फरार सपा विधायक की गिरफ्तारी को पुलिस कर रही मुनादी
   दिनांक 09-अक्तूबर-2019
 
कैराना विधानसभा सीट से सपा विधायक नाहिद हसन जिन्होंने तीन महीने पहले भाजपा समर्थक दुकानदारों का बहिष्कार करने की अपील की थी, गिरफ्तारी से बचने के लिए भागे - भागे फिर रहे हैं. उत्तर प्रदेश पुलिस उन्हें धोखाधड़ी के मुकदमे में गिरफ्तार करने के लिए तलाश रही है. इनके घर के बाहर ढोल – नगाड़ा बजवाकर बकायदे मुनादी कराई गई है कि वह फरार हैं और किसी को भी उनके बारे में सूचना मिलती है तो जनहित में पुलिस को तत्काल सूचित करें. नाहिद हसन के लगातार फरार रहने के बाद जनपद न्यायालय से सी.आर.पी.सी. की ध्रारा 82 के तहत यह नोटिस जारी किया गया है. इस प्रक्रिया के बाद भी अगर आरोपी अदालत में हाजिर नहीं होता है तो सी.आर.पी.सी. की धारा 83 का उपयोग करते हुए अदालत कुर्की करने का आदेश जारी करेगी.
बता दें कि सपा विधायक नाहिद हसन का खासा आपराधिक इतिहास है. प्राप्त जानकारी के अनुसार विधायक नाहिद हसन के खिलाफ गंभीर धाराओं में 12 मुकदमें दर्ज हैं. चार मुकदमों में कोर्ट ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर रखा है. गैर जमानती वारंट जारी होने के बावजूद जब वह हाजिर नहीं हुए तो मुनादी का आदेश जारी किया गया. शामली जनपद के पुलिस अधीक्षक अजय कुमार का कहना है कि “विधायक नाहिद हसन की कार का नंबर पीजेपी – 32 था. यह नंबर देखकर उप जिलाधिकारी अमितपाल को कुछ शक हुआ. उन्होंने कार को रुकवाकर कर जब पूछताछ की और कार के रजिस्ट्रेशन का कागज़ दिखाने को कहा, इस पर विधायक नाहिद हसन बद्तमीजी करने लगे और उन्होंने सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाई.”
इसके बाद पुलिस ने उस मामले में भी जांच शुरू कर दी जिसमे सपा विधायक नाहिद हसन ने भाजपा समर्थकों की दुकानों का बहिष्कार करने के लिए कहा था. सपा विधायक नाहिद हसन के इस बयान का वीडियो भी वायरल हुआ था. वीडियो में नाहिद हसन कह रहे हैं कि --मुसलमान मज़हब के लोग भाजपा के समर्थक दुकानदारों से कोई भी सामान न खरीदें. मुसलमान सामान खरीदता है तो इन भाजपा समर्थक दुकानदारों की दुकान चलती है और इसी से इनका घर चलता है. पुलिस ने इस बयान को विद्वेषपूर्ण मानते हुए विधायक पर एफ.आई.आर. दर्ज कराई और विवेचना शुरू कर दी है.