मदरसों की हकीकत कुछ ऐसी है
   दिनांक 07-मार्च-2019
पिछले दिनों देवबंद के मदरसे के छात्रावास से पुलिस ने आतंकवादियों को गिरफ्तार किया था। अब मदरसे में एक बच्ची के साथ यौन शोषण का मामला सामने आया है। उत्तर प्रदेश के रामपुर में आठ वर्षीय बच्ची के साथ मदरसे के मौलवी ने छेड़छाड़ की। हम मदरसे में होने वाले कुछ ऐसी घटनाओं के बारे में आपको बता रहे हैं
उत्तर प्रदेश के रामपुर जनपद के थाना अजीमनगर अंतर्गत ‘वमा अहद जामिया दारूततालीबात’ नाम का मदरसा चल रहा था. इस मदरसे में कुछ बच्चियां भी तालीम लेने जाती थीं. मदरसे में पढ़ने आने वाली एक आठ वर्षीय छात्रा के साथ पिछले चार महीने से मदरसे का मौलवी कारी तलहा लगातार छेड़खानी कर रहा था. बच्ची ने परेशान होकर अपने घर पर इस मामले की जानकारी दी। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी कारी तलहा को को गिरफ्तार कर लिया है।
 
लखनऊ में मदरसे का संचालक रसोई घर में करता शारीरिक शोषण
गत वर्ष दिसंबर माह में , लखनऊ के मदरसे में बड़े पैमाने पर यौन शोषण का मामला प्रकाश में आया. मदरसा संचालक की हरकतों से तंग आकर लड़कियां शाम के समय रसोई घर में नहीं जाती थी . रसोई में ही संचालक लडकियों से अभद्र व्यवहार करता था . जिन लडकियों ने इसका विरोध करने का प्रयास किया , उन लड़कियों के साथ संचालक मारपीट करता था.
लड़कियों की शिकायत पर पुलिस ने छापा मारा. इसके बाद मदरसे में से कुल 52 लड़कियां रिहा कराई गईं। पुलिस ने संचालक तैय्यब जिया कारी को गिरफ्तार कर लिया।
 
आतंक की नर्सरी बना दारूल उलूम
सहारनपुर के देवबंद में दारूल उलूम इस्लामिक शिक्षा का बड़ा केंद्र है. दूर-दूर से मज़हबी शिक्षा प्राप्त करने के लिए छात्र वहां पर पहुंचते हैं. दारूलउलूम में मज़हबी शिक्षा लेने के लिए छात्र अन्य इस्लामिक देशों से भी आते हैं. मौजूदा समय में हालत यह है कि जैश – ए – मोहम्मद जैसे खतरनाक आतंकी संगठन के लिए देवबंद ‘साफ्ट टारगेट’ है. यहां आतंकवादी, छात्र के भेष में छात्रावासों में शरण ले रहे हैं और अपने खतरनाक इरादों को अंजाम दे रहे हैं. अभी हाल ही में गिरफ्तार किए गए आकिब अहमद मलिक, पुलवामा जनपद के रहने वाले हैं।दोनों बिना दाखिला लिए मदरसे के छात्र बनकर छात्रावास में रह रहे थे.
विगत वर्षों में हुई आतंकी घटनाओं में देवबन्द की कोई ना कोई भूमिका अवश्य रहती है. वर्ष 2018 के दिसंबर माह में राष्ट्रीय जांच एजेंसी , दिल्ली पुलिस एवं उत्तर प्रदेश की ए.टी.एस ने संयुक्त रूप से दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 17 जगहों पर छापा मारा था और 10 आतंकियों को गिरफ्तार किया था. आतंकी देश में सीरियल बम विस्फोट करके पूरे देश में दहशत कायम करने की योजना बना रहे थे. जिन जगहों पर विस्फोट किए जाने की योजना थी उसमे राष्ट्रीय स्वयम सेवक संघ कार्यालय , भाजपा कार्यालय , दिल्ली पुलिस मुख्यालय एवं बड़े नेताओं का नाम प्रमुख रूप से शामिल था.
 
रिजवी ने की मदरसे बंद करने की वकालत
उत्तर प्रदेश के शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने मदरसों में दी जाने वाली मजहबी तालीम को गलत बताया है. रिज़वी का कहना है कि बच्चों को मज़हबी शिक्षा देने से उनके अन्दर कट्टरता पनप रही है. मुसलमान बच्चों को मदरसों में दाखिला करा दिया जाता है. मौलाना लोग मदरसे में बच्चे को मज़हबी शिक्षा देते हैं. बच्चे के मन में यह बैठ जाता है कि मौलाना बनना ही दुनिया का सबसे अच्छा और पवित्र काम है. अगर किसी बच्चे को मौलाना बनना है , तो इसका फैसला उस बच्चे के माता - पिता करेंगे ना कि मौलाना . मगर मदरसे की शिक्षा व्यवस्था ऐसा हो गई है कि उसमे पढ़कर निकलने वाले बच्चे अधिकतर मौलाना बनते हैं.