पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

Top Stories

मजहबी स्थलों पर पैसा लुटाती कांग्रेस की राजस्थान सरकार

WebdeskMar 16, 2021, 01:26 PM IST

मजहबी स्थलों पर पैसा लुटाती कांग्रेस की राजस्थान सरकार

यूं तो तुष्टीकरण की राजनीति कांग्रेस के डीएनए में है, लेकिन जब से राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनी है तभी से समय-समय पर इनके मुस्लिम प्रेम के उदाहरण देखने को मिलते रहते हैं। राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले दिनों बजट घोषणाओं में मुसलमानों के मजहबी स्थलों के लिए 100 करोड़ रुपए का पैकेज दिया है। इसके तहत राज्य सरकार सरवाड़ दरगाह— अजमेर, दरगाह तन्हा पीर मंडोर—जोधपुर, दरगाह कपासन— चितौड़, हमीमुद्दीन दरगाह—नागौर, मिठ्ठेशाह दरगाह— झालावाड़, नरहड़ की दरगाह—झुंझनु, हकीम साहब की दरगाह—सीकर, मीर कुर्बान अली दरगाह चारदरवाजा व दरगाह सांभर और जयपुर के कई अन्य मजहबी स्थलों को पर्यटन सर्किट बनाए जाने पर 100 करोड़ रुपये खर्च करेगी। हालांकि ये बजट घोषणाएं चार विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव से जोड़कर देखी जा रही हैं, लेकिन इससे कांग्रेस का मुस्लिम प्रेम जगजाहिर हो गया है। दरगाहों के लिए की गई घोषणाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा स्थानीय समाचार पत्रों में विज्ञापन प्रकाशित कराकर बकायदा मुबारकबाद दी जा रही है। 111 पेज की बजट घोषणाओं में सोशल मीडिया पर भी लोगों ने इस पर जमकर कटाक्ष किए हैं। ट्विटर पर एक यूजर वीरेन्द्र शर्मा लिखते हैं कि राजस्थान के इतिहास में पहली बार...यह तो होना ही था। जबकि हिन्दू धर्मस्थलों के लिए कांग्रेस ने आज तक 1 रुपये का विकास स्वरूप बजट नहीं दिया। इसी प्रकार एक अन्य यूजर छगन सिंह लिखते हैं कि उपचुनाव में वोट की लालसा में कांग्रेस सरकार मुस्लिम प्रेम में अंधी हो गई है। हिन्दू धर्मस्थलों के विकास को दरकिनार करना कांग्रेस को भारी पड़ेगा। इससे पूर्व भी राजस्थान सरकार ने मदरसा बोर्ड को वैधानिक मान्यता देकर तुष्टीकरण को बढ़ावा दिया। गोशालाओं को मिलने वाले राजकीय अनुदान में कटौती की गई। वहीं कोरोना काल में तुष्टीकरण के अनेकों मामले सामने आए थे।

Comments

Also read: पंजाब की कांग्रेस सरकार का मेहमान कुख्यात अपराधी मुख्तार अब उत्तर प्रदेश पुलिस की हिर ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: हत्या पर चुप्पी, पूछताछ पर हल्ला ..

फिर चर्चा में दरभंगा मॉड्यूल
पश्चिम बंगाल : विकास की आस

चुनौती से बढ़ी चिंता

डॉ. कमल किशोर गोयनका सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और साहित्य पर कुछ लिखने से पहले वामपंथी पत्रिका ‘पहल’ के अंक 106 में प्रस्थापित इस मत का खंडन करना आवश्यक है कि मोदी सरकार के आने के बाद सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर चर्चा तेज हो गई है। ‘सोशल मीडिया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ लेख में जगदीश्वर चतुर्वेदी ने इस चर्चा के मूल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को देखा है और उनकी स्थापना है कि यह काल्पनिक धारणा है, भिन्नता और वैविध्य का अभाव है तथा एक असंभव विचार है। यह सारा विचार एवं निष्कर्ष तथ्यों-तर्कों के ...

चुनौती से बढ़ी चिंता