पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

Top Stories

‘लाला पन्नालाल सिंघल स्मृति व्याख्यानमाला’ संपन्न

WebdeskMar 12, 2021, 12:00 AM IST

‘लाला पन्नालाल सिंघल स्मृति व्याख्यानमाला’ संपन्न

गत 28 फरवरी को दिल्ली के रोहिणी में ‘लाला पन्नालाल सिंघल स्मृति व्याख्यानमाला’ का आयोजन किया गया। इसका विषय था ‘समसामयिक परिस्थितियां और राम कथा।’ सामाजिक संस्था ‘चेतना’ द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य वक्ता थे प्रख्यात कथाकार, विचारक एवं चिंतक डॉ. नरेंद्र कोहली। उन्होंने कहा कि ऋषि-मुनियों की सोची-समझी योजना के अनुसार ही राम को वन में भेजा गया था, ताकि असुर जाति का विनाश हो सके। उन्होंने भगवान राम को भारतीय संस्कृति का आदर्श बताते हुए रामकथाओं के रचयिता महर्षि वाल्मीकि और महाकवि तुलसीदास की दूरदृष्टि की भीप्रशंसा की। समारोह के मुख्य अतिथि और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष श्री आलोक कुमार ने श्रीराम मंदिर निर्माण आंदोलन की पृष्ठभूमि बताई। कार्यक्रम के अध्यक्ष श्री संतोष कुमार तनेजा ने श्रीराम जन्मभूमि मंदिर आंदोलन पर संघ की दूरदृष्टि की सराहना की। कार्यक्रम की प्रस्तावना केंद्रीय हिंदी संस्थान के उपाध्यक्ष श्री अनिल जोशी ने रखी। कार्यक्रम के स्वागताध्यक्ष थे श्री अनिल सिंघल, जो स्व. लाला पन्नालाल सिंघल के सुपुत्र हैं। कार्यक्रम में ‘लाला पन्नालाल सिंघल स्मृति व्याख्यानमाला’ की चौथी कड़ी के संभाषण पर आधारित पुस्तक और पाञ्चजन्य एवं आॅर्गनाइजर के राम मंदिर विशेषांकों का लोकार्पण भी हुआ। इस अवसर पर बड़ी संख्या में अनेक संगठनों के वरिष्ठ कार्यकर्ता और आम जन उपस्थित थे।

Comments

Also read: पंजाब की कांग्रेस सरकार का मेहमान कुख्यात अपराधी मुख्तार अब उत्तर प्रदेश पुलिस की हिर ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: हत्या पर चुप्पी, पूछताछ पर हल्ला ..

फिर चर्चा में दरभंगा मॉड्यूल
पश्चिम बंगाल : विकास की आस

चुनौती से बढ़ी चिंता

डॉ. कमल किशोर गोयनका सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और साहित्य पर कुछ लिखने से पहले वामपंथी पत्रिका ‘पहल’ के अंक 106 में प्रस्थापित इस मत का खंडन करना आवश्यक है कि मोदी सरकार के आने के बाद सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर चर्चा तेज हो गई है। ‘सोशल मीडिया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ लेख में जगदीश्वर चतुर्वेदी ने इस चर्चा के मूल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को देखा है और उनकी स्थापना है कि यह काल्पनिक धारणा है, भिन्नता और वैविध्य का अभाव है तथा एक असंभव विचार है। यह सारा विचार एवं निष्कर्ष तथ्यों-तर्कों के ...

चुनौती से बढ़ी चिंता