कार्यकर्ताओं की हत्या के विरोध में संघ का प्रदर्शन
   दिनांक 16-सितंबर-2019
 
 
मौन प्रदर्शन में शामिलरा.स्व.संघ एवं विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के कार्यकर्ता 
 
 
पिछले दिनों छत्तीसगढ़ में रायपुर के राम मंदिर प्रांगण में संघ के स्वयंसेवक एवं जनजाति समाज के सामाजिक कार्यकर्ताओं की हाल में हुई हत्या के विरोध में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने विशाल मौन प्रदर्शन किया। राज्यपाल, राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री व छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के नाम जिलाधीश को ज्ञापन सौंपने के बाद कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सह प्रांत संघचालक डॉक्टर पूर्णेन्दु सक्सेना ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सभी का ध्यान छत्तीसगढ़ के जनजाति क्षेत्र में हो रही हिंसात्मक गतिविधियों की तरफ आकृष्ट कराना चाहता है। हाल ही में कोंदल क्षेत्र में एक पूर्व सरपंच दादू सिंह कोरेटिया की उनके घर में घुसकर हत्या कर दी गई। दादू सिंह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक एवं सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता थे। यह घटना अपने आप में ही सबके हृदय को विदीर्ण करने वाली है। परंतु ऐसा भी नहीं है कि यही एकमात्र घटना हुई हो। हाल ही में संघ एवं अन्य सामाजिक संस्थाओं से जुड़े कई कार्यकर्ताओं को धमकियां दी गई हैं, उनके साथ हिंसात्मक व्यवहार किया गया है, हत्याएं हुई हैं एवं गांव छोड़कर जाने की स्थितियां उत्पन्न की गई हैं। संघ इस बात का आग्रही है कि समाज में अलग-अलग मत रखने वाले लोग भी परस्पर सद्भाव, सम्मान और सहकार के साथ रहें। परंतु गत कुछ समय से होने वाली घटनाओं को देखकर प्रतीत होता है कि जनजातीय क्षेत्र के जनजातीय सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक नेतृत्व की योजनाबद्ध हत्याएं करके जनजाति समाज को कमजोर करने की साजिश चल रही है। ऐसे में इसकी जांच होने के बाद आरोपियों के खिलाफ उचित दंडात्मक कार्रवाई हो। मौन प्रदर्शन में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित अन्य गणमान्यजन बड़ी संख्या में उपस्थित रहे। -प्रतिनिधि