पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

Top Stories

बजरंग दल ने अर्पित की रिंकू को श्रद्धांजलि

WebdeskFeb 24, 2021, 08:07 AM IST

बजरंग दल ने अर्पित की रिंकू को श्रद्धांजलि

14 फरवरी को मंगोलपुरी में रिंकू शर्मा की ‘मॉब लिंचिंग’ में हुई दर्दनाक मृत्यु पर बजरंग दल ने देश में हजारों स्थानों पर श्रद्धांजलि सभाओं का आयोजन किया। सभी जगह एक ही स्वर गंूजा-‘इस्लामिक जिहादियों को काबू करो, सभी हत्यारों को अविलंब गिरफ्तार कर त्वरित अदालत में सुनवाई कर शीघ्र फांसी पर लटकाओ’। मंगोलपुरी में रिंकू शर्मा के घर के पास एक विराट सभा को संबोधित करते हुए विश्व हिंदू परिषद के कार्याध्यक्ष एडवोकेट आलोक कुमार ने कहा कि रिंकू शर्मा हमारे बीच से जाते हुए एक कर्ज हमारे ऊपर छोड़ गया है। हम उस माता के कर्ज को चुकायेंगे और एक नही, हजारों कार्यकर्ता उस परिवार की सुरक्षा के लिए सदैव तत्पर रहेंगे। उन्होंने ‘एस’ ब्लॉक चौक का नाम ‘रिंकू शर्मा चौक’ करने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने मांग की कि सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे दर्जनभर अपराधियों को तीन दिन के अन्दर गिरफ्तार किया जाए। इस्लामिक जिहादियों ने अनेक हिन्दुओं की हत्या की है। इस जिहादी मनोवृत्ति को समाप्त करना होगा। हम हिन्दू समाज को आतंकवाद व हिंसा से मुक्त करायेंगे । इस अवसर पर अखिल भारतीय संत समिति के महामंत्री पूज्य जितेन्द्रानन्द सरस्वती जी महाराज, दिल्ली आर्य समाज प्रतिनिधि सभा के महामंत्री विनय आर्य, पूज्य महन्त नवल किशोर दास जी महाराज, विहिप, दिल्ली प्रांत के अध्यक्ष कपिल खन्ना, बजरंग दल के प्रांत संयोजक भारत बत्रा, क्षेत्र के सांसद हंसराज हंस, दिल्ली प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष आदेश गुप्ता, भाजपा विधायक विजेन्द्र गुप्ता सहित अनेक सामाजिक, धार्मिक व सांस्कृतिक संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Comments

Also read: पंजाब की कांग्रेस सरकार का मेहमान कुख्यात अपराधी मुख्तार अब उत्तर प्रदेश पुलिस की हिर ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: हत्या पर चुप्पी, पूछताछ पर हल्ला ..

फिर चर्चा में दरभंगा मॉड्यूल
पश्चिम बंगाल : विकास की आस

चुनौती से बढ़ी चिंता

डॉ. कमल किशोर गोयनका सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और साहित्य पर कुछ लिखने से पहले वामपंथी पत्रिका ‘पहल’ के अंक 106 में प्रस्थापित इस मत का खंडन करना आवश्यक है कि मोदी सरकार के आने के बाद सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर चर्चा तेज हो गई है। ‘सोशल मीडिया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ लेख में जगदीश्वर चतुर्वेदी ने इस चर्चा के मूल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को देखा है और उनकी स्थापना है कि यह काल्पनिक धारणा है, भिन्नता और वैविध्य का अभाव है तथा एक असंभव विचार है। यह सारा विचार एवं निष्कर्ष तथ्यों-तर्कों के ...

चुनौती से बढ़ी चिंता