बर्बरता: संघ स्वयंसेवक की पत्नी और बच्चे सहित हत्या
   दिनांक 10-अक्तूबर-2019
हत्या की वजह अब तक सामने नहीं आई। घटना के बाद से इलाके में तनाव है। पुलिस ने कई लोगों से पूछताछ की है। उसे घटना के बाद घर से कथित तौर पर निकलकर भागे एक युवक की भी तलाश है
 
 
पश्चिमी बंगाल के मुर्शिदाबाद में विजय दशमी के दिन संघ स्वयंसेवक रहे शिक्षक उनकी गर्भवती पत्‍‌नी और आठ वर्षीय बेटे की धारदार हथियार से नृशंस हत्या कर दी गई। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने धारदार हथियार को बरामद किया है। अभी तक हत्या की वजह साफ नहीं हो पाई है। पुलिस आसपास के लोगों से पूछताछ में जुटी हुई है। बताया गया है कि घटना के बाद पड़ोसियों ने मौके से एक युवक को भागते हुए देखा था, पुलिस उसकी भी तलाश में जुटी है।
मूल रूप से जिले के सागरदीघी निवासी बंधु प्रकाश पाल 17 नंबर साहापुर प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक थे। वह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के स्वयंसेवक भी थे। करीब पांच वर्षों से शिक्षक अपनी पत्‍‌नी ब्यूटी मंडल और आठ वर्षीय बेटे बंधु अंगन पाल के साथ जियागंज के लेबूतला में रह रहे थे। विजय दशमी की सुबह करीब दस बजे प्रकाश बाजार से लौटे थे। दोपहर करीब साढ़े ग्यारह बजे उनके घर से चीखने चिल्लाने की आवाज सुनाई दी। इस पर आसपास के लोग शिक्षक के घर जा पहुंचे। आरोप है कि उस वक्त एक युवक को घर के अंदर से निकलकर भागते हुए देखा गया था। घर के अंदर का नजारा देख लोगों के पैरों तले जमीन खिसक गई।
बिस्तर पर शिक्षक तथा जमीन पर बेटा जबकि बराबर के कमरे में पत्‍‌नी की खून में सनी लाश पड़ी थी। धारदार हथियार से प्रहार कर तीनों को मौत के घाट उतारा गया था। मृतक महिला आठ माह की गर्भवती भी बताई गई है। सूचना पर पहुंची जियागंज थाना पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घर से हत्या में प्रयोग किए गए धारदार हथियार को भी बरामद किया गया है। फॉरेंसिक विशेषज्ञों ने घटनास्थल से नमूने एकत्र किए। स्निफर डॉग के साथ इलाके की जांच पड़ताल की गई। पुलिस की प्राथमिक जांच में ट्रिपल मर्डर के पीछे संपत्ति विवाद का माना जा रहा है। हालांकि हत्याकांड की ठोस वजह को लेकर पुलिस संशय में है।
घटना के बाद शिक्षक के घर से निकलने वाले युवक की तलाश की जा रही है। मृतक परिवार के अन्य सदस्यों एवं आसपास के लोगों से पूछताछ की जा रही है। घटना के दूसरे दिन भी पुलिस हत्यारों तक नहीं पहुंच सकी है। उधर, स्थानीय लोगों ने हत्याकांड की जांच सीबीआइ से कराए जाने की मांग की है।