युवा शक्ति को राह दिखाने के लिए शिविर का आयोजन
   दिनांक 30-दिसंबर-2019
a_1  H x W: 0 x
दीप प्रज्जवलित कर शिविर का शुभारंभ करते स्वामी माधव प्रियदास (बाएं)
 
तीन दिवसीय इस शिविर में 2,500 से अधिक विद्यार्थियों ने भाग लिया। 
 
गत दिनों कलोल (गुजरात) में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, गुजरात प्रांत द्वारा 'समर्थ भारत युवा संगम शिविर' का आयोजन किया गया। इसका उद्घाटन स्वामी माधव प्रियदास जी महाराज ने किया। तीन दिवसीय इस शिविर में 2,500 से अधिक विद्यार्थियों ने भाग लिया। इस अवसर पर विशेष रूप से अखिल भारतीय सह बौद्धिक प्रमुख श्री सुनील भाई मेहता, प्रांत संघचालक डॉ. भरतभाई पटेल, प्रांत कार्यवाह श्री यशवंतभाई चौधरी आदि उपस्थित रहे। -विसंके, गुजरात
''भाजपा शासित राज्यों में ही सीएए का विरोध क्यों?''
''भारत की आजादी के साथ जो दुर्भाग्य जुड़ा हुआ था, वह 72 वर्ष बाद अब धीरे-धीरे दूर हो रहा है। यह दुख की बात है कि भारतवर्ष के हितों को ध्यान में रखकर केंद्र सरकार द्वारा लिए जा रहे निर्णय का भी कुछ लोग अपने स्वार्थों के चलते विरोध कर रहे हैं।'' उक्त बात सीमा जागरण मंच के राष्ट्रीय सह संयोजक सी. मुरलीधर ने कही। वे पटना के भारतीय नृत्य कला मंदिर में आयोजित 'नागरिकता संशोधन कानून' विषयक संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एनआरसी और सीएए का विरोध अनायास नहीं है, बल्कि एक साजिश और स्वार्थों की पूर्ति के लिए देश को अस्थिर करने का कुत्सित प्रयास किया गया है। कार्यक्रम में उपस्थित प्रज्ञा प्रवाह के क्षेत्र संयोजक श्री रामाशीष सिंह ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी का विरोध करने वालों की पृष्ठभूमि को देखें। इससे बहुत कुछ स्पष्ट हो जाता है। दूसरी ओर एक सवाल और खड़ा होता है कि उपद्रव और हिंसा सिर्फ भाजपा शासित राज्यों में ही क्यों हो रही है? कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रख्यात इस्लामिक विद्वान मौलाना तुफैल अहमद कादरी ने की। समारोह में विशेष रूप से दलित महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बबन रावत, बहुचर्चित साहित्यकार डॉ शत्रुघ्न प्रसाद एवं मौलाना समीम रिजवी उपस्थित थे।