कानपुर में मनाया गया विहिप का स्थापना दिवस
   दिनांक 06-सितंबर-2019
स्थापना दिवस समारोह में अपने विचार व्यक्त करते श्री अम्बरीष।
 
 
पिछले दिनों विश्व हिन्दू परिषद्, कानपुर महानगर द्वारा विहिप का स्थापना दिवस समारोह आयोजित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में विश्व हिन्दू परिषद्, पूर्वी उत्तर प्रदेश के संगठन मंत्री श्री अम्बरीष उपस्थित थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि विश्व हिन्दू परिषद् अखिल विश्व में रहने वाले सभी हिन्दुओं के मन में हिन्दुत्व का भाव जागृत करने और उनको संगठित करने हेतु कार्य कर रही है।
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के शुभ मुहूर्त पर 1964 को मुम्बई स्थित सांदीपनी आश्रम में विश्व हिन्दू परिषद् की स्थापना हुई थी। उन्होंने कहा कि इन 55 वर्ष के कालखण्ड में 1984 से श्रीराम जन्मभूमि आन्दोलन, 1996 में बाबा अमरनाथ की यात्रा को आतंकवादियों की धमकी के बाद बजरंग दल के 50,000 से अधिक कार्यकर्ताओं ने कश्मीर घाटी स्थित पहलगाम में पहुंचकर अमरनाथ यात्रा को भव्य और दिव्य स्वरूप प्रदान किया था। 2005 में बाबा बूढ़ा अमरनाथ यात्रा को शुरू कराने और 2007 में रामसेतु को बचाने हेतु पूरे देश में ‘चक्का जाम’ करने आदि का काम विहिप ने किया। प्रतिनिधि
 
विहिप के स्थापना दिवस पर वृक्षारोपण
 
गत 25 अगस्त को नई दिल्ली में विहिप के 55वें स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें छोटे बच्चों से लेकर महिलाओं व वरिष्ठ नागरिकों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। अधिकांश पौधे बच्चों के नाम पर रखकर उन्हें उनका संरक्षक नियुक्त किया गया। अनेक लोगों ने अपने माता-पिता, परिजनों व पूर्वजों के नाम पर पौधे लगाकर उनकी सुरक्षा का संकल्प लिया। इस अवसर पर विश्व हिन्दू परिषद् के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री विनोद बंसल ने कहा कि पर्यावरण की रक्षा तथा जल-वायु की शुद्धता व संरक्षण हिन्दू जीवन मूल्यों का अभिन्न अंग रहा है, जो कि सम्पूर्ण प्राणी जगत के लिए आज महत्वपूर्ण कार्य बन गया है। उन्होंने पर्यावरण की रक्षार्थ प्रत्येक व्यक्ति को आगे आने का आह्वान किया। इस अवसर पर प्रसिद्ध गायक श्री महेश लखेड़ा ने गुरु गोबिन्द सिंह जी महाराज के हिन्दू धर्म व राष्ट्र की रक्षार्थ तीन पीढ़ियों के बलिदान को नमन करते हुए ‘पिता वारिया ते लाल चार बारे, ते हिन्द तेरी शान बदले...’ नामक गीत गाते हुए पर्यावरण प्रेम पर प्रकाश डाला। प्रतिनिधि
Tags: