पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

मंदिर आंदोलन को बनाया जनांदोलन

WebdeskJan 28, 2021, 02:50 PM IST

मंदिर आंदोलन को बनाया जनांदोलन

मंदिर आंदोलन को बनाया जनांदोलन श्रीराम जन्मभूमि के लिए चले आंदोलनों की चर्चा तब तक अधूरी रहेगी जब तक उसमें वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी के नाम को शामिल नहीं किया जाता है। उन्होंने राम जन्मभूमि आंदोलन को विस्तार देने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई। सोमनाथ से अयोध्या रथ यात्रा के दौरान रथ पर सवार श्री लालकृष्ण आडवाणी एवं उनका अभिनंदन करते रामभक्त श्रीराम जन्मभूमि के लिए चले आंदोलनों की चर्चा तब तक अधूरी रहेगी जब तक उसमें वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी के नाम को शामिल नहीं किया जाता है। उन्होंने राम जन्मभूमि आंदोलन को विस्तार देने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई। वे ही इस आंदोलन को राजनीति की धुरी में लाए। उनके नेतृत्व में भाजपा ने इस आंदोलन को धार देने का काम किया। इस कारण केवल पांच वर्ष में ही लोकसभा में भाजपा की सीटें दो से 86 तक पहुंच गई थीं। 1984 में मात्र दो सीटें जीतने वाली भाजपा 1989 के आम चुनाव में 86 सीटें जीतने में सफल हुई थी। उस समय आडवाणी भाजपा के अध्यक्ष थे। भाजपा के समर्थन से ही जनता दल के नेता वीपी सिंह प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे। आडवाणी ने 1990 में गुजरात के सोमनाथ मंदिर से अयोध्या के लिए रथयात्रा शुरू की। pj_1 H x W: 0 रास्ते में उन्हें सुनने के लिए लाखों लोग आते थे। इससे देश में भाजपा की लोकप्रियता के साथ राम मंदिर आंदोलन की व्यापकता बढ़ रही थी। देखते ही देखते आडवाणी की रथयात्रा गुजरात से बिहार तक पहुंच गई। इसके बाद उनकी यात्रा को राकेने की रणनीति बनी। कहा जाता है कि प्रधानमंत्री वीपी सिंह और बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू यादव आडवाणी की रथयात्रा से सबसे ज्यादा परेशान हुए। अत: दोनों ने आडवाणी को गिरफ्तार करने करने का विचार किया। इसके बाद लालू यादव गिरफ्तारी से पूर्व की प्रक्रिया को पूरा कराने में जुट गए और अंतत: आडवाणी को बिहार के समस्तीपुर में 23 अक्तूबर, 1990 को सुबह-सुबह होटल के कमरे से गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद भाजपा ने वीपी सिंह सरकार से समर्थन वापस ले लिया और उनकी सरकार गिर गई। दरअसल, इस गिरफ्तारी के जरिए लालू यादव अपने को घोर सेकुलर घोषित करना चाहते थे। इसमें उन्हें बहुत हद तक सफलता भी मिली। वे मुसलमानों और अन्य सेकुलरों के पसंदीदा नेता हो गए। यही कारण है कि बिहार में उनका लगातार 15 वर्ष तक राज रहा।

Comments

Also read: ऑस्कर में नहीं जाएगी फिल्म 'सरदार उधम सिंह', अंग्रेजों के प्रति घृणा दिखाने की बात आ ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: सूचना लीक मामला: सीबीआई ने नौसेना के अधिकारियों को किया गिरफ्तार, उच्च स्तरीय जांच के ..

भारत का रक्षा निर्यात पांच वर्षों में 334 फीसदी बढ़ा, 75 से अधिक देशों को सैन्य उपकरणों का कर रहा निर्यात
गुरुजी के प्रयासों से ही आज जम्मू-कश्मीर है भारत का अभिन्न अंग

फिर भारत से उलझने को बेताब है चीन, नए ‘लैंड बॉर्डर लॉ’ की आड़ में कब्जाई जमीन पर अधिकार जमाने की तैयारी!

 नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की स्थायी समिति ने बीजिंग में संसद की समापन बैठक के दौरान इस कानून को पारित किया। ताजा जानकारी के अनुसार, अगले साल 1 जनवरी को यह कानून लागू कर दिया जाएगा भारत तथा चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर चीन की शैतानी मंशा में एक और पहलू तब जुड़ गया जब उसने अपनी संसद के परसों खत्म हुए सत्र में सीमावर्ती इलाकों के संबंध में अपनी 'संप्रभुता तथा क्षेत्रीय अखंडता को उल्लंघन से परे' बताते हुए नया लैंड बार्डर लॉ पारित कराया। उल्लेखनीय है कि भारत-चीन के बीच 3,488 कि ...

फिर भारत से उलझने को बेताब है चीन, नए ‘लैंड बॉर्डर लॉ’ की आड़ में कब्जाई जमीन पर अधिकार जमाने की तैयारी!