मसूद का वैश्विक आतंकी घोषित होना भारत की जीत
   दिनांक 01-मई-2019

 
पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मुहर लग गई है। वैश्वि​क आतंकी घोषित होने के बाद वह कहीं भी यात्रा नहीं कर सकेगा। विदेशों में यदि उसकी कोई संपत्ति है तो वह जब्त हो जाएगी। इस प्रस्ताव के पारित होते ही दुनिया भर के देशों में अजहर की एंट्री प्रतिबंधित हो गई है। इसके अलावा उसको किसी तरह की आर्थिक गतिविधि की भी इजाजत नहीं होगी। मसूद अजहर पर बैन लगने के बाद संयुक्त राष्ट्र संघ के किसी भी सदस्य देश की यात्रा वह नहीं कर सकेगा।
बता दें कि भारत ने 2009 में मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने संबंधी प्रस्ताव पेश किया था। इसके बाद 2016 में भारत ने इस संबंध में पी3 देशों यानी अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिल कर संयुक्त राष्ट्र की 1267 सदस्यीय प्रतिबंध समिति के समक्ष मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने संबंधी प्रस्ताव पेश किया था। इसके बाद 2017 में भारत ने पी3 देशों के साथ इसी प्रकार का प्रस्ताव फिर से पेश किया था लेकिन सभी मौकों पर वीटो का अधिकार रखने वाले सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य चीन ने अपने अधिकार का इस्तेमाल करके इसमें अडंगा डाला था। पुलवामा हमले के बाद भी जब भारत ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया था तो चीन में उसमें अड़ंगा डाला था। अब संयुक्त राष्ट्र ने पुलवामा आतंकी हमलों के जिम्मेदार जैश चीफ को वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया है। मसूद अजहर मुंबई हमले का भी मुख्य आरोपी है।