पीडि़तों की पीड़ा हरी केंद्र सरकार ने
   दिनांक 13-जनवरी-2020
जनसंख्या नियंत्रण कानून, सिविल कोड, आय से अधिक संपत्ति पर अंकुश को लेकर भी सख्त निर्णय लेने होंगे। इस अवसर पर गोष्ठी के अध्यक्ष डॉ. प्रदीप चौहान ने भी अपने विचार रखे।
 a_1  H x W: 0 x 
संगोष्ठी को संबोधित करते श्री श्याम लाल जांगड़ा 
 
पिछले दिनों पंचनद शोध संस्थान द्वारा कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के बीएड कॉलेज में नागरिकता संशोधन कानून पर एक संगोष्ठी संपन्न हुई। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित थे पूर्व न्यायाधीश श्री श्यामलाल जांगड़ा। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यह कानून भारत के किसी नागरिक के खिलाफ नहीं है। यह पड़ोसी देशों के अल्पसंख्यकों को राहत देता है और उनके आंसू पोंछता है। हकीकत में देखें तो यह काम पहले होना चाहिए था और इनकी पीड़ा सुनी जानी चाहिए थी, लेकिन ऐसा संभव नहीं हो सका। पर अब उनकी समस्याओं का समाधान हुआ है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार की कठोर निर्णय लेने की प्रवृत्ति ने देश को सुदृढ़ बनाया है। जनसंख्या नियंत्रण कानून, सिविल कोड, आय से अधिक संपत्ति पर अंकुश को लेकर भी सख्त निर्णय लेने होंगे। इस अवसर पर गोष्ठी के अध्यक्ष डॉ. प्रदीप चौहान ने भी अपने विचार रखे। *