पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

मेवात में एक बार फिर दिखा मजहबी उत्पात

WebdeskMay 18, 2021, 04:58 PM IST

मेवात में एक बार फिर दिखा मजहबी उत्पात

हरियाणा का एक मात्र मुस्लिम—बहुल जिला है मेवात। आएदिन किसी न किसी बहाने यहां बवाल होता है। 17 मई को एक युवक की हत्या पर यहां के मुसलमानों ने ऐसा उत्पात मचाया कि पुलिस वालों को लाठी भांजनी पड़ी। स्थानीय हिंदुओं में डर पैदा करने के लिए आपसी रंजिश की घटना को मॉब लिचिंग बताया जा रहा है गत 17 मई को हरियाणा के मुस्लिम—बहुल जिले मेवात में एक हत्याकांड की आड़ में कट्टरवादी तत्वों ने पुलिस बल पर हमला कर दिया। पहले तो कोरोना के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए बड़ी संख्या में कट्टरवादी जमा हो गए और जिला मुख्यालय नूंह की मुख्य सड़क को बंद कर दिया। जब पुलिस उन्हें हटाने पहुंची तो स्थानीय विधायक आफताब अहमद के सामने ही मुसलमान युवा उन पर पत्थर फेंकने लगे। इन लोगों की मांग थी कि 16 मई को खेड़ा खलीलपुर गांव में आसिफ नामक एक युवक की हत्या के आरोपियों को जल्दी से जल्दी पकड़ा जाए। बता दें कि आसिफ ने कुछ समय पहले खेड़ा गांव की कुछ हिंदू लड़कियों का उस समय अश्लील वीडियो बना लिया था, जब वे लोग स्कूल के किसी कार्यक्रम के दौरान वस्त्र बदल रही थीं। इसके बाद वह उन लड़कियों का भयादोहन करता था। इस बात पर उन लड़कियों के घर वालों और आसिफ के बीच कई बार झड़प भी हुई थी। गांव के कई लोगों पर आसिफ ने हमले भी किए थे। बताया जा रहा है कि 16 मई को भी कुछ ऐसा ही हुआ, जिसमें आसिफ की मौत हो गई। हत्या के आरोप में छह लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। इसके बावजूद इस मामले को लेकर मेवात के मुसलमान हंगामा कर रहे हैं। इनका साथ वहां के मुस्लिम जन प्रतिनिधि भी दे रहे हैं। ये लोग इस आपसी रंजिश की घटना को 'मॉब लिचिंग' बताकर यह कहना चाहते हैं कि देखो हिंदू किस तरह मुसलमानों की हत्या कर रहे हैं। इससे आम मुसलमानों में गुस्सा बढ़ रहा है। लोगों को शांत करने के बजाय पुन्हाना के विधायक चौधरी मोहम्मद इलियास खान और उनके बेटे चौधरी जावेद खान मेवात के मुसलमानों को भड़काने में लगे हैं। इन दोनों ने एक रेखाचित्र ट्वीट कर आग में घी डालने का ही काम किया है। इसमें दिखाया गया है कि कुछ तिलकधारी लोग एक व्यक्ति को पेड़ से बांधकर उससे कह रहे हैं कि जय श्रीराम बोलो और जब वह नहीं बोलता है तो उसकी पिटाई की जाती है। यह वही मेवात है, जहां के रहने वाले तौसिफ ने पिछले साल 26 अक्तूबर को फरीदाबाद की छात्रा निकिता तोमर की हत्या इसलिए कर दी थी कि उसने उसके साथ निकाह करने से मना कर दिया था। तौसिफ नूंह के विधायक आफताब अहमद का रिश्तेदार है और इन दिनों जेल में उम्रकैद काट रहा है। उस समय आफताब ने एक शब्द भी नहीं बोला था। अब वही आफताब एक आपसी रंजिश में हुई हत्या को लेकर लोगों को भड़का रहे हैं। —वेब डेस्क

Comments

Also read: कुपवाड़ा में आतंकी साजिश नाकाम, हथियारों का जखीरा बरामद ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: कोविड से मृत्यु होने वाले आश्रितों को धामी सरकार देगी 50 हजार ..

सीमांत क्षेत्र में बीआरओ प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी महिला अधिकारी को
मुरादाबाद में तीन तलाक के दो मामले दर्ज

बरेली के स्मैक माफियाओं पर लगा सफेमा, 65 करोड़ की संपत्ति जब्त

बरेली जिले के दो स्मैक तस्करों पर पुलिस प्रशासन ने "सफेमा" कानून के तहत कार्रवाई की है। जिला प्रशासन ने आयकर विभाग की मदद से 65 करोड़ की संपत्ति को जब्त किया है। पश्चिम यूपी डेस्क बरेली जिले के दो स्मैक तस्करों पर पुलिस प्रशासन ने "सफेमा" कानून के तहत कार्रवाई की है। जिला प्रशासन ने आयकर विभाग की मदद से 65 करोड़ की संपत्ति को जब्त किया है। बरेली में मीरगंज, फतेहगंज के स्मैक के अड्डों को ध्वस्त करने के उद्देश्य से जिला प्रशासन ने चिट्टा या सफेदा का धंधा करने वाले दो बड़े ग ...

बरेली के स्मैक माफियाओं पर लगा सफेमा, 65 करोड़ की संपत्ति जब्त