पुलिस पर जानलेवा हमला कर रहे गोतस्‍कर
   दिनांक 16-जुलाई-2019
गोस्तकरी करने वालों के हौसले इतने बुलंद हैं कि वह गोस्तकरी और गोकशी रोकने की कोशिश कर रही पुलिस पर भी जानलेवा हमला करने से नहीं चूक रहे हैं। पिछले एक सप्ताह के दौरान प्रयागराज , आजमगढ़ और गोरखपुर में ऐसी तीन घटनाएं हो चुकी हैं.

गोकशी के आरोपी को पकड़ने गई पुलिस पर हमला करती भीड़
प्रदेश में गो-तस्करी करने वाले मुसलमानों को जहां कहीं भी पुलिस ने गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही है वहां वे पुलिस पर जान लेवा हमला करने से भी नहीं हिचक रहे हैं। अभी हाल ही में आजमगढ़, गोरखपुर एवं प्रयागराज जनपद में इस तरह की तीन घटनाएं हुई हैं. तीनों की घटनाओं में पुलिस पर जानलेवा हमला किया गया.
प्रयागराज जनपद का मरियाडीह गांव मुस्लिम बहुल है पुलिस के पास यहां लगातार गोकशी होने की सूचनाएं आती हैं. मार्च 2019 में यहां के रहने वाले नुरैन के खिलाफ गो-वध अधिनियम का मामला दर्ज हुआ था. तभी से नुरैन फरार चल रहा था. गत 13 जुलाई को पुलिस को सूचना मिली कि नुरैन अपने घर पर मौजूद है. पुलिस ने दबिश देकर नुरैन को गिरफ्तार कर लिया. मगर मरियाडीह गांव की महिलाओं और युवकों ने पुलिस पर जान लेवा हमला कर दिया. हमला करने वालों में भारी संख्या में महिलाएं भी थीं. भीड़ की तरफ से पुलिस टीम पर फायरिंग की गई. भीड़ ने आरोपी नुरैन को छुड़ा लिया और वहां से फरार करवा दिया. इस हमले में 7 पुलिस कर्मी घायल हो गए. इस मामले में 18 लोगों के खिलाफ नामजद एवं 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का प्रयास, सरकारी कार्य में बाधा एवं बलवा समेत अन्य मामलों में एफ.आई.आर दर्ज की गई है.
14 जुलाई को आजमगढ़ जिले में पुलिस को गोकशी किए जाने की सूचना मिली। मौके पहुंची पुलिस ने गोकशी करने जा रहे 14 लोगों को दबोच लिया. इस बीच पुलिस को मौके से काफी संख्या में हथियार भी बरामद हुए. पूछताछ के दौरान पता चला कि वहां से हथियारों की अवैध बिक्री भी की जा​ती थी. मौके से मुख्य अभियुक्त महबूब आलम सहित जवाद अहमद ,रिजवान अहमद , मोहम्मद जैस, फैज़ अहमद. मोहम्मद तारिक, आरिफ , ज़मील अहमद, अब्दुल, टीपू आदि को गिरफ्तार किया गया.
14 जुलाई को गोरखपुर में गोस्तकरी किए जाने की सूचना मिलने पर जब पुलिस मौके पर पहुंची तो पुलिस टीम पर जानलेवा हमला किया गया. गोरखपुर जनपद के भटहट चौकी प्रभारी विनोद सिंह को सूचना मिली कि एक छोटे टैंपों में गायों की तस्करी करके ले जाया जा रहा है. पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश् की तो गो तस्करों ने पुलिस को टैंपों से कुचलने की कोशिश की. इस दौरान एक पुलिसकर्मी घायल हो गया. इसके बाद भी पुलिस ने टीम ने पीछा करना जारी रखा तो गोस्तकरों ने पुलिस पर पथराव कर दिया. करीब तीन किलोमीटर पीछा करने के बाद पुलिस ने गो-तस्कर बाबू आलम को गिरफ्तार करने में कामयाब हुई जबकि एक आरोपी मौके से फरार होने में कामयाब हो गया.