पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संस्कृति

संस्कृति सह संस्कार की सरिता

WebdeskFeb 03, 2021, 07:09 AM IST

संस्कृति सह संस्कार की सरिता

शांतिकुंज में देशभर से आए साधक हरिद्वार स्थित शांतिकुंज की गंूज आज पूरे विश्व में सुनाई देती है। सेवा, स्वावलंबन, संस्कृति और संस्कार की जो सरिता यहां से बह रही है, उसमें प्रतिदिन करोड़ों लोग डुबकी लगाकर अपने जीवन में आमूलचूल परिवर्तन ला रहे। जन सहयोग से कोई संगठन कितना बड़ा हो सकता है, इसका उदाहरण है शांतिकुंज आज के वातावरण में किसी भी संगठन द्वारा अपनी स्वर्ण जयंती मनाना एक बड़ी उपलब्धि माना जाता है। इस वर्ष ऐसी ही उपलब्धि हासिल की है हरिद्वार स्थित गायत्रीतीर्थ शांतिकुंज ने। वही शांतिकुंज, जहां से ‘अखिल विश्व गायत्री परिवार’ का संचालन होता है। इन दिनों शांतिकुंज अपनी 50वीं वर्षगांठ यानी स्वर्ण जयंती मना रहा है। वेदमूर्ति तपोनिष्ठ पं. श्रीराम शर्मा आचार्य ने 1971 में इसकी स्थापना की थी। हरिद्वार-ऋषिकेश मार्ग पर हरिद्वार रेलवे स्टेशन से लगभग छह किलोमीटर दूर गंगा जी के पावन तट पर स्थित शांतिकुंज 22 एकड़ में बसा है। गायत्री मंत्र के साधकों के लिए स्थापित शांतिकुंज आज भारत ही नहीं, विश्व के 90 देशों में भारतीय संस्कृति, अध्यात्म, ज्ञान, परंपरा और संस्कार आदि को बढ़ाने का एक सशक्त माध्यम बन गया है। इन 50 वर्ष की अवधि में शांतिकुंज ने अपने को इतना बढ़ा लिया है कि इसकी छांह तले करोड़ों लोग प्रतिदिन साधना करके मानसिक शांति प्राप्त करते हैं और हजारों लोग विभिन्न तरह के संस्कार संपन्न कराते हैं। यहां गायत्री माता का भव्य मंदिर और सप्तऋषियों की प्रतिमाएं स्थापित हैं। यहां तीन बड़ी-बड़ी यज्ञशालाएं हैं, जिनमें प्रतिदिन हजारों लोग यज्ञ करते हैं। शांतिकुंज मुख्य रूप से साधना, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलंबन, पर्यावरण संरक्षण, महिला जागरण एवं युवा उत्कर्ष और व्यसन उन्मूलन के लिए कार्य करता है। साधना इसलिए कि व्यक्ति में आत्मबल जाग्रत हो। युवाओं को समाजनिष्ठ बनाने और प्राचीन ज्ञान के साथ-साथ आधुनिक विषयों की शिक्षा के लिए देव संस्कृति विश्वविद्यालय 2002 से ही चल रहा है। 75 एकड़ में फैले इस विश्वविद्यालय में छात्रों को बहुत ही कम शुल्क पर हर तरह की शिक्षा मिलती है। यहां से निकले छात्र आज पूरी दुनिया में भारतीयता के विचारों को फैला रहे हैं। जीवन में स्वच्छता रहे, उपयुक्त और संतुलित खानपान हो, इसके लिए स्वास्थ्य आंदोलन के जरिए लोगों में जागरूकता पैदा की जा रही है। लोगों को स्वावलंबी बनाने के लिए शांतिकुंज निरंतर कुटीर उद्योगों का प्रशिक्षण देता है। पर्यावरण की रक्षा के लिए गायत्री परिवार समय-समय पर सफाई अभियान चलाता है। इसीलिए गायत्री मंत्र के साधक शांतिकुंज को दिव्य एवं जीवंत-जागृत तीर्थ मानते हैं। शांतिकुंज में एक समय में 15,000 साधकों के ठहरने की व्यवस्था है और प्रतिदिन लगभग 5,000 साधक नि:शुल्क भोजन करते हैं। यहां से निकलने वालीं ज्ञान की विभिन्न धाराएं आज चारों दिशाओं में प्रवाहमान हैं। 15 करोड़ से अधिक साधक इन धाराओं को प्रवाहित करने और आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं। इन साधकों के सहयोग और समर्पण से ही शांतिकुंज की गतिविधियां चलती हैं। ये साधक ‘ज्ञान घट’ और ‘धर्म घट’ के नाम से शांतिकुंज को सहयोग देते हैं। ‘ज्ञान घट’ यानी ज्ञान के लिए दान करना। कोई भी साधक अपनी इच्छानुसार प्रतिदिन 20 पैसे से लेकर एक रुपया तक दान करता है। यदि कोई साधक इससे अधिक देना चाहता है, तो वह अधिक भी दे सकता है। वहीं ‘धर्म घट’ के अंतर्गत साधक अपने घर पर प्रतिदिन एक मुट्ठी चावल जमा करते हैं और उसी को शांतिकुंज को दान देते हैं। 41 भवनों का परिसर शांतिकुंज में 41 भवन हैं, जिनके नाम किसी प्राचीन विदुषी, ऋषि, नदी, देवी, राजा या आचार्य के नाम पर हैं। ये भवन हैं-याज्ञवल्क्य, श्रृंगी, अथर्व, जनशताब्दी, लोपामुद्रा, आरुणि, भगीरथ, सावित्री, नालंदा, त्रिपदा, पतंजलि, ऋद्धि-सिद्धि, लक्ष्मी, मंदाकिनी, ऋतम्भरा, प्रज्ञा, अरुंधति, गार्गी, कात्यायनी, मैत्री, सरस्वती, आपला, अनसूइया, जनक भवन, अन्नपूर्णा, भगवती, व्यास, आचार्य, सूर्य, विश्वामित्र, वशिष्ठ, जमदग्नि, दुर्गा, अदिति, सुकन्या, अत्रेय भवन, उपमन्यु, तक्षशिला आदि। शांतिकुंज में एक शोध केंद्र है, जिसका नाम है-‘ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान’। इसके माध्यम से अध्यात्म विज्ञान के सूत्रों को भौतिक विज्ञान के आधार पर शोध और प्रयोग द्वारा पुन: स्थापित करने का कार्य किया जा रहा है। शांतिकुज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय और ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान को चलाने के लिए इन तीनों के परिसर में 3,000 परिवार रहते हैं। ये सभी ‘समयदानी’ कहलाते हैं। यानी ये लोग अपना पूरा समय गायत्री परिवार को ही दान करते हैं। गायत्री परिवार इनके रहने, खाने, स्वास्थ्य और बच्चों के पढ़ने की व्यवस्था करता है। श्रीराम शर्मा आचार्य का कहना था कि शांतिकुंज ‘आध्यात्मिक साम्यवाद’ का केंद्र है। इस केंद्र का उद्देश्य है व्यक्ति को कम से कम साधन में जीवन यापन करने की प्रेरणा देना और लोकमंगल के लिए अधिक से अधिक कार्य करने के लिए प्रेरित करना। शांतिकुंज से जुड़े लगभग 11,000 से अधिक प्रज्ञा संस्थान या शक्तिपीठ हैं। ये सभी शांतिकुंज की गतिविधियों को संचालित करते हैं। शांतिकुंज की तरह देश के अन्य भागों में 500 बड़े और 4,500 छोटे केद्र हैं। इनके भरोसे ही शांतिकुंज अपने अभियानों को पूरा करता है। इन दिनों गायत्री परिवार ‘आपके द्वार, हरिद्वार’ नाम से एक अभियान चला रहा है। इसके अंतर्गत देश के 10,00,000 घरों तक गंगाजल पहुंचाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि इस वर्ष हरिद्वार में कुंभ मेला लग रहा है, लेकिन कोरोना महामारी को देखते हुए लाखों लोग चाहते हुए भी हरिद्वार नहीं आ पा रहे। गायत्री परिवार ऐसे लोगों तक गंगाजल पहुंचाने का कार्य कर रहा है, वह भी बिना किसी शुल्क के। गायत्री परिवार के साधक नारा लगाते हैं, ‘हम सुधरेंगे, युग सुधरेगा’, ‘हम बदलेंगे, युग बदलेगा।’ इन्हीं उद्देश्यों को लेकर गायत्री परिवार के करोड़ों साधक दिन-रात काम कर रहे हैं। उन्हें पूरा विश्वास है कि आज नहीं, तो कल वे अपने नारों को पूरी तरह साकार कर सकेंगे।

Comments

Also read: वैदिक काल में होता था दूरस्थ देशों से व्यापार ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: शरद पूर्णिमा का अमृत उत्सव, जानिये सबकुछ ..

चीन सीमा तक पहुंचने लगी हैं सड़कें, मोदी सरकार के कार्यकाल में शुरू हुआ काम अंतिम चरण में
भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर को होंगे बंद

वैदिक काल में उन्नत थी व्यावसायिक शब्दावली

प्रो. भगवती प्रकाश वैदिक काल में उद्योग-व्यवसाय क्षेत्र से जुड़ी शब्दावली का प्राचुर्य मिलता है। मात्र धन या पूंजी की पृथक प्रकृति होने पर पृथक शब्दावली का प्रावधान था। इसके अलावा सभी प्रकार के उद्यमों की स्थापना, संचालन व प्रबन्ध और उनसे सत्यनिष्ठा एवं नैतिकता के साथ धनार्जन के अनेक मन्त्र हैं। उद्योग, व्यापार एवं वाणिज्य से व्यावसायिक लाभ व प्रतिष्ठा अर्जित करने की रीति-नीति अर्थात स्ट्रेटेजी सम्बन्धी उन्नत शब्दावली के वेदों में प्रचुर सन्दर्भ हैं। अथर्ववेद के वाणिज्य सूक्त सहित यजुर्वे ...

वैदिक काल में उन्नत थी व्यावसायिक शब्दावली