शाहीन बाग से महिला डॉक्टर को जान बचाकर भागना पड़ा
   दिनांक 18-जनवरी-2020
लड़कों की भीड़ ने मुझे घेर लिया। मुझे लगा आज मेरी जान चली जाएगी और मैं घर जिंदा नहीं पहुंच पाउंगी। यहां तक कि कुछ लड़कियां मुझे कहीं अलग ले जाने लगीं तो मैंने कहा कि नहीं रास्ता मुझे पता है, भीड़ चिल्लाने लगी नहीं वीडियो डिलीट करो, मैं बड़ी मुश्किल से जान बचाकर वहां से निकली
शाहीन बाग में पिछले एक महीने से नागरिकता संशोधन कानून को लेकर धरने पर बैठी भीड़ कितनी शांतिप्रिय है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया ज सकता है। वहां गई एक महिला डॉक्टर को भीड़ से जान बचाकर भागना पड़ा। डॉक्टर का कसूर सिर्फ इतना था कि वह लोगों से उनके प्रदर्शन के बारे में पूछकर उनका वीडियो बना रही थी। तभी भीड़ ने उन्हें घेर लिया। बुर्का पहनी हुईं महिलाएं और मुसलमानों की भीड़ उनके चारों तरफ जमा हो गई, बड़ी मुश्किल से वह वहां से जान बचाकर निकलीं। यह हम नहीं कह रहे हैं कि बल्कि डॉक्टर ने इस संबंध में अपने ट्विटर हैंडल से एक वीडियो ट्वीट किया है।
यह डॉक्टर हैं, डॉ. दीपा शर्मा, मूल रूप से जयपुर की रहने वाली दीपा वीडियो में बता रही हैं कि वह जयपुर से हैं, प्रोफेशन से डॉक्टर हैं, वह किसी काम से दिल्ली आई हुई थीं। मैं जयपुर वापस जाने वाली थी। शाहीन बाग में जो प्रदर्शन चल रहा है मैंने सोचा कि यह क्यूं हो रहा है तो मैं एक बार वहां जाकर लोगों से बात करती हूं। लोगों के विचार जानती हूं। मैंने सोचा कि जाकर देखती हूं ताकि मैं भी उनकी बात सुनकर सब लोगों तक उनकी बात पहुंचा सकूं। मेरे मन में भी कुछ सवाल थे तो मैं वहां पहुंच गई। हालांकि सब लोगों ने मुझे मना किया था कि वहां पर नहीं जाना है, वहां खतरा है। फिर भी मैंने सोचा कि बार जाकर देखा जाए क्या पता लोगों ने अफवाह उड़ा रखी हो, मेेट्रो के माध्यम से मैं वहां गई। मैंने वहां एक बुजुर्ग व्यक्ति से बात की और उनकी अनुमति से उनका एक वीडियो बनाया। उनसे पूछा कि वह प्रदर्शन क्यों कर रहे हैं। वो जो भी बात बोलना चाह रहे थे मैं सिर्फ उसका वीडियो बना रही थी, तभी भीड़ ने मुझे घेर लिया। मैंने कहा कि मैं एक स्टूडेंट हूं और बस मैं आप लोगों की आवाज जनता तक पहुंचाने के लिए आई हूंं। भीड़ ने मुझसे कार्ड के बारे में पूछा, मैंने मना किया तो कहा कि तुरंत यह वीडियो डिलीट कर नहीं तो घर नहीं जाने देंगे। मैंने कहा, मैंने कुछ नहीं किया सिर्फ इनसे पूछकर इनका वीडियो बनाया। तो भीड़ ने कहा नहीं, वीडियो डिलीट करो नहीं तो जाने नहीं देंगे, वहां औरतें भी आ गईं। लड़कों की भीड़ ने मुझे घेर लिया। मुझे लगा आज मेरी जान चली जाएगी और मैं घर जिंदा नहीं पहुंच पाउंगी। यहां तक कि कुछ लड़कियां मुझे कहीं अलग ले जाने लगीं तो मैंने कहा कि नहीं रास्ता मुझे पता है, भीड़ चिल्लाने लगी नहीं वीडियो डिलीट करो, मैं बड़ी मुश्किल से जान बचाकर वहां से निकली।