पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

Top Stories

भगत सिंह के प्रेरणा पुरुष थे वीर सावरकर

WebdeskFeb 26, 2021, 09:00 AM IST

भगत सिंह के प्रेरणा पुरुष थे वीर सावरकर

वीर सावरकर और भगत सिंह का रिश्ता बेहद प्रगाढ़ था । सशस्त्र क्रांति द्वारा भारतीय स्वातंत्र्य की प्राप्ति, भारत को धार्मिक नहीं अपितु विज्ञान की नींव पर खड़ा करना, मुस्लिम अलगाव के खतरे को पहचानने जैसे अनेकों विचारों में दोनों में समानता पाई जाती है सत्य व तथ्य परखे बगैर, जरूरत पड़े तो उसे मरोड़कर भी सावरकर तथा राष्ट्रीय विचारधारा का विरोध करना मात्र है। स्पष्ट रूप से देंखे तो सावरकर साहित्य व विचारों का अध्ययन किए बगैर, जो सावरकर ने कभी कहा ही नहीं, वह सावरकर पर लादकर जो सावरकर ने किया उसे नजर अंदाज कर, केवल अपना संकुचित स्वार्थ साधने हेतु यह विकृत टीका टिप्पणी की जाती है। उसके चलते भगत सिंह को साम्यवाद के खेमे में खड़ा किया जाता है और सावरकर से उनका रिश्ता नकारा जाता हैं। आश्चर्य की बात यह हैं कि भारत में वामपंथी विचारधारा के पुरोधा रहे मानवेन्द्र नाथ राय, कामरेड डांगे आदि नेता गण सावरकर को अपना प्रेरणा पुरुष मानते थे और वैसा जाहिर तौर पर प्रकट भी करते हैं। इतना ही नहीं जिस लेनिन की ये लोग दुहाई देते रहते हैं, वह भी वीर सावरकर के क्रांतिकारी गतिविधियों के पक्षधर थे। लेकिन वास्तविक इतिहास स्वीकारना इन्हें नहीं भाता है इसलिए ये मनगढ़ंत इतिहास रचते हैं। ऐसे समय पर भगत सिंह के प्रमुख प्रेरणापुरुष रहे वीर सावरकर और भगत सिंह के ऐतिहासिक संबंधों को उजागर करना आवश्यक होगा । वीर सावरकर और भगत सिंह का रिश्ता बेहद प्रगाढ़ था । सशस्त्र क्रांति द्वारा भारतीय स्वातंत्र्य की प्राप्ति, भारत को धार्मिक नहीं अपितु विज्ञान की नींव पर खड़ा करना, मुस्लिम अलगाव के खतरा को पहचानने जैसे अनेकों विचारों में दोनों में समानता पाई जाती है। आज हम मात्र सशस्त्र क्रांतिकारी रिश्ते को देखेंगे । 23 वर्षीय सावरकर जी के प्रभाव से हरनाम सिंह, भाई परमानंद, लाला हरदयाल, मदनलाल ढिंगरा, बैरिस्टर आसफ अली, जैसे अनेकों युवक सशस्त्र क्रांति से जुड़े। इतना ही नहीं वीर सावरकर को पढ़ाई के लिए छात्रवृत्ति प्रदान करने वाले बैरिस्टर सरदार सिंह राणा व श्यामजी कृष्ण वर्मा ने भी सावरकर के हाथों सशस्त्र क्रांति की प्रतिज्ञा ली थी। सावरकर द्वारा स्थापित फ्री इंडिया सोसाइटी से ये सब जुड़े हुए थे । इस सोसाइटी ने अक्टूबर 1908 में भगत सिंह के चाचा व सशस्त्र क्रांतिकारी सरदार अजित सिंह का अभिनंदन किया था। इस का उल्लेख सावरकर जी ने अपनी पुस्तक में किया हैं । इसका अर्थ सावरकर व भगत सिंह के परिवार का रिश्ता पहले से दिखाई पड़ता हैं। जो भगत सिंह के बलिदान के बाद भी कायम रहा। सावरकर द्वारा लंदन में किया गया कार्य इतना अनुठा व गहरा था कि में रासबिहारी बसु, मानवेंद्रनाथ राय जैसे कंदावर क्रांतिकारी नेता सावरकर से प्रभावित हो उनका गुरुत्व स्वीकार चुके थे| सावरकर से दीक्षित लाला हरदयाल व पं परमानंद से प्रभावित होकर गदर के हजारों युवा, सावरकर के नक्शे कदम चलने लगे। उनमें से एक थे, करतार सिंह सराबा। वह गदर के संपादन विभाग में कार्यरत थे और बाद में गदर आंदोलन के शीर्ष नेता बने। करतार सिंह ने भारत लौटकर प्रथम विश्व युद्ध में, सैन्य विद्रोह फैलाने का प्रयोग किया था। यह सावरकर के स्वातंत्र्य समर ग्रंथ का प्रत्यक्ष प्रयोग था । जिसमें करतार सिंह रासबिहारी बसु व पंडित परमानंद के साथ जुड़ गए थे। उल्लेखनीय हैं, ये दोनों सावरकर से पूर्ण रूप से प्रभावित थे । इन्हीं के साथ रहकर भगत सिंह सशस्त्र क्रांति के लिए मैदान में उतर पड़े। स्वयं भगत सिंह सावरकर से मिलने रत्नागिरि गए थे। ऐसा उल्लेख क्रांतिकारी वामन चव्हाण अपने संस्मरणों में करते हैं। भगत सिंह की क्रांतिकारी गतिविधियां बढ़ गई थीं । उसमें और गहराई आने लगी। उसी के चलते उन्होंने सावरकर की प्रयोग सिद्ध पुस्तक स्वातंत्र्य समर का तीसरा भाग प्रकाशित किया। इस पुस्तक से भगत सिंह काफी प्रभावित थे। वह वीर सावरकर के चरित्र एवं साहित्य का बारीकी से अध्ययन कर चुके थे। यह रिश्ता भी एक तरफा नहीं था। वीर सावरकर को भी अपनी अगली पीढ़ी में जन्मे भगत सिंह पर गर्व था। विकृत और इतिहास को तोड़ मरोड़कर पेश करने वाले चिल्लाते हैं कि, सावरकर जी ने भगत सिंह की फांसी को रोकने की कोशिश नहीं की, चुप्पी साधे रहे, लेकिन इतिहास साक्षी है कि यह कोशिश सावरकर नहीं कर सकते थे क्योंकि उस समय वह स्वयं ही अंग्रेजों के बंधक थे और रत्नगिरी में बंद थे। आज हुतात्मा भगत सिंह के जन्म दिवस के अवसर पर असली प्रेरणा पुरुष सावरकर को याद करना बेहद आवश्यक है।

Comments

Also read: पंजाब की कांग्रेस सरकार का मेहमान कुख्यात अपराधी मुख्तार अब उत्तर प्रदेश पुलिस की हिर ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: हत्या पर चुप्पी, पूछताछ पर हल्ला ..

फिर चर्चा में दरभंगा मॉड्यूल
पश्चिम बंगाल : विकास की आस

चुनौती से बढ़ी चिंता

डॉ. कमल किशोर गोयनका सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और साहित्य पर कुछ लिखने से पहले वामपंथी पत्रिका ‘पहल’ के अंक 106 में प्रस्थापित इस मत का खंडन करना आवश्यक है कि मोदी सरकार के आने के बाद सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर चर्चा तेज हो गई है। ‘सोशल मीडिया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ लेख में जगदीश्वर चतुर्वेदी ने इस चर्चा के मूल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को देखा है और उनकी स्थापना है कि यह काल्पनिक धारणा है, भिन्नता और वैविध्य का अभाव है तथा एक असंभव विचार है। यह सारा विचार एवं निष्कर्ष तथ्यों-तर्कों के ...

चुनौती से बढ़ी चिंता