ट्विंकल की हत्या पर कहां गए तख्ती लहराकर शर्मिंदा होने वाले
   दिनांक 08-जून-2019
सबसे बड़ा सवाल है वो सोच कि मामूली मारपीट की घटना को रोजेदार पर जुल्म का रंग दो और दूसरी तरफ रमजान में एक ढाई साल की बच्ची को क्रूरता से मार डालो.
कठुवाकांड के विरोध में बॉलीवुड के सेलिब्रिटीज विरोध प्रदर्शन करते हुए 
अलीगढ़ की ढाई साल की ट्विंकल की हत्या पर पूरा देश स्तब्ध है. गुस्से में है. लोग मांग कर रहे हैं, कातिल असलम और जाहिद को फांसी दो. कोई कहता है, पेट्रोल डालकर जला दो. वकील कह रहे हैं, इनका मुकदमा नहीं लडेंगे. गुस्से के कारण स्वाभाविक हैं. ढाई साल की ट्विंकल का जब शव मिला, तो वह दरिंदगी के अवशेष थे. पोटली में लिपटा गला हुआ. हाथ अलग. आंखें नोंच ली गईं. प्राइवेट पार्ट्स नदारद थे. तेजाब में नहलाया हुआ. बॉलीवुड से सड़क तक गुस्सा है. साथ ही सवाल भी. सेक्यूलर और लिबरल्स का एक तबका बस इसलिए खामोश है कि कातिल मुसलमान हैं. ये वही लोग हैं, जिन्होंने कठुआ की आसिफा के लिए तख्तियां लहराई थीं. और सबसे बड़ा सवाल. वो सोच, कि मामूली मारपीट की घटना को रोजेदार पर जुल्म का रंग दो और दूसरी तरफ रमजान में एक ढाई साल की बच्ची को क्रूरता से मार डालो. ट्विंकल हत्याकांड पर हिंदू समाज गुस्से में है. इसी बीच बाराबंकी से खबर आ रही है. आठ साल की बच्ची का अपहरण कर बलात्कार के बाद मरणासन्न हालत में छोड़ दिया. आरोपी का नाम मोहम्मद सलीम है. हालिया घटनाएं किसी पैटर्न की ओर इशारा कर रही हैं. क्या देश में कुछ खतरनाक कर डालने का पूर्वाभ्यास है.
आरोपी मोहम्मद जाहिद और मोहम्मद असलम 
क्या है मामला
टप्पल में 30 मई को एक ढाई साल की बच्ची लापता हुई. दो जून को घर से सौ मीटर दूर कूड़ेदान पर एक पोटली में ट्विंकल का शव सड़ी-गली हालत में मिला. ट्विंकल के लापता होते ही उसके पिता ने पुलिस को सूचना दी. पहले ही दिन पिता ने शक जताया था कि पड़ोस के ही जाहिद ने उसकी बेटी का अपहरण किया है. जाहिद ने ट्विंकल के पिता से पांच हजार रुपये उधार लिए थे. जब पैसे वापस मांगे गए, तो जाहिद ने परिणाम भुगतने की धमकी दी. लेकिन पुलिस हाथ पर हाथ रखे बैठी रही. परिवार थाने के चक्कर काटता रहा. जब दो तारीख को शव मिला, तो पुलिस नींद से जागी. पुलिस ने जाहिद को हिरासत में लेकर पूछताछ की. उसने बताया कि उसने पड़ोसी असलम के साथ मिलकर बच्ची की हत्या की थी.
 
ट्विंकल शर्मा की पोस्ट -मार्टम रिपोर्ट  
शव की हालत
- शव को कूड़ेदान पर कुत्ते नोंचते रहे. पोस्टमार्टम के समय डॉक्टर जिस हिस्से को पकड़ने की कोशिश करते, वह अलग होकर हाथ में आ जाता.
- एक हाथ शव से अलग था. पैर को तोड़ा गया था.
- पीठ पर कटे के निशान थे, शव में कीड़े पड़ चुके थे.
- बाल जल चुके थे. ऐसा लग रहा था कि एसिड डालकर शव को गलाने की कोशिश की गई हो.
- आंख के सॉफ्ट टिश्यू गायब थे. प्राइवेट पार्ट्स का भी यही हाल था.
- पोस्टमार्टम में शव की हालत ऐसी होने के कारण बलात्कार की पुष्टि नहीं हो सकी. स्लाइड को जांच के लिए भेजा गया है.
एजेंडेबाज कहां है 
सब जानते हैं, इस देश में एक गैंग है. वह तभी जागता है, जब मुद्दा मुस्लिम पर जुल्म के उसके नैरेटिव पर फिट बैठता हो. कठुआ में आसिफा के मामले में ये गैंग हिंदू और हिन्दुस्तान के नाम पर शर्मिंदगी की तख्तियां उठाए सोशल मीडिया से लेकर दुनिया तक में घूमा था. लेकिन इनके सलेक्टिव विरोध को अब ट्विंकल पर हुए जुल्म पर लकवा मार गया है. सबसे बड़ा सुबूत बॉलीवुड की अभिनेत्री सोनम कपूर आहुजा. सोनम दरअसल करीना कपूर खान, शबाना आजमी, जावेद अख्तर, स्वरा भास्कर जैसे टुकड़े गैंग की मेंबर हैं. आसिफा के मामले में ट्विटर पर सोनम एक तख्ती लेकर प्रकट हुईं. आसिफा के मामले में वह हिन्दुस्तान पर शर्मिंदा तक हो बैठीं. अब ट्विंकल की बारी आई, तो उनका दूसरा चेहरा सामना आया. अब वह लिखती हैं, ट्विंकल के साथ जो हुआ दहलाने वाला है. मैं लोगों से अपील करती हूं कि वह इस घटना के नाम पर अपना स्वार्थी एजेंडा चलाने वालों से सावधान रहे हैं. अब ट्विटर पर लोग उनसे पूछ रहे हैं कि हिन्दुस्तान अब शर्मिंदा क्यों नहीं. अगर ट्विंकल के कातिलों के धर्म पर बात करना स्वार्थी एजेंडा है, तो कठुआ के आसिफा मामले में वह क्या अपना एजेंडा नहीं चला रही थीं. अशोक पंडित ने सोनम से पूछा कि अब आसिफा और ट्विंकल पर आपकी प्रतिक्रियाएं अलग क्यों. अब आपके हाथ की तख्ती कहां गईं. अब आप आरोपियों के नाम क्यों नहीं ले रहीं. सोनम के पास कोई जवाब नहीं है. वह जवाब में हिंदुत्व की आड़ में छिपना चाहती हैं. कहती हैं क्योंकि मैं हिंदू और कर्म में यकीन करती हूं. प्रेम भदौरिया नाम के एक शख्स ने उनके इस पाखंड को चकनाचूर किया. सोनम से पूछा कि आसिफा मामले के समय क्या आप हिंदू नहीं थी. ताजा-ताजा हिंदू बनी हो.
 
 
सिद्धार्थ मल्होत्रा, अभिषेक बच्चन, आयुष्मान खुराना, रवीना टंडन, सनी लियोनी, गुल पनाग समेत तमाम सेलिब्रिटी ने ट्विंकल हत्याकांड पर दुख और रोष जताया है. लेकिन सबसे मजबूती से बात कोयना मित्रा ने रखी. उनका कहना है-सेक्यूलर बने रहना शायद बस हिंदुओं की जिम्मेदारी है, इसलिए आपके अंदर ये घटना गुस्सा नहीं पैदा करती. मैं गर्व से कहती हूं कि मैं हिंदू हूं. मैं इतनी लिबरल नहीं कि तुम्हारे बलात्कारियों तक का समर्थन करूं. मैं आज से तुम और तुम जैसों की खातिर कतई सेक्यूलर नहीं हूं. आसिफा के नाम पर तख्तियां लहराने वाले करीना कपूर खान, स्वरा भास्कर, कल्कि कलोचन, ऋचा चड्ढा, विशाल डडलानी, बादशाह, इशा गुप्ता, मिनी माथुर, राधिका आप्टे, कोंकणा सेन के लिए क्या कोयना ये जवाब उनकी हकीकत दर्शाने वाला नहीं है. बहरहाल, ये सब कुछ लिखे जाने तक लिबरल गैंग की कोई तख्ती, कोई आंसू, कोई मोमबत्ती नजर नहीं आई थी.
 
क्या कोई पैटर्न विकसित हो रहा है
हाल ही की कुछ घटनाओं पर गौर करें. इन घटनाओं में पीड़ित हिंदू हैं और हमलावर मुस्लिम. कहीं ये डायरेक्ट एक्शन जैसी किसी साजिश का पूर्वाभ्यास तो नहीं है.
 
दिल्ली: संजय नारंग पीट पीटकर मॉब लिंचिंग
दिल्ली: अंकित सक्सेना गर्दन काटकर हत्या
दिल्ली: ध्रुव त्यागी चाकुओं से गोदकर हत्या
दिल्ली: पड़ोसी द्वारा पति, पत्नी व 7 वर्षीय बालक की हत्या
मंदसौर: 5 वर्षीय बच्ची का दो युवकों द्वारा बलात्कार और फिर चाकुओं से गोद देना
अलीगढ़ : 3 वर्षिय बच्ची का रेप और बर्बर हत्या,
जमुई : 8 वर्षीय निशा का रेप फिर जघन्य हत्या,
मथुरा : भरत यादव की मॉब लिंचिंग,
गोंडा : विष्णु गुप्ता की जिंदा जलाकर हत्या,
बाराबंकी : सुभाषिनी यादव का रेप फिर हत्या
बाराबंकी : 8 साल की बच्ची का रेप फिर हत्या
कानपुर :बजरंग दल संयोजक की दरोगा द्वारा हत्या
इंदौर : नाखुश होने पर डॉक्टर की पत्नी की हत्या
दिल्ली : शाहरुख द्वारा गाड़ी दौड़ाने पर नमाजियों द्वारा बसों पर हमला. 
 
 
अब तक क्या

- 30 मई को टप्पल से ढाई साल की ट्विंकल लापता हुई. पुलिस में पिता ने मोहल्ले के जाहिद पर शक जताते हुए सूचना दी. पुलिस ने कुछ नहीं किया.
- 2 जून को कूड़े के ढेर पर ट्विंकल का सड़ा-गला शव मिला. पोस्टमार्टम में दरिंदगी की बात सामने आई. बलात्कार की पुष्टि नहीं.
- संबंधित थाने के पांच पुलिसकर्मी निलंबित किए गए. पूरे देश में आक्रोश की लहर के बाद जाहिद और असलम की गिरफ्तारी.
- ट्विटर पर ट्विंकल के लिए चार हैशटैग ट्रेंड कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर भी भारी गुस्सा.
- सात जून को एसआईटी का गठन. रासुका लगाने की तैयारी. मामले की सुनवाई फास्टट्रैक कोर्ट में होगी.
- आरोपी असलम के खिलाफ 2014 में पत्नी ने बेटी के साथ बलात्कार का मुकदमा दर्ज कराया था. फिलहाल जमानत पर था. दिल्ली में एक महिला के साथ छेड़छाड़ और फिर एक बच्चे का अपहरण किया.
- पूरे देश में प्रदर्शन और कैंडल मार्च. अलीगढ़ के वकीलों ने किया फैसला कि कोई केस नहीं लड़ेगा. बच्ची के मां और बाप ने मांगी फांसी की सजा.