जम्मू-कश्मीर राष्ट्रीय एकात्मता का संकल्प व्याख्यान
   दिनांक 11-अक्तूबर-2019

 
कार्यक्रम को संबोधित करते श्री अरुण कुमार
 
 
मुख्य वक्ता के तौर पर अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख श्री अरुण कुमार उपस्थित रहे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज जम्मू-कश्मीर में जो निर्णय लिया जा सका है, 
 
पिछले दिनों जम्मू में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा ‘जम्मू-कश्मीर-राष्ट्रीय एकात्मता का संकल्प’ विषय पर व्याख्यान का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य वक्ता के तौर पर अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख श्री अरुण कुमार उपस्थित रहे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज जम्मू-कश्मीर में जो निर्णय लिया जा सका है, उसका श्रेय महाराजा हरि सिंह, ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह, मकबूल शेरवानी, मास्टर अब्दुल अजीज, कर्नल चुआंग, पंडित प्रेमनाथ डोगरा, बलराज मधोक और श्यामा प्रसाद मुखर्जी जैसे वीरों के बलिदान को जाता है। उन्होंने अपने प्राण समर्पित कर दिए और इनके प्रयासों से आज कश्मीर में एक विधान, एक प्रधान और एक निशान का संकल्प पूरा हुआ है। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 तो हटाया जा चुका है, मगर अभी हमें अलगाववाद, आतंकवाद और कट्टरवाद से जम्मू-कश्मीर को मुक्त करना है, इसके बिना जम्मू-कश्मीर कभी समृद्ध और शांत नहीं हो पाएगा। दूसरी बात अनुछेद 370 हटाए जाने के बाद राष्ट्र के अन्य लोगों की इसमें क्या भूमिका हो, इस विषय पर सोचने की जरूरत है। जम्मू-कश्मीर के लोगों में देश के साथ एकात्मता का भाव जागृत हो, यह हम सबकी जिम्मेदारी है। हम एक राष्ट्रीय आंदोलन खड़ा करें और राज्य के लोगों को यह अहसास दिलाएं कि देश उनका स्वागत करता है उनके विकास में साथ खड़ा है। प्रतिनिधि