शाखा जाने से स्वयंसेवक साधारण से असाधारण बन जाते हैं
   दिनांक 16-दिसंबर-2019
a_1  H x W: 0 x 
 
स्वयंसेवकों को संबोधित करते श्री अजित महापात्र
 
 उन्होंने कहा कि लक्ष्य तक पहुंचने के लिए स्वयंसेवक प्रामाणिकता व तत्परता से संघ कार्य करें। संघ की शाखा मनुष्य निर्माण की कार्यशाला है।
 
पिछले दिनों महाराणा प्रताप इण्टर कॉलेज, गोलघर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक, गोरखपुर महानगर के स्वयंसेवकों का एकत्रीकरण कार्यक्रम संपन्न हुआ। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह गो सेवा प्रमुख श्री अजित महापात्र उपस्थित थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि लक्ष्य तक पहुंचने के लिए स्वयंसेवक प्रामाणिकता व तत्परता से संघ कार्य करें। संघ की शाखा मनुष्य निर्माण की कार्यशाला है। शाखाओं के माध्यम से संघ राष्ट्रभक्त नागरिकों का निर्माण करता है। डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार ने सम्पूर्ण समाज को राष्ट्रीय दृष्टि से जागृत एवं सक्रिय करते हुए संगठित करने का कार्य संघ के रूप में शुरू किया। भारतीय दर्शन, संस्कृति तथा इतिहास का गहराई से अनुभव करने के कारण उन्हें तत्कालीन चुनौतियां, इनके समाधान की राह तथा भविष्य की संकल्पनाएं स्पष्ट थीं। वे एक दृष्टा थे। संक्षेप में कहें तो सामान्य से दिखने वाले डॉक्टर जी असामान्य प्रतिभा के धनी थे। ब्रिटिश साम्राज्य के विरुद्ध उनके मन में कैसी चिढ़ थी, यह उनके बचपन के अनेक प्रसंगों से दिखता है। उन्होंने कहा कि संघ का उद्देश्य व्यक्तित्व निर्माण कर राष्ट्र को परमवैभव पर ले जाना है। नित्य शाखा पर जाने से स्वयंसेवक साधारण से असाधारण बन जाते हैं। उसके अंदर स्वत: असाधारण क्षमता विकसित हो जाती है। संघ की प्रेरणा से चलने वाले अनेक संगठनों में समाज के बंधुओं को सक्रिय करने का कार्य सतत चल रहा है। इस मौके पर विभाग संघचालक डॉ. महेन्द्र अग्रवाल सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित रहे।