''न्यायिक प्रक्रिया का है सम्मान, लेकिन न्यायालय से ऊपर हैं भगवान''
स्रोत:    दिनांक 16-जनवरी-2019

 
दीप प्रज्ज्वलित करते हुए बाएं से सर्वश्री पंकज सिंह, चंपत राय, महंत नृत्यगोपाल दास जी महाराज, जानकीदास जी, स्वामी अवधेशानंद श्री एवं जवाहरलाल कौल
पिछले दिनों नई दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र में तीन दिवसीय अयोध्या पर्व का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास एवं जूनापीठाधीश्वर स्वामी श्री अवधेशानंद गिरि जी महाराज के कर कमलों द्वारा संपन्न हुआ। इसी तरह चौरासी कोसी परिक्रमा पर लगी प्रदर्शनी का उद्घाटन केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए महंत नृत्यगोपाल दास जी महाराज ने कहा कि केन्द्र में नरेन्द्र मोदी और प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार है, जो राम मंदिर निर्माण के लिए एक अच्छा संयोग है। रामलला मंदिर का निर्माण किसी भी सूरत में शुरू होना चाहिए। देश व विदेशों में रहने वाले सभी लोग यही चाहते हैं। क्योंकि मंदिर का निर्माण, भारत का निर्माण है और भारत का निर्माण, विश्व का निर्माण है।
उन्होंने कहा कि वे न्यायिक प्रक्रिया का सम्मान करते हैं लेकिन भगवान राम इन सब से ऊपर हैं। समारोह में मुख्य रूप से स्वामी श्री अवधेशानंद गिरि जी महाराज ने अयोध्या और राम के महत्व के बारे में विस्तार से बताया। इस मौके पर इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र के अध्यक्ष श्री राम बहादुर राय ने कहा कि अयोध्या के महत्व को प्रस्तुत करने के लिए इस उत्सव का आयोजन हुआ है। जिससे लड़ा नहीं जा सकता, वह अयोध्या है। लेकिन हमारे इतिहास का दुर्भाग्य है कि जिससे लड़ा नहीं जा सकता, उसी से हमारी न्यायपालिका, राज्य व्यवस्था, सरकारें लड़ने की कोशिश कर रही हैं।