किस की होगी सरकार ? खुद देख लीजिए देश का राजनैतिक भविष्य
    दिनांक 20-मई-2019
सवा सौ करोड़ की आबादी वाले दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में एक करोड़ मतदान केंद्रों पर नब्बे करोड़ मतदाताओं के बल पर 543 लोकसभा सीट्स के लिए चुनाव लड़ने वाली 464 राजनीतिक पार्टियां और महीने भर से भी ज्यादा लम्बा चला चुनावी प्रचार – यह सारी खास बातें हैं भारत में चल रहे 17वें लोकसभा चुनाव की। विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक उत्सव का अंतिम चरण पूर्ण हो चूका है।

 
निर्वाचन आयोग द्वारा जारी सूचनाओं के अनुसार देश छह चरणों में चला 2019 का चुनाव रविवार (19 मई) को ख़त्म हो गया है। देश भर में यही चर्चा पूरे उफ़ान पर है कि कौन सी पार्टी सत्ता में आएगी? न्यूज रुम में बैठे सफ़ेद बालों वाले वरिष्ठ पत्रकारों से लेकर नुक्कड़ पर चाय पी रहे कॉलेज के छात्रों तक हर कोई देश के राजनीतिक भविष्य के बारे में बात कर रहा है। विभिन्न राजनीतिक दलों ने कुल मिलाकर 3000 से भी अधिक रैलियों के जरिए भारत के चप्पे-चप्पे तक पहुँचने की कोशिश की है। अकेले प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की ही 200 से अधिक रैलियां हो चुकी हैं। क्या मोदी फिर से सत्ता में लौटेंगे ? क्या 2014 में पूर्ण बहुमत से सत्ता में आई हुई भारतीय जनता पार्टी इस बार भी बहुमत हासिल करेगी ? हर कोई अपना-अपना अनुमान लगाने में लगा हुआ है। भारतीय जनता और मतदाता अब अधिक सजग एवं समझदार हो गए हैं। केवल सुने-सुनाए आंकड़ों पर विश्वास रखने की बजाय अब वे खुद अपने निजी अनुभव और तुलनात्मक राजनीतिक दृष्टी से चुनाव परिणामों के अनुमान लगा रहे हैं। ऐसे ही मतदाताओं के लिए हम लाए हैं चुनाव का “प्रेडिक्शन मैप” जिस में आप खुद अपना अनुमान लगाते हुए यह देख सकते हैं कि सत्रहवें लोकसभा चुनाव के परिणाम क्या हो सकते हैं ?
भारत में हर राज्य और हर लोकसभा सीट के लिए अलग-अलग मुद्दों पर चुनाव लड़े जाते हैं। इसलिए देश के कुछ चुनिंदा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों का अपवाद छोड़ें तो कई जगहों पर 'वोट स्विंग' होते हुए देखे जाते हैं। खास कर भारतीय जनता पार्टी के साथ यह कई बार देखा गया है। यदि 2009 और 2014 के चुनाव परिणामों पर नज़र डाली जाए तो मालूम होगा कि इन दो चुनावों में भारतीय जनता पार्टी के मतों में दस प्रतिशत (10%) का इजाफ़ा हुआ है। यह “स्विंग” या अस्थिरता 545 में से 209 सीट्स पर देखी जा रही है। इस में से ज्यादातर “वोट-स्विंग” ये उत्तर प्रदेश (64/70 सीट्स), महाराष्ट्र (20/47 सीट्स), राजस्थान (19/25 सीट्स), पश्चिम बंगाल (21/42), गुजरात (16/26) और मध्यप्रदेश (17/27 सीट्स) इन राज्यों में देखे गए हैं। 209 में से 157 सीट्स तो इन्हीं छह राज्यों में हैं। साथ ही उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान और पश्चिम बंगाल की कुछ सीटों पर भाजपा को मिले हुए वोट्स में पंद्रह प्रतिशत (15 %) से भी अधिक इजाफ़ा देखा गया है।
चुनाव के परिणाम 23 मई तक आ ही जाएँगे, मगर इस विषय में कोई भी सटीक भविष्यवाणी करने से पहले कुछ मुद्दों पर विचार करना जरुरी है । जैसे मीडिया रिपोर्ट्स द्वारा बताया जा रहा है – क्या मोदी लहर अब भी इतनी मजबूत है जिसके चलते बीजेपी अपने वोट शेयर को बनाए रखेगी या बढ़ा पाएगी? क्या मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात में भाजपा फिर से अपनी मजबूत पकड़ बना पाएगी ? क्या ओड़िशा और पश्चिम बंगाल में मतदाताओं का झुकाव भाजपा की ओर बढेगा ?
“वोट-स्विंग” का अनुमान लगाते हुए इन सभी कारकों का ध्यान रखना जरुरी होगा। ठोस जबाब जल्द ही मिलने को हैं पर तब तक आप भी लगाइए अनुमान और देखिए क्या हो सकता है देश का राजनीतिक भविष्य।
 
 
ऊपर दिए गए इंटरेक्टिव मानचित्र के साथ बस राज्य का चयन करें, अपने अनुमान के अनुसार स्विंग कारक को समायोजित करें और सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों से अपना अनुमान साझा करें।