमें किसानों के साथ ही आढ़ती भी मुनाफा काट रहे हैं। पूरे जिले में प्राइवेट व्यापारी गेहूं की खरीद के बाद इसे क्रय केंद्रों तक किसान के ही नाम से पहुंचा रहे हैं। नकद भुगतान मिलने से किसानों को भी इस खेल से कोई ऐतराज नहीं है। गेहूं खरीद में आढ़ती साहूकार की भूमिका में हैं। जहां किसान साल भर दवाई, शादी-ब्याह आदि के नाम पर एडवांस में पैसे लेते हैं, जबकि किसान हर हाल में फसल की बिक्री आढ़ती को ही करते हैं। भले ही किसान को एमएसपी के मुकाबले कुछ कम पैसे ही मिलें। एक किसान ने बताया कि आढ़ती और किसान के बीच अक्सर पारिवारिक संबंध हो जाते हैं, जिस कारण क्रय केंद्र तक कुछ गिने-चुने किसान ही पहुंच पा रहे हैं। जबकि क्रय केंद्र प्रभारी लक्ष्य पूरा करने को हर खरीद पर दांव लगा रहे हैं। बठिण्डा के गांव बल्लुआना के किसान भरपूर सिंह ने बताया कि उसने दो साल पहले घरेलु काम के लिए दो लाख लिए। मूलधन जितना भुगतान करने के बावजूद उसका एक लाख रुपया बकाया है। अब आढ़ती उन्हें खाली चैक पर हस्ताक्षर करके देने को कह रहे हैं और कहा जा रहा है कि अगर ऐसा न किया गया तो उसकी फसल नहीं बेचने दी जाएगी। केवल भरपूर सिंह ही नहीं पंजाब में बहुत से ऐसे किसान हैं, जिनके पास 4-5 एकड़ जमीन है और उन्होंने आढ़तियों से ऋण लिया हुआ है। ब्याज दर ब्याज लगने पर यह कर्ज मर्ज बना हुआ है। अब किसानों के खाते में सीधा भुगतान होने पर आढ़ती उन्हें चैक देने को कह रहे हैं। पहले यह राशि आढ़तियों के पास आती थी और वे मनमाफिक ब्याज वसूल कर आधी-अधूरी राशि किसानों को देते थे। अब खेल बदल चुका है तो आढ़तियों ने दूसरा पैंतरा अपनाना शुरू कर दिया है। दिल्ली की सीमा पर चल रहे कथित किसान आन्दोलन के दौरान आढ़तियों ने इस आन्दोलन को खूब हवा दी और वित्त पोषण भी किया ताकि उनकी लूटखसूट का सिलसिला आगे भी चलता रहे। इसके लिए किसानों को बहकाया गया कि सरकार उनकी जमीनें हड़पना चाहती है। असल में आढ़ती किसानों के नाम पर अपनी साहूकारी बचाने का प्रयास कर रहे थे जो अब धीरे-धीरे साबित होती जा रही है।

Comments

Also read:पराग अग्रवाल ट्विटर के नए सीईओ, दुनिया की बड़ी कंपनियों के शीर्ष अधिकारियों में एक और ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:एडमिरल आर. हरि कुमार बने नौसेना प्रमुख, संभाली देश की समुद्री कमान ..

संयुक्त  किसान मोर्चा में फूट, आंदोलन वापसी पर फैसला कल
सीएम धामी ने की देवस्थानम बोर्ड को समाप्त करने की घोषणा, शीतकालीन सत्र में लाया जाएगा प्रस्ताव

बंगाल में अब पानी के साथ चावल में भी है आर्सेनिक की प्रचुर मात्रा

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि आर्सेनिकयुक्त भोजन शरीर में कैंसर की शुरुआत का कारण बनता है   भूजल में सबसे अधिक आर्सेनिक पाए जाने वाले राज्यों में शुमार पश्चिम बंगाल के निवासियों के लिए चिंता बढ़ती ही जा रही है। इसकी वजह है कि यहां पानी के साथ अब चावल में भी बड़े पैमाने पर आर्सेनिक पाया गया है। बंगाल देश का एक ऐसा राज्य है, जहां सालभर धान की खेती होती है। यहां के मूल निवासी बंगाली समुदाय रोटी के बजाय चावल ही सबसे अधिक खाता है और रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि आर्सेनिक की मौ ...

बंगाल में अब पानी के साथ चावल में भी है आर्सेनिक की प्रचुर मात्रा