पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

Top Stories

श्रीराम मंदिर के नाम पर ठगी करने वाले तीन गिरफ्तार

WebdeskFeb 04, 2021, 10:26 AM IST

श्रीराम मंदिर के नाम पर ठगी करने वाले तीन गिरफ्तार

अयोध्या में बनने वाले भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के नाम पर वसूली करने वाले कुछ ठग भी इन दिनों सक्रिय हैं. कुछ समय पहले भी इस तरह के ठग गिरफ्तार किये गए थे. फिलहाल जौनपुर जनपद में तीन ठग गिरफ्तार किये गए हैं.hhh_1 H x W: 0 जौनपुर जनपद में पुलिस ने फर्जी रसीद छपवा कर धन उगाही करने वाले तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है. कुछ दिन पहले विश्व हिन्दू परिषद के पदाधिकारियों के संज्ञान में यह आया था कि फर्जी रसीद छपवा कर लोगों से वसूली की जा रही है. विहिप की ओर से जौनपुर जनपद के पुलिस अधीक्षक से लिखित शिकायत की गई. शिकायत का संज्ञान लेते हुए पुलिस अधीक्षक ने कार्रवाई करने का आदेश दिया. पुलिस ने इन ठगों को गिरफ्तार करने के जाल बिछाया. जानकारी के अनुसार गत मंगलवार को विहिप के लोगों ने ठगों से संपर्क किया. ठगी करने वाले राहुल अस्थाना, सुशील अस्थाना एवं एक अन्य फर्जी रसीद लेकर बताई हुई जगह पर पहुंच गए. जैसे ही तीनों ठग मौके पर पहुंचे. थाना लाइन बाजार की पुलिस भी मौके पर आ गई और तीनों ठगों को गिरफ्तार कर लिया. अभियुक्त राहुल अस्थाना जौनपुर जनपद के सिपाह मोहल्ले का रहने वाला है और सुशील अस्थाना गौरा बादशाहपुर का निवासी है.

Comments

Also read: पंजाब की कांग्रेस सरकार का मेहमान कुख्यात अपराधी मुख्तार अब उत्तर प्रदेश पुलिस की हिर ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: हत्या पर चुप्पी, पूछताछ पर हल्ला ..

फिर चर्चा में दरभंगा मॉड्यूल
पश्चिम बंगाल : विकास की आस

चुनौती से बढ़ी चिंता

डॉ. कमल किशोर गोयनका सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और साहित्य पर कुछ लिखने से पहले वामपंथी पत्रिका ‘पहल’ के अंक 106 में प्रस्थापित इस मत का खंडन करना आवश्यक है कि मोदी सरकार के आने के बाद सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर चर्चा तेज हो गई है। ‘सोशल मीडिया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ लेख में जगदीश्वर चतुर्वेदी ने इस चर्चा के मूल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को देखा है और उनकी स्थापना है कि यह काल्पनिक धारणा है, भिन्नता और वैविध्य का अभाव है तथा एक असंभव विचार है। यह सारा विचार एवं निष्कर्ष तथ्यों-तर्कों के ...

चुनौती से बढ़ी चिंता