पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

ममता ने अलपन को बनाया मुख्‍य सलाहकार

WebdeskJun 01, 2021, 11:38 AM IST

ममता ने अलपन को बनाया मुख्‍य सलाहकार

पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी केंद्र सरकार के साथ टकराव के मूड में हैं। उन्‍होंने मुख्‍य सचिव अलपन बंद्योपाध्‍याय को अपना मुख्‍य सलाहकार बना दिया है। केंद्र के निर्देश के बावजूद उन्‍होंने 31 मई को कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) को रिपोर्ट नहीं किया। उन्‍हें सुबह 10 बजे तक विभाग में रिपोर्ट करना था। इसकी बजाए वे सुबह 11 बजे कोलकाता में राज्य सचिवालय पहुंचे और ममता बनर्जी के साथ यास तूफान और कोरोना से जुड़ी बैठक में हिस्सा लिया। केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल के ‘सेवानिवृत्‍त’ मुख्‍य सचिव को दोबारा पत्र भेजकर उन्‍हें आज सुबह 10 बजे तक डीओपीटी में रिपोर्ट करने को कहा था। साथ ही, चेतावनी दी थी कि ऐसा नहीं करने पर उनके विरुद्ध अनुशासनात्‍मक कार्रवाई की जाएगी। मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को पत्रकारों से कहा था कि बंद्योपाध्‍याय 31 मई को सेवानिवृत्‍त हो गए हैं। वे दिल्‍ली में केंद्र सरकार की नौकरी नहीं करेंगे। मैं उन्‍हें नाबन्‍ना छोड़ने की अनुमति नहीं दूंगी। अब से वे मुख्‍यमंत्री के मुख्‍य सलाहकार होंगे। हमने एच.के. द्विवेदी को राज्‍य का नया मुख्‍य सचिव की नियुक्‍त कर दिया है, जबकि बी.पी. गोपालिका को गृह सचिव बनाया गया है। अलपन बंद्योपाध्‍याय को केंद्र सरकार ने ममता बनर्जी के आग्रह पर तीन माह का सेवा विस्‍तार दिया था। बता दें कि 28 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवाती तूफान यास से होने वाले नुकसान की समीक्षा बैठक के लिए पश्चिम बंगाल गए थे। इस बैठक में ममता बनर्जी के साथ अलपन 30 मिनट देर से पहुंचे और प्रधानमंत्री को जरूरी कागजात देने के बाद दोनों तुरंत चले गए थे। केंद्र सरकार ने अलपन बंद्योपाध्याय को वापस बुलाने का आदेश जारी किया था। आदेश में कहा गया है कि सरकार के साथ उनकी सेवाएं जारी रखने की अनुमति दे दी गई है। साथ ही, राज्य सरकार को तत्काल प्रभाव से अधिकारी को कार्यमुक्त करने और उन्हें 31 मई तक नॉर्थ ब्लॉक में रिपोर्ट करने का निर्देश दिया गया था। इसके बाद 29 मई को पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर बंद्योपाध्‍याय को केंद्र में वापस बुलाने का फैसला वापस लेने का आग्रह किया था। साथ ही, उन्‍होंने केंद्र के फैसले को असंवैधानिक बताते हुए अधिकारी को कार्यमुक्‍त करने से ही इनकार कर दिया था। यही नहीं, उन्‍होंने यह आरोप भी लगाया था, ‘‘प्रधानमंत्री कार्यालय से एकतरफा सूचना प्रसारित कर मुझे अपमानित किया गया। मुझे बुरा लगा। जब मैं काम कर रही थी तो वे ऐसा कर रहे थे। लोगों की बेहतरी के लिए मैं आपके (प्रधानमंत्री) के पैर भी छूने के लिए तेयार हूं। इस राजनीतिक प्रतिशोध को रोकें। मेरा प्रधानमंत्री से अनुरोध है कि मुख्य सचिव (डीओपीटी में रिपोर्ट करने) के इस आदेश को वापस लें और हमें काम करने दें।’’ web desk

Comments

Also read: अब मुख्यमंत्री धामी ने 'एक जिला दो उत्पाद' पर काम करवाया शुरू ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कासिम ने हिन्दू महिला से किया दुष्कर्म, मामला हुआ दर्ज ..

लापता पांच ट्रैकर्स के शव मिले, अभी भी चार लोगों का पता नहीं
बिहार के रास्ते हुई घुसपैठ, नेपाल में 11 अफगानी गिरफ्तार

कोरोना की तर्ज पर नियंत्रित होंगी वायरल बीमारियां

कोरोना की तर्ज पर उत्तर प्रदेश सरकार डेंगू, मलेरिया, कॉलरा एवं टाइफाइड आदि बीमारियों की घर – घर स्क्रीनिंग करायेगी. कोरोना काल में सर्विलांस टीम ने घर – घर जाकर कोरोना के मरीजों के बारे में जानकारी हासिल की थी. ठीक उसी प्रकार अब इन रोगों को भी नियंत्रित किया जाएगा   मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डेंगू, कॉलरा, डायरिया, मलेरिया समेत वायरल से प्रभावित जनपदों में विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही एटा, मैनपुरी और कासगंज में चिकित्सकों की टीम भेज दी गई है. दीपा ...

कोरोना की तर्ज पर नियंत्रित होंगी वायरल बीमारियां