इंदौर में भैया जी दाणी न्यास का लघु फिल्म उत्सव
   दिनांक 11-दिसंबर-2019
a_1  H x W: 0 x 
सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करतीं बालिकाएं
 
भैयाजी दाणी न्यास, इंदौर के तत्वावधान में एक लघु फिल्म उत्सव का आयोजन किया गया।  
 
गत 24-25 नवंबर को उज्जैन स्थित विक्रम कीर्ति मंदिर में भारतीय चित्र साधना द्वारा भैयाजी दाणी न्यास, इंदौर के तत्वावधान में एक लघु फिल्म उत्सव का आयोजन किया गया। इस दौरान उद्घाटन सत्र में मुख्य वक्ता के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, मध्य क्षेत्र के सह प्रचार प्रमुख श्री कैलाश चंद्र उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि चलचित्र विधा की भारतीय मूल्यों की अभिव्यक्ति में सशक्त भूमिका रही है, लेकिन, पिछले 30-40 वर्ष में सुनियोजित तरीके से हमारी सनातन परंपरा के प्रतिकूल नकारात्मक विघटनकारी दृश्यों व पटकथा को आधार बनाया गया। इस कारण इन माध्यमों से वांछित रचनात्मक परिणाम प्राप्त नहीं हो सके। हम सब जानते हैं कि इससे पहले चलचित्रों का प्रारंभ हिन्दू देवी-देवताओं की प्रतिमा, स्तुति, मंत्र आदि से होता था जो बाद में लूट, डकैती, हत्या आदि से प्रारंभ होने लगा और फिर पूरी कहानी उसी नकारात्मकता के आसपास चल कर समाप्त होती आ रही है। इसलिए यह सब फिर से बदले और पुरानी चीजें स्थापित हों, भारतीय चित्र साधना चलचित्रों द्वारा समाज जीवन में भारतीय मूल्यों की स्थापना, राष्ट्रीय चरित्रपूर्ण संदेश आदि के प्रचार-प्रसार के लिए कृत संकल्पित है। सत्र की अध्यक्षता कर रहे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, मध्य क्षेत्र के संघचालक श्री अशोक ने उज्जयिनी के प्राचीन महत्व को रेखांकित करते हुए भगवान महाकाल और भगवान श्री कृष्ण के प्रेरणादायी जीवन का उल्लेख किया। साथ ही कला के विभिन्न क्षेत्रों के साधकों से समाज निर्माण में सकारात्मक मूल्यों की स्थापना हेतु आह्वान किया। उल्लेखनीय है कि समारोह के प्रथम दिवस के तीन सत्रों में लगभग 100 लघु फिल्मों में से 'प्रीज्यूरी' द्वारा मूल्यांकन के बाद चयनित 'फिक्शन' एवं 'नॉन फिक्शन' श्रेणी की 30 लघु फिल्मों की स्क्रीनिंग की गई, जिनमें सामाजिक समरसता, शौर्य, सामाजिक चुनौतियां, पर्यावरण संरक्षण, नारी सम्मान आदि विषयों को दर्शाया गया।