पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

पुस्तकें

भारत के गौरवशाली अतीत को नमन

WebdeskApr 20, 2021, 02:02 PM IST

भारत के गौरवशाली अतीत को नमन

पुस्तक समीक्षा पुस्तक का नाम : महान भारतीय क्रांतिकारी पृष्ठ : 166 पुस्तक का नाम : महान भारतीय वीर पुरुष पृष्ठ : 150 इन दोनों पुस्तकों के लेखक हैं विजय कुमार गुप्ता और गौतम सपरा। दोनों पुस्तकें सुरुचि प्रकाशन, केशवकुंज, झंडेवाला, नई दिल्ली-110055 से प्रकाशित हुई हैं। प्रत्येक का मूल्य 100 रु. है। सुरुचि प्रकाशन से हाल ही में दो बेहतरीन किताबें आई हैं- ‘महान भारतीय क्रांतिकारी’ और ‘महान भारतीय वीर पुरुष’। इन पुस्तकों में अनेक प्रेरणादायी भारतीय वीर पुरुषों और क्रांतिकारियों के जीवनवृत्त को हमारे सामने रखा गया है। इसमें क्रूर अंग्रेजों से जूझते बंगाल के 16 वर्षीय युवा क्रांतिकारी खुदीराम बोस हैं, तो मृत्यु जैसे जटिल विषय पर यमराज से निडर हो सवाल करते वीर नचिकेता भी हैं। क्रूर-अत्याचारी औरंगजेब के जल्लादों द्वारा खड़ी की जा रही दीवार में चिनते गुरु गोबिंद सिंह के जांबाज शेर बच्चे जोरावर और फतेह हैं, तो कालापानी की सेलुलर जेल में अंग्रेजों के अत्याचारों से लोहा लेते, दोहरा आजीवन कारावास भोगते भारत के महान सपूत वीर सावरकर भी हैं। ऐसी किताबें, खासकर हमारी नई पीढ़ी के किशोरों और युवाओं के लिए नितांत आवश्यक हैं। क्योंकि उनमें से अधिकांश तो केवल 1947 के बाद के भारत की ही बातें करते हैं। हमारे हजारों वर्षों के संघर्षशील और गौरवशाली इतिहास से वे लगभग अनभिज्ञ ही हैं। हमारे विद्यालयों में भी जो इतिहास पढ़ाया जा रहा है, उसमें भी हमारे अनेकानेक वीर पुरुषों, क्रांतिकारियों का या तो जिक्र ही नहीं है और अगर है भी तो बहुत ही उथले रूप में है। लेकिन सवाल यह है कि ऐसी आवश्यक किताबें उन तक पहुंचें कैसे? ऐसी किताबों को छापने के साथ-साथ, इनके उपयुक्त पाठकों तक ये कैसे उपलब्ध हों, इस विषय पर प्रकाशकों को विचार करना चाहिए। इन किताबों के जरिए नई पीढ़ी को न केवल आधुनिक भारत, अपितु प्राचीन और पौराणिक भारत के गौरवशाली व्यक्तित्वों के बारे में भी जानकारी मिलेगी। भक्त प्रह्लाद, नचिकेता, कार्तिकेय, अभिमन्यु, एकलव्य से लेकर खारवेल, लचित बड़फूकन, वीर हकीकत राय, फतेह सिंह, जोरावर सिंह जैसे वीर सपूतों के जीवन से जब नई पीढ़ी रूबरू होगी तभी उसे भारत के निर्माण का वास्तविक अर्थ समझ आएगा। जब वे छत्रसाल, महराणा प्रताप, शिवाजी महाराज, वीर सावरकर, बिरसा मुंडा, सुभाष चन्द्र बोस, भगत सिंह, मदनलाल ढींगरा, खुदीराम बोस जैसे महान क्रांतिकारियों के सच्चे जीवनवृत्त से अवगत होंगे तभी वे भारत की आजादी के मर्म को महसूस कर पाएंगे। प्रेरणा, पराक्रम और पवित्रता से परिपूर्ण इन वीर सपूतों का जीवन नई पीढ़ी के लिए अनुकरणीय बने, यही इन किताबों का उद्देश्य है। ‘महान भारतीय वीर पुरुष’ के प्रकाशकीय में लिखा गया है, ‘‘भारतीय जन समाज में ऐसे अनेक धीर-वीर, साहसी और निडर बालक हुए, जिन्होंने अपने शौर्य, तप व अदम्य साहस के बल पर असंभव को संभव कर दिखाया। इन वीर सपूतों ने देश व धर्म की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया।’’ विद्यालय-स्तर पर ऐसी पुस्तकों को पूरे भारत में पाठ्यक्रमों का हिस्सा बनाया जाना चाहिए और सभी प्रमुख भारतीय भाषाओं में इनका अनुवाद भी होना चाहिए, ताकि किशोरावस्था में ही हर प्रांत के विद्यार्थी इन्हें पढ़ सकें। आप भी एक बार इन पुस्तकों को जरूर पढ़ें। —नरेश शांडिल्य

Comments
user profile image
संस्कार श्रीवास्तव
on Sep 28 2021 13:38:56

सभी विद्यालयों के छात्र छात्राओं के पास से पुस्तक होनी चाहिए

user profile image
Anonymous
on Sep 07 2021 01:59:44

भारत के वीर सपूतों को नमन है मेरा

Also read:पन्नों पर खनकते घुंघरु ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:रांची में चित्र भारती फिल्मोत्सव के पोस्टर का विमोचन ..

पुस्तक समीक्षा : बलूची तड़प को समझने की कोशिश
मानवीय भावों से साक्षात्कार

हिन्दी के उन्नयन को समर्पित पुस्तकालय

पुस्तक समीक्षा स्मारिका का नाम : शताब्दी स्मारिका संपादक मंडल : डॉ. प्रेम शंकर त्रिपाठी, महावीर बजाज, वंशीधर शर्मा, दुर्गा व्यास, योगेशराज उपाध्याय, तरुण प्रकाश मल्लावत प्रकाशक : श्री बड़ा बाजार कुमारसभा पुस्तकालय 1-सी, पहली मंजिल, मदनमोहन बर्मन स्ट्रीट, कोलकाता-700007 यदि कोई संस्था अपनी सारी गतिविधियों को जारी रखते हुए 100 वर्ष की यात्रा पूरी कर लेती है, तो यह आज के समय में बड़ी बात मानी जाती है। यह भी कह सकते हैं कि यह उस संस्था के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि है। यह उपलब्धि प्राप ...

हिन्दी के उन्नयन को समर्पित पुस्तकालय