उर्स में हिंदुओं को बुलाया धोखे से प्रसाद के नाम पर भैंस का मीट खिलाया
    दिनांक 07-सितंबर-2019
हिंदुओं की तरफ से थाने में शिकायत करने के बाद 43 लोगों के खिलाफ एफ.आई.आर दर्ज की गई है.
 
उतर प्रदेश के महोबा जनपद में बीते दिनों पीर बाबा की मजार पर उर्स का आयोजन किया गया. उर्स के आयोजन के दौरान आस - पास के 13 गांवों के लोगों को भी निमंत्रण दिया गया था. भाई-चारा कायम करने के नाम पर उर्स के आयोजक ने हिन्दुओं को भी बुलाया था. उर्स में शामिल होने पहुंचें हिन्दुओं को प्रसाद के नाम पर धोखे से भैंसे के मांस की बिरयानी खिलाई गई. जब कुछ लोगों की प्लेट में भैंस का मांस निकला तब इस पर हंगामा शुरू हुआ. हिन्दुओं ने इस बात पर नाराजगी जाहिर की और पंचायत बुलवाई गई. पंचायत ने उर्स के आयोजक पर पचास हजार का जुर्माना लगाया मगर बाद में यह मामला तूल पकड़ गया. हिन्दुओं को धोखे से बिरयानी खिलाने वाले 43 लोगों के खिलाफ एफ.आई.आर दर्ज की गई.
बता दें कि यह मामला महोबा जनपद के चरखारी कोतवाली के सालट गांव का है. इस गांव में एक पीर बाबा की मजार है. 31 अगस्त को पीर बाबा की मजार पर उर्स का आयोजन किया गया और वहां पर 13 गांव के लोगों को बिरयानी खिलाई गई. उर्स का आयोजन कल्लू काजी ने किया था. कल्लू काजी ने ही बड़ी संख्या में हिन्दुओं को आमंत्रित किया गया था. जब बिरयानी हिन्दुओं को परोसी गई तो उसमे बड़े जानवर की हड्डी पाई गई. इस पर वहां हंगामा शुरू हो गया. ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि कल्लू काजी ने धोखे से प्रसाद के नाम पर भैंस के मांस की बिरयानी हिन्दुओं को खिलाई। इसके चलते हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची। इस मामले के तूल पकड़ने के बाद पंचायत में कल्लू काजी पर पचास हजार का जुर्माना लगा कर मामले को रफा-दफा किया जा रहा था तभी इस प्रकरण की जानकारी विधायक ब्रज भूषण राजपूत को मिली.
विधायक ब्रज भूषण राजपूत ने कहा कि " देश के सभी मजारों की जांच होनी चाहिए. उर्स में धोखे से मांसाहारी बिरयानी खिलाकर हिन्दुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया गया है." इस मामले में विधायक के हस्तक्षेप के बाद पुलिस सक्रिय हुई. पुलिस ने काजी कल्लू . शहादत , रशीद , रमजान, छुट्टन, पप्पू, नजीर, मजीद, कमरुदीन, अंसार, अकरम समेत 23 लोगों के खिलाफ नामजद और 20 अज्ञात के खिलाफ एफ.आई.आर दर्ज कर ली है. इस मामले में एफ.आई.दर्ज होने के बाद सालट गांव के कई मुसलमान गांव छोड़ कर फरार हो गए हैं .