महिलाओं का जीना दुश्वार कर रहे प्रियंका के गुंडे
   दिनांक 19-मार्च-2019
कांग्रेस की छात्र ईकाई का असल चेहरा ऐसा ही है, एक पत्रकारिता की छात्रा ने गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद उन पर की गई अभद्र टिप्पणी का विरोध किया तो एनएसयूआई के बलिया जिले के जिलाध्यक्ष ने उसे गालियां दीं। ऐसी बातें सोशल साइट पर लिखीं जिन्हें हम लिख नहीं सकते
 
पिछले साल की बात है, कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई के अध्यक्ष फिरोज खान पर एक कांग्रेस कार्यकर्ता ने यौन शोषण का आरोप लगाया था। यह मामला दिल्ली पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने में दर्ज है।
एनएसयूआई का महिला विरोधी चरित्र बार—बार जाहिर होता है। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की मृत्यु के बाद पूरा देश शोक में था। उनके व्यवहार और सरल जीवन को हर कोई याद कर रहा था लेकिन एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं के संस्कार ऐसे अवसर पर प्रकट हुए। जब कांग्रेसी, कम्युनिस्ट और वहाबी मुस्लिम पर्रिकर के निधन के बाद वेबसाइट आई खबरों पर हंसी का इमोजी बना रहे थे।
ऐसा ही एक मामला पंडित हर्षित दूबे नाम के युवक का सामने आया है। हर्षित एनएसयूआई उत्तर प्रदेश अन्तर्गत बलिया जिले का जिलाध्यक्ष है। उसकी तस्वीर ट्वीटर पर प्रियंका वाड्रा के साथ है। उसने मनोहर पर्रिकर की मृत्यु के बाद संवेदना प्रकट करने की जगह बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की। टिप्पणी इतनी घृणित भाषा में की गई कि हम उसे लिख नहीं सकते।
इस पर सोशल मीडिया पर इस तरह की भाषा के लिए देव संस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार की पत्रकारिता की छात्रा अवंतिका पांडेय ने अपना विरोध दर्ज किया। उसके बाद एनएसयूआई के इस छात्र नेता ने पत्रकारिता की छात्रा पर सोशल मीडिया में बेहद घिनौनी भाषा में टिप्पणी की।
अवंतिका ने यह लेख लिखे जाने तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और यूपी पुलिस को ट्वीटर पर टैग करके दूबे की शिकायत कर दी है। इस मामले में दूबे का पक्ष जानने के लिए जब दूबे को उसके मोबाइल नंबर पर संपर्क करने का प्रयास किया गया। उससे संपर्क नहीं हो पाया। वहीं अवंतिका से जब इस बारे में बात हुई तो उनका कहना था कि मुझे ऐसी अपेक्षा कतई नहीं थी कि कोई ऐसी भाषा का भी प्रयोग कर सकता है। पहले मुझे डर लगा लेकिन इसके बाद मैंने फेसबुक पेज उसका स्क्रीन शॉट लगा दिया और इसकी शिकायत भी यूपी पुलिस को कर दी है अब कार्रवाई का इंतजार कर रही हूं।