अमेरिका के पूर्व रक्षा सचिव ने माना पाकिस्तान दुनिया का सबसे खतरनाक देश
   दिनांक 05-सितंबर-2019
पाकिस्तान और अमेरिका के रिश्ते कभी भी भरोसेमंद नहीं रहे हैं। यही कारण है कि मई 2011 में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए चलाए गए ऑपरेशन की सूचना पाकिस्तान को नहीं दी थी

 
 
अमेरिका के पूर्व रक्षा सचिव जेम्स मैटिस का कहना है पाकिस्तान का परमाणु हथियारों का जखीरा सुरक्षित हाथों में नहीं है
 
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त होने के बाद भारत को लगातार युद्ध की धमकी दे रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और रेलमंत्री शेख राशिद द्वारा परमाणु हमले की गीदड़ भभकी दी जा रही है। हर घर में बंदूक होने का दावा करने वाला पाकिस्तान पूरी दुनिया में बेनकाब हो चुका है। अब अमेरिका के पूर्व रक्षा सचिव जेम्स मैटिस ने पाकिस्तान को दुनिया का सबसे खतरनाक देश बताया है। हाल ही में आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए FATF (Financial Action Task Force) की सहयोगी संस्था APG (Asia-Pacific Group) ने पाकिस्तान को प्रतिबंधित सूची में डाल दिया था।
अमेरिका भी कई बार पाकिस्तान को आतंकी गतिविधियां रोकने के लिए चेतावनी दे चुका है। FATF से पहले भी कई अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संगठन पाकिस्तान पर इसी तरह के प्रतिबंध लगा चुके हैं।
अब अमेरिका के पूर्व रक्षा सचिव जेम्स मैटिस ने पाकिस्तान को करारा झटका दिया है। उन्होंने पाकिस्तान को दुनिया के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया है।
उल्लेखनीय है कि अमेरिका के पूर्व रक्षा सचिव जेम्स मैटिस, जनवरी 2019 में ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन से अलग हुए थे। उन्होंने ताजा हालतों को लेकर पाकिस्तान को लताड़ लगाई है। उन्होंने कहा, 'पाकिस्तान, पड़ोसी देश भारत को दुश्मन की नजर से देखता है। उसकी पूरी राजनीति भारत विरोध पर टिकी है।' जेम्स मैटिस ने कहा, 'वह पाकिस्तान को दुनिया का सबसे खतरनाक देश मानते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि सैन्य सेवा में उनका लंबा अनुभव रहा है। सैन्य सेवा के दौरान और राष्ट्रपति ट्रंप की कैबिनेट का हिस्सा रहने के दौरान वह दशकों तक पाकिस्तान के संपर्क में रहे हैं और उसकी कार्यप्रणाली से भली भांति वाकिफ हैं।'अमेरिकी रक्षा सचिव रहते हुए उन्होंने अफगानिस्तान में पाकिस्तान की नीतियों को भी आकार दिया है। इससे पहले वह अफगानिस्तान में पहले यूएस मरीन कममांडर के तौर पर भी तैनात रह चुके हैं। इसके अलावा वह यूएस सेंट्रल कमांड के भी प्रमुख रह चुके हैं। मैटिस ने कहा कि अब तक उन्होंने जितने भी देशों के साथ काम किया, उसमें पाकिस्तान सबसे खतरनाक है। ऐसा पाकिस्तान के कट्टर समाज और उनके पास मौजूद परमाणु हथियारों की वजह से है। मैटिस ने पाकिस्तान के खिलाफ ये टिप्पणी अपनी आत्मकथा 'Call Sign Chaos' में लिखी है। इस किताब में उन्होंने लिखा है कि 'पाकिस्ताान के पास दुनिया में सबसे तेजी से विकसित होने वाला परमाणु शस्त्रागार है, जो आतंकवादियों के हाथों में पड़ सकता है। यह पूरी दुनिया के लिए बहुत विनाशकारी साबित होगा।' इन हथियारों के बारे में वहां नेता सार्वजनिक रूप से घमंड के साथ बयान देते रहते हैं। हाल ही में पाकिस्तानी प्रधान मंत्री इमरान खान के मंत्री मंडल में शामिल नेताओं ने भी परमाणु हथियारों के इस्तेमाल को लेकर खुलेआम कई बयान दिए हैं। पाकिस्तान भी भारत पर परमाणु हमला करने की बात कई बार कह चुका है। पाकिस्तानी नेता भी अपने भविष्य की परवाह नहीं करते हैं। उन्होंने पाकिस्तान-अमेरिका के रिश्तों पर भी स्पष्ट राय दी है। मैटिस ने अपनी आत्मकथा में कहा है कि पाकिस्तान और अमेरिका के रिश्ते कभी भी भरोसेमंद नहीं रहे हैं। यही कारण है कि मई 2011 में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए चलाए गए ऑपरेशन की सूचना पाकिस्तान को नहीं दी थी। यूएस सील कमांडों द्वारा लादेन को खोजने और मारने के लिए चलाया गया ये अभियान बेहद गोपनीय था। अभियान पूरा होने के बाद पाकिस्तान को इसका पता चला था। जब अमेरिका ने यह अभियान चलाया था उस समय मैटिस यूएस सेंट्रल कमांड के प्रमुख थे। उनकी जिम्मेदारी पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अमेरिकी सैन्य अभियानों पर निगरानी रखने की थी।