पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संस्कृति

पंतनगर में राष्ट्रीय युवा संगोष्ठी संपन्न

WebdeskFeb 02, 2021, 10:01 AM IST

पंतनगर में राष्ट्रीय युवा संगोष्ठी संपन्न

गत दिनों स्वामी विवेकानंद की जयंती पर गोविन्द बल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर में युवा संगोष्ठी एवं अंतर विश्वविद्यालय वाद-विवाद प्रतियोगिता का आनलाइन आयोजन हुआ। गत दिनों स्वामी विवेकानंद की जयंती पर गोविन्द बल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर में युवा संगोष्ठी एवं अंतर विश्वविद्यालय वाद-विवाद प्रतियोगिता का आनलाइन आयोजन हुआ। विवेकानंद स्वाध्याय मंडल द्वारा आयोजित इस संगोष्ठी में 95 विश्वविद्यालयों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। इन लोगों ने ‘आत्मनिर्भर भारत को प्राप्त करने में युवाओं की भूमिका’, ‘आत्मनिर्भरता की भारतीय भावना को पुनर्जीवित करना’, ‘दक्षता, पुन: दक्षता और नए कौशल में दक्षता के मंत्र को पूरा करना’, ‘वोकल फॉर लोकल के तहत स्थानीय तंत्र और तकनीकों को अपनाना और समझना’, ‘व्यावसायिक विकास के जरिए नवोन्मेष को बढ़ावा देना’, ‘वैश्विक रूप से प्रतिस्पर्धात्मक बनना’, ‘मेक इन इंडिया को विश्व के समक्ष प्रस्तुत करना’ जैसे विषयों पर विचार प्रस्तुत किए। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार। गोष्ठी को पद्मश्री निवेदिता भिड़े सहित अनेक विद्वानों ने संबोधित किया। https://www.panchjanya.com/Encyc/2021/2/2/National-Youth-Seminar-concluded-in-Pantnagar.html

Comments

Also read: वैदिक काल में होता था दूरस्थ देशों से व्यापार ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: शरद पूर्णिमा का अमृत उत्सव, जानिये सबकुछ ..

चीन सीमा तक पहुंचने लगी हैं सड़कें, मोदी सरकार के कार्यकाल में शुरू हुआ काम अंतिम चरण में
भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर को होंगे बंद

वैदिक काल में उन्नत थी व्यावसायिक शब्दावली

प्रो. भगवती प्रकाश वैदिक काल में उद्योग-व्यवसाय क्षेत्र से जुड़ी शब्दावली का प्राचुर्य मिलता है। मात्र धन या पूंजी की पृथक प्रकृति होने पर पृथक शब्दावली का प्रावधान था। इसके अलावा सभी प्रकार के उद्यमों की स्थापना, संचालन व प्रबन्ध और उनसे सत्यनिष्ठा एवं नैतिकता के साथ धनार्जन के अनेक मन्त्र हैं। उद्योग, व्यापार एवं वाणिज्य से व्यावसायिक लाभ व प्रतिष्ठा अर्जित करने की रीति-नीति अर्थात स्ट्रेटेजी सम्बन्धी उन्नत शब्दावली के वेदों में प्रचुर सन्दर्भ हैं। अथर्ववेद के वाणिज्य सूक्त सहित यजुर्वे ...

वैदिक काल में उन्नत थी व्यावसायिक शब्दावली