पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

गोली चलने के इन्तजार में थे टिकैत मगर खून – खराबा न हुआ !

WebdeskJan 29, 2021, 11:20 AM IST

गोली चलने के इन्तजार में थे टिकैत मगर खून – खराबा न हुआ !

थी ख़बर गर्म कि 'ग़ालिब' के उड़ेंगे पुर्ज़े / देखने हम भी गए थे प तमाशा न हुआ. मिर्जा ग़ालिब का यह शेर आज पूरी तरह मौंजू है. किसानों की आड़ में आन्दोलन चलाने वाले राकेश टिकैत, वामपंथी एंकर रविश कुमार और राजदीप सरदेसाई को 26 जनवरी को काफी निराशा हाथ लगी. ये सभी दम साधे देख रहे थे कि गणतंत्र दिवस के दिन लाल किले के प्रांगण में गोली चलेगी और फिर तमाशा होगा मगर तमाशा हो नहीं पाया तिरंगे के अपमान के बाद राकेश टिकैत के मन की बात जुबान पर आ गई. उन्होंने कहा कि “ तिरंगे की सुरक्षा के लिए पुलिस ने गोली क्यों नहीं चलाई ?” तेज गति से ट्रैक्टर चलाने के कारण एक युवक की मृत्यु हुई तो राजदीप सरदेसाई ने टी. वी चैनल पर घोषणा कर दी कि गोली लगने से किसान की मृत्यु हो गई! कुछ समय बाद ही साफ़ हो गया कि ट्रैक्टर की दुर्घटना के कारण मृत्यु हुई थी. 26 जनवरी को रविश कुमार ने ट्वीट किया कि “एक किसान की मृत्यु हो गई किसी भी पुलिस कर्मी की मृत्यु नहीं हुई. जो अराजक होता है वह मरता है या मारता है. समझने की कोशिश कीजिए.” इतने सब कुछ से यह समझा जा सकता है कि यह सभी लोग खून-खराबे के इन्तजार में बेताब थे. क्या ये लोग चाह रहे थे कि भीड़ जब रूट तोड़कर कर लाल किले की तरफ जाने की कोशिश करेगी तो पुलिस गोली चलाए और उसके बाद राजनीतिक रोटियां सेंकी जाएं, मगर पुलिस ने गोली नहीं चलाई. पुलिस हाथ जोड़ती रही और घायल होती रही. पुलिस ने धैर्य बनाए रखा. उपद्रव करने वाले लोग सभी हदें पार करके लाल किले की प्राचीर पर चढ़ गए और तिरंगे का अपमान किया. जहां पर तिरंगा फहरता है वहां पर निशान साहिब का झंडा लगा दिया गया. राकेश टिकैत का यह सवाल उठाना कि गोली क्यों नहीं चली ? क्या यह इस बात की तरफ इशारा करता है कि वे गोली चलने का इन्तजार कर रहे थे ? अपने आन्दोलन को शांतिपूर्ण बताने वाले राकेश टिकैत, गोली चलाने का सवाल क्यों पूछ रहे हैं ? लाल किले की प्राचीर पर चढ़कर जिस तरीके से तिरंगे का अपमान हुआ. उसकी सफाई में राकेश टिकैत ने कहा कि “यह सब कुछ पुलिस और प्रशासन की वजह से हुआ. अगर वह चाहते तो तिंरगे का अपमान रोक सकते थे ? इसका मतलब साफ़ है कि राकेश टिकैत खून की होली खेलना चाहते थे. उन्हें पूरा विश्वास था कि पुलिस जैसे ही गोली चलाएगी पूरा मामला पलट जाएगा. दर्जनों वीडियो ऐसे हैं जिसमे साफ़ दिख रहा है कि पुलिस के जवान, आन्दोलनकारियों से हाथ जोड़ रहे हैं. उपद्रव करने वाले पुलिस पर हमला कर रहे हैं. उसके बावजूद उन्हें समझाने का प्रयास किया जा रहा है. उधर, टी.वी एंकर राजदीप सरदेसाई भी गोली चलने के इन्तजार में बैठे थे. जैसे ही ट्रैक्टर से दबकर एक युवक की मृत्यु हुई. राजदीप सरदेसाई ने घोषणा कर दी कि गोली लगने से किसान की मृत्यु हो गई. किसानों के नाम पर चलाए जा रहे इस आन्दोलन को रक्त-रंजित करने की तैयारी थी. मगर यह षड्यंत्र पूरी तरह फेल हो गया. गणतंत्र दिवस की उस घटना के बाद सभी को लग गया कि आन्दोलन गलत दिशा में जा चुका है. राकेश टिकैत के साथ जो लोग भी थे वो अपने घरों को लौट गए. टिकैत को जब लगा कि वह अकेले पड़ गए हैं तब वे कैमरे के सामने आंसू गिरा कर रोने लगे. बेहतर होता कि अनर्गल आरोप लगाने वाले राकेश टिकैत को तिरंगे के अपमान पर रोना आया होता. मगर उन्हें अपना षड्यन्त्र फेल होने पर रोना आया.

Comments

Also read: भारत 100 करोड़ टीकाकरण के करीब, बड़े समारोह की तैयारी ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: UNHRC में भारी बहुमत से चुना गया भारत ..

साइबर सुरक्षा: जब उपकरण ही बन जाएं खलनायक
इस्लामिक देशों के संगठन ओआईसी ने रोया 'असम' का रोना, हिंसक बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए दिखाई हमदर्दी

COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन उत्पादक

अमेरिका की उप-विदेश मंत्री वेंडी शर्मन ने बुधवार को कहा कि भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच एक ‘अनिवार्य’ साझेदारी है जो कई आयामों के क्षेत्रों को कवर करती है और दोनों देश संयुक्त रूप से किसी भी चुनौती को दूर कर सकते हैं। विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ बैठक के दौरान शर्मन ने कहा, "प्रधानमंत्री मोदी की हाल की वाशिंगटन यात्रा और एक सप्ताह पहले हुई क्वाड नेताओं के शिखर सम्मेलन ने दिखाया है कि हमारी एक अनिवार्य साझेदारी है। ऐसी कोई चुनौती नहीं है, जिसे संयुक्त राज्य अ ...

COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन उत्पादक