पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

Top Stories

फेक न्यूज फैलाने वाले कांग्रेस नेता उदित राज के खिलाफ एफआईआर

WebdeskFeb 23, 2021, 07:17 AM IST

फेक न्यूज फैलाने वाले कांग्रेस नेता उदित राज के खिलाफ एफआईआर

उन्नाव जनपद में हुई दो लड़कियों की हत्या के मामले में कांग्रेस नेता उदित राज ने अफवाह फैला कर माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया। अब उन्नाव जनपद में उदित राज के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज की गई है। उदित राज ने ट्विटर पर लिखा था “पीड़ित परिजनों ने बताया है कि बच्चियों के साथ बलात्कार हुआ है। मर्जी के खिलाफ मृतक लड़कियों की लाशें जला दी गईं।” जबकि पोस्टमार्टम में खुलासा हुआ कि लड़कियों के शरीर पर किसी भी प्रकार का चोट का निशान नहीं पाया गया. उन लोगों को धोखे से जहर दे दिया गया था। दरअसल, उन्नाव जनपद की पुलिस ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से उदित राज के झूठ का खुलासा किया है। पुलिस ने स्पष्ट किया कि असोहा थाना अंतर्गत बबुरहा में हुई घटना में उदित राज ने भ्रामक एवं गलत तथ्य ट्विटर पर लिखा था। लड़कियों के साथ बलात्कार नहीं हुआ था और उनके शव का अंतिम संस्कार परिवार वालों की सहमति पर किया गया था। बता दें, उदित राज ने गलत तथ्य ट्वीट करके जन मानस में आक्रोश फैलाने का प्रयास किया। उन्नाव पुलिस के मुताबिक जानबूझ कर मन गढ़ंत एवं फर्जी खबरों को सोशल मीडिया पर प्रसारित करने के कारण अभियोग पंजीकृत करने की कार्रवाई की गई। गौरतलब है उन्नाव जनपद में तीन लड़कियों को कीटनाशक पिला दिया गया था। पुलिस ने इस घटना का खुलासा करते हुए अभियुक्त विनय को गिरफ्तार किया। पुलिस के सामने विनय ने स्वीकार किया कि लड़की द्वारा प्रेम का प्रस्ताव अस्वीकार कर देने पर उसने धोखे से जहर पिला दिया था।

Comments

Also read: पंजाब की कांग्रेस सरकार का मेहमान कुख्यात अपराधी मुख्तार अब उत्तर प्रदेश पुलिस की हिर ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: हत्या पर चुप्पी, पूछताछ पर हल्ला ..

फिर चर्चा में दरभंगा मॉड्यूल
पश्चिम बंगाल : विकास की आस

चुनौती से बढ़ी चिंता

डॉ. कमल किशोर गोयनका सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और साहित्य पर कुछ लिखने से पहले वामपंथी पत्रिका ‘पहल’ के अंक 106 में प्रस्थापित इस मत का खंडन करना आवश्यक है कि मोदी सरकार के आने के बाद सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर चर्चा तेज हो गई है। ‘सोशल मीडिया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ लेख में जगदीश्वर चतुर्वेदी ने इस चर्चा के मूल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को देखा है और उनकी स्थापना है कि यह काल्पनिक धारणा है, भिन्नता और वैविध्य का अभाव है तथा एक असंभव विचार है। यह सारा विचार एवं निष्कर्ष तथ्यों-तर्कों के ...

चुनौती से बढ़ी चिंता