‘‘जनजाति समाज के विकास एवं हितों की रक्षा हेतु प्रतिबद्ध हों’’
   दिनांक 17-जुलाई-2019

पिछले दिनों नई दिल्ली स्थित कांस्टीट्यूशन क्लब में जनजाति समाज के सांसदों के अभिनन्दन एवं स्नेह-मिलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित थे वनवासी कल्याण आश्रम के अध्यक्ष श्री जगदेवराम उरांव। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि लोगों ने भारी बहुमत देकर भाजपा को देश में नई सरकार बनाने का जनादेश दिया है। देश ने यह जनादेश प्रधानमंत्री की सुरक्षा नीतियों, राष्ट्रवाद और विकास के लिए दिया है। देश का जनजाति समाज भी इसमें पीछे नहीं रहा। उन्होंने कहा कि विकास की भूख जनजाति समाज में भी उतनी ही है, जैसी बाकी लोगों में। इसलिए जनजातीय समाज के लिए की 47 आरक्षित सीटों में से 31 भाजपा को मिली हैं, उसके सहयोगी दलों और निर्दलीय सांसदों को जोड़ दिया जाए तो यह संख्या 35 हो जाती है। इसलिए सभी नव-निर्वाचित जनजाति सांसदों की जिम्मेदारी है कि वे जनजाति समाज के विकास और उनके न्यायोचित अधिकारों की रक्षा के लिए हमेशा प्रतिबद्ध रहें, क्योंकि कोई भी सांसद जिस दल के टिकट पर जीत कर आया है, वह केवल उसी का सदस्य नहीं है, वह जनजाति समाज का भी प्रतिनिधि है। कार्यक्रम में उपस्थित जनजाति कार्य मंत्री श्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि समाज ने मोदी जी पर जो विश्वास दिखाया है, यह सरकार उस विश्वास को पूरा करते हुए पूरी ताकत से जनजातियों के शैक्षिक और आर्थिक विकास को समर्पित रहेगी।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, उत्तर क्षेत्र के संघचालक डॉ. बजरंगलाल गुप्त ने सभी सांसदों से आह्वान किया कि वे सरकार की नीतियों को ठीक से समझकर वनवासी समाज के उद्धार के लिए कार्य करें।
सम्मान कार्यक्रम में केन्द्रीय युवा एवं खेल मंत्री सर्वश्री किरण रिजीजू, स्टील राज्य मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते, खाद्य प्रसंस्करण मंत्री रामेश्वर तेली, जनजाति कार्य राज्य मंत्री रेणुका सिंह और भाजपा जनजाति मोर्चा के प्रमुख राम विचार नेताम सहित 34 से अधिक सांसद उपस्थित रहे।  - प्रतिनिधि